पिकप भवन में क्या था ऐसा जो साजिशन फुंकवा दी गई पूरी बिल्डिंग? वरिष्ठ प्रबंधक गिरफ्तार

एसएसपी कलानिधि नैथानी ने बताया कि अग्निकांड में उप प्रबंधक (कंप्यूटर) नरेंद्र कुरील और उप प्रबंधक (वित्त) मनोज कुमार गुप्ता की भूमिका भी संदिग्ध है.

News18 Uttar Pradesh
Updated: July 11, 2019, 12:38 PM IST
पिकप भवन में क्या था ऐसा जो साजिशन फुंकवा दी गई पूरी बिल्डिंग? वरिष्ठ प्रबंधक गिरफ्तार
पिकप भवन के वरिस्थ प्रबंधक टेक्निकल एनके सिंह
News18 Uttar Pradesh
Updated: July 11, 2019, 12:38 PM IST
यूपी की राजधानी लखनऊ के गोमतीनगर स्थित पिकप भवन अग्निकांड का पर्दाफाश हो गया है. जांच में खुलासा हुआ है कि बिल्डिंग में साजिशन आग लगाई गई थी. करीबियों को मदद पहुंचाने और कुछ फाइलों के लिए वरिष्ठ प्रबंधक (टेक्निकल) एनके सिंह ने पूरी बिल्डिंग ही फुंकवा दी. बुधवार को अग्निकांड की साजिश रचने के आरोप में एनके सिंह को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया था.

एसएसपी कलानिधि नैथानी के मुताबिक, अग्निकांड में उप प्रबंधक (कंप्यूटर) नरेंद्र कुरील और उप प्रबंधक (वित्त) मनोज कुमार गुप्ता की भूमिका भी संदिग्ध है. विभूतिखंड पुलिस दोनों की संलिप्तता की जांच कर रही है. पुलिस का कहना है कि मामले की जांच कर रहे अतिरिक्त निरीक्षक रमेश चंद्र पांडेय ने एनके सिंह की गतिविधियां संदिग्ध पाई थीं. पुलिस ने सीडीआर, बायोमेट्रीक पंचिंग, डेटा एनालिसिस और सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाली है.

एनके सिंह के कमरे से ही लगी थी आग

पुलिस के मुताबिक, जांच में पाया गया कि एनके सिंह के कमरे से ही आग लगनी शुरू हुई थी. एनके सिंह के पास लोन से संबंधित अहम फाइलें होती हैं. इस आग में सभी फाइलें जलकर नष्ट हो गईं. उन पर साजिशन अहम फाइलों को जलाकर नष्‍ट करने का आरोप है. अधिकांश फाइलें रिकवरी, ओटीएस व इंसेंटिव जैसे महत्वपूर्ण प्रकरणों से संबंधित थीं. जांच में साफ हुआ कि एनके सिंह किसी को फायदा पहुंचाने की कोशिश कर रहे थे. वह लोग कौन हैं, इसकी पड़ताल की जा रही है. गौरतलब है कि सीएम योगी आदित्यनाथ ने पिकप भवन अग्निकांड की जांच एडीजी इंटेलीजेंस ने को सौंपी थी. जांच के बाद गंभीर धाराओं में एफआईआर दर्ज हुई थी.

सीसीटीवी से हुआ खुलासा

पुलिस का दावा है कि सीसीटीवी कैमरों की पड़ताल में अग्निकांड के दिन एनके सिंह शाम करीब छह बजकर सात मिनट पर बायोमेटिक के पास आए थे. पंच करने का अभिनय किया था. असल में हाजिरी नहीं लगाई थी. इसकी रिकॉर्डिग सीसीटीवी कैमरे में मौजूद है. आरोपित ने छह बजकर 12 मिनट पर पंच आउट किया, लेकिन तब तक कैमरे बंद हो गए थे. ऐसे में एनके सिंह के परिसर में उपस्थित होने अथवा नहीं होने की स्पष्ट जानकारी नहीं मिल सकी है. पुलिस का कहना है कि कॉल डिटेल से भी आग लगने के संभावित समय पर आरोपित का कहीं और होना पाया गया है.

(इनपुट: ऋषभमणि त्रिपाठी)
Loading...

ये भी पढ़ें:

दलित युवक से शादी करने वाली BJP विधायक की बेटी पहुंची हाईकोर्ट, लगाई सुरक्षा की गुहार

अमेठी में बोले राहुल गांधी- विपक्ष की भूमिका बेहद आसान, बहुत मजा आएगा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 11, 2019, 11:21 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...