Home /News /uttar-pradesh /

Opinion: 2019 लोकसभा चुनाव में क्या कुछ कर पाएंगे शिवपाल सिंह यादव और राजा भैया?

Opinion: 2019 लोकसभा चुनाव में क्या कुछ कर पाएंगे शिवपाल सिंह यादव और राजा भैया?

शिवपाल सिंह यादव और राजा भैया (फाइल फोटो)

शिवपाल सिंह यादव और राजा भैया (फाइल फोटो)

पिछले दिनों बंगले को लेकर योगी सरकार की शिवपाल पर मेहरबानी पर तमाम कयास लगाए जा रहे हैं. हालांकि शिवपाल और राजा भैया की पार्टियां किस तरह लोकसभा चुनाव में अपना असर छोड़ेंगी, यह वक्‍त ही बताएगा.

    उत्तर प्रदेश में बाहुबल की राजनीति करने वाले रघुराज प्रताप सिंह यानी राजा भैया एक बार फिर सियासत में अपना दम दिखाने जा रहे हैं. इस बार कुंडा के राजा अपनी नई पार्टी लेकर सामने आ रहे हैं. उधर समाजवादी सेक्युलर मोर्चा के साथ शिवपाल यादव पहले ही मैदान में कूद चुके हैं. पिछले दिनों बंगले को लेकर योगी सरकार की शिवपाल पर मेहरबानी पर तमाम कयास लगाए जा रहे हैं. हालांकि शिवपाल और राजा भैया की पार्टियां किस तरह लोकसभा चुनाव में अपना असर छोड़ेंगी, यह वक्‍त ही बताएगा.

    इस संबंध में न्यूज18 यूपी के एग्जीक्यूटिव एडिटर अमिताभ अग्निहोत्री कहते हैं कि लोकसभा चुनाव में अभी 6 महीने से ज्यादा वक्त बचा है. राजनीति में कुछ भी अभी कहना बहुत जल्दबाजी होगी. लेकिन इतना जरूर कह सकता हूं कि शिवपाल सिंह यादव और राजा भैया की कोशिश होगी कि चुनाव को वे प्रभावित करें. अग्निहोत्री के अनुसार, 2019 के चुनाव में शिवपाल सिंह यादव और राजा भैया का एक बड़ा इम्तिहान होगा. इन दोनों नेताओं के भविष्य की राजनीति की दिशा और दशा लोकसभा चुनाव के परिणाम तय करेंगे.

    ये भी पढ़ें: आखिर योगी सरकार ने शिवपाल को क्यों दिया मायावती का 'शाही बंगला'!

    ये भी पढ़ें: सपा से अलग होने के बाद पहली बार शिवपाल के साथ नजर आए मुलायम

    शिवपाल और राजा भैया की पार्टियां किस तरह लोकसभा चुनाव में अपना असर छोड़ेंगी, इस सवाल पर यूपी कांग्रेस के प्रवक्ता हिलाल नकवी ने बताया कि इन दोनों नेताओं का एक विशेष क्षेत्र है, जहां से ये दोनों नेता चुनाव जीतते आएं हैं. राजा भैया प्रतापगढ़ के कुंडा और शिवपाल इटावा की जसवंतनगर सीट से चुनाव जीतते हैं. इन दोनों इलाकों को छोड़कर दोनों नेताओं का कोई खास असर नहीं है. उन्होंने बताया कि बीजेपी की हमेशा मंशा रहती है कि वो ज्यादा से ज्यादा वोटों का बंटवारा कर सके.

    ये भी पढ़ें: शिवपाल सिंह का ऐलान, नहीं करेंगे भाजपा से कोई समझौता

    हिलाल नकवी ने बताया कि 2014 और 2017 के चुनाव में देखा गया कि हिन्दुस्तान की जनता ने एकतरफा वोट किया. दोनों ही चुनावों में बीजेपी को पूर्ण बहुमत मिला, इससे साफ है कि जनता हंग असेंबली नहीं चहती है. बीजेपी लाख कोशिश कर ले, लेकिन शिवपाल सिंह यादव और राजा भैया की पार्टियां 2019 के लोकसभा चुनाव में कोई खास असर नहीं डाल पाएंगी.

    ये भी पढ़ें:  राजभर ने दी BJP को धमकी, कहा- बात नहीं मानी तो टूटेगा गठबंधन

    शिवपाल और राजा भैया पर बोलते हुए समाजवादी पार्टी के प्रवक्ता अनुराग भदौरिया ने कहा कि जनता सब जानती है कि ये दोनों लोग बीजेपी के लिए 'बी' टीम के रूप में काम कर रहे हैं. वहीं 2019 के चुनाव पर उन्होंने कहा कि पूरा चुनाव बीजेपी के खिलाफ चुनाव होगा, क्योंकि बीते 5 सालों में बीजेपी ने जनता के साथ जो वादे किए थे, उन्‍हें पूरा नहीं किया. अनुराग भदौरिया ने दावा किया कि इस तरह की पार्टियां चुनाव से पहले बहुत बनती और बिगड़ती हैं. इनसे कोई फर्क नहीं पड़ेगा. शिवपाल और राजा भैया की पार्टी महज कुछ वोट काटने का ही काम करेंगी.

    ये भी पढ़ें: जनसत्ता पार्टी के नाम से लोकसभा चुनाव के मैदान में उतर सकते हैं राजा भैया!

    दरअसल राजा भैया की इस कवायद को सवर्णों को लामबंद करने की मुहिम के रूप में देखा जा रहा है. बता दें कि राज्यसभा चुनाव के दौरान क्रॉस वोटिंग को लेकर सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव से हुए मतभेद के बाद से ही वे नई सियासी जमीन तलाश रहे हैं. कहा जा रहा है कि सपा से रिश्ते खराब होने के बाद राजा भैया का यह बड़ा सियासी दांव है.

    ये भी पढ़ें:

    लखनऊ: KGMU की महिला जूनियर डॉक्टर ने किया सुसाइड का प्रयास, सीनियर पर लगा आरोप

    इलाहाबाद: डांसर सपना चौधरी का कार्यक्रम रद्द होने पर जमकर हंगामा, तोड़ी गईं कुर्सियां

    शाहजहांपुर स्कूल बिल्डिंग हादसा: रेस्क्यू ऑपरेशन खत्म, तीन की मौत, 15 घायल

     

    आपके शहर से (लखनऊ)

    Tags: BJP, Samajwadi party, Shivpal singh yadav, Uttar pradesh news, Uttar Pradesh Politics, Yogi adityanath

    अगली ख़बर