अफसर दंपत्ति ने बेटी का कराया दाखिला, रातोंरात सुर्खियों में आया सरकारी स्कूल

वैसे तो सरकारी स्कूलों का जब भी जिक्र होता है तो दिमाग में बदहाल तस्वीरें ही उभरती हैं लेकिन ‘राजापुर इंग्लिश मीडियम स्कूल’ इस मामले में थोड़ा अलग है.

Prashant Pandey | News18 Uttar Pradesh
Updated: May 7, 2018, 1:02 PM IST
Prashant Pandey | News18 Uttar Pradesh
Updated: May 7, 2018, 1:02 PM IST
उत्तर प्रदेश का एक सरकारी स्कूल रातोंरात सुर्खियों में है. दरअसल इस स्कूल में पीसीएस अफसर दंपत्ति ने अपनी बेटी की एडमिशन कराया है. हर कोई एक सवाल पूछ रहा है कि पीसीएस दंपत्ति ने अपनी बेटी को प्राइवेट स्कूल में पढ़ाने के बजाए सरकारी स्कूल में क्यों भेजा, तो इसकी वजह भी काफी खास है.

वैसे तो सरकारी स्कूलों का जब भी जिक्र होता है तो दिमाग में बदहाल तस्वीरें ही उभरती हैं लेकिन ‘राजापुर इंग्लिश मीडियम स्कूल’ इस मामले में थोड़ा अलग है. ये स्कूल है तो सरकारी लेकिन बच्चों को शिक्षा देने के मामले में किसी प्राइवेट स्कूल से पीछे नहीं है. यहीं वजह है कि पीसीएस ऑफिसर अखिलेन्द्र और पल्लवी मिश्रा ने अपनी बेटी के एडमिशन के लिए इस स्कूल का चुनाव किया.

पल्लवी मिश्रा ने बताया कि उन्होंने पहले अपनी बेटी को दो प्राइवेट स्कूलों में भेजा था लेकिन उनकी बेटी स्कूल से लौटकर बिल्कुल खुश नजर नहीं आती थी. इसके बाद उन्होंने राजापुर के सरकारी स्कूल में बेटी को भेजने का निर्णय लिया. पल्लवी मिश्रा के अनुसार जबसे उन्होंने सरकारी स्कूल में बेटी का दाखिला कराया है कभी उसे स्कूल जाने के लिए मनाना नहीं पड़ा. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि उनकी बेटी का विकास सरकारी स्कूल में ज्यादा बेहतर तरीके से हो रहा है क्योंकि यहां बच्चों को प्रकृति के साथ रहकर सिखाया जाता है.

हर ब्लॉक में होंगे 5 सरकारी इंग्लिश स्कूल

योगी सरकार अब हर ब्लाक में पांच सरकारी इंग्लिश मीडियम स्कूल खोल रही है. हालांकि राजापुर स्कूल अखिलेश यादव के समय खुला था. अब इन स्कूलों के बच्चे अंग्रेजी में कविता, कहानी सुनाने के साथ अंग्रेजी में बातचीत भी करने लगे हैं. राजापुर इंग्लिश मीडियम स्कूल की हेडमास्टर ऋतु अवस्थी कहती हैं कि ‘बच्चे कच्ची मिट्टी का घड़ा हैं उन्हें तराशना कुम्हार को ही आता है. सरकारी स्कूल से बढ़िया कुम्हार (शिक्षक) कहां मिलेंगे? शिक्षा का मतलब सिर्फ ऊंची बिल्डिंगे और फर्नीचर नहीं है. सरकारी अफसरों ने हमपर भरोसा जताया है. इससे समाज के और लोगों का भरोसा भी जीतने में मदद मिलेगी.’

ये भी पढ़ें

न दूल्हा, न दूल्हन पर इस बारात में शामिल होते हैं हजारों बाराती

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 7, 2018, 11:55 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...