Assembly Banner 2021

पंचायत चुनाव में आरक्षण से नहीं हैं संतुष्ट, तो सुधार करवाने का आज है आखिरी मौका

अंदाजा लगाया जा रहा है कि 25 या 26 मार्च को चुनावों की घोषणा हो जायेगी.  (सांकेतिक फोटो)

अंदाजा लगाया जा रहा है कि 25 या 26 मार्च को चुनावों की घोषणा हो जायेगी. (सांकेतिक फोटो)

आपको लगता है कि किया गया आरक्षण गलत है तो इसे सुधरवाने का आज आखिरी दिन (Last day) है. किसी भी सीट के लिए आरक्षण से संबंधित जो भी सवाल हैं उसे लिखित रूप में बस आज सोमवार शाम तक ही जिला प्रशासन को दिया जा सकता है.

  • Share this:
लखनऊ. पंचायत चुनाव (Panchayat Election) में सरकार द्वारा किये गये आरक्षण (Reservation) को लेकर यदि आपके मन में कोई सवाल है, यदि आप किये गये आरक्षण की व्यवस्था से संतुष्ट नहीं हैं और यदि आपको लगता है कि किया गया आरक्षण गलत है तो इसे सुधरवाने का आज आखिरी दिन (Last day) है. किसी भी सीट के लिए आरक्षण से संबंधित जो भी सवाल हैं उसे लिखित रूप में बस आज सोमवार शाम तक ही जिला प्रशासन को दिया जा सकता है. आज 8 मार्च के बाद इस मामले में कोई शिकायत दर्ज नहीं की जायेगी.

बता दें कि इस काम के लिए सरकार ने सोमवार 8 मार्च तक का ही समय दिया था. किसी भी सीट पर आरक्षण से संबंधित किसी आपत्ति को दर्ज करने का आज 8 मार्च को आखिरी दिन है. पंचायत चुनाव के 5 पदों के लिए 2 और 3 मार्च को आरक्षण की सूची जारी कर दी गयी थी. 3 से 8 मार्च तक आपत्तियां मांगने का समय दिया गया था. वैसे तो पूरे प्रदेश में हजारों की संख्या में आरक्षण को लेकर आपत्तियां आयी हैं लेकिन, यदि कोई बच गया है तो उसके पास अगले कुछ घण्टों का ही समय बचा है. कल मंगलवार 9 मार्च को जिला पंचायत राज अधिकारी सभी आपत्तियों को जमा करेगा.

 25 या 26 मार्च को चुनावों की घोषणा हो जायेगी
10 से 12 मार्च तक डीएम की अध्यक्षता में बनी कमेटी इन आपत्तियों को देखेगी. यदि कमेटी को लगता है कि किसी सीट के लिए किया गया आरक्षण गलत है तो उसमें सुधार किया जायेगा. 13 और 14 मार्च को जिला प्रशासन आरक्षण की फाइनल सूची जारी करेगा. इसके बाद आरक्षण की सूची को लेकर कोई सवाल नहीं उठाया जा सकेगा. 15 मार्च को जिला प्रशासन पंचायती राज निदेशालय और राज्य निर्वाचन आयोग को सूची सौंप देगा. हालांकि, अभी तक का इतिहास यही रहा है कि आरक्षण की पहली और आखिरी सूची में कोई बदलाव नहीं होता है. लगभग सभी की सभी आपत्तियां खारिज ही कर दी जाती हैं. फिर भी व्यवस्था के तहत आपत्तियां मांगी जाती हैं. आरक्षण की सूची मिलने के हफ्तेभर में राज्य निर्वाचन आयोग चुनाव की घोषणा कर सकता है. अंदाजा लगाया जा रहा है कि 25 या 26 मार्च को चुनावों की घोषणा हो जायेगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज