लाइव टीवी

जनसंख्या नियंत्रण कानून देश के लिए अच्छा, अधिक बच्चे पैदा करना हानिकारक: वसीम रिजवी

भाषा
Updated: January 21, 2020, 12:03 AM IST
जनसंख्या नियंत्रण कानून देश के लिए अच्छा, अधिक बच्चे पैदा करना हानिकारक: वसीम रिजवी
वसीम रिजवी ने कहा है कि अधिक बच्चों को जन्म देना समाज के लिए हानिकारक है. (फाइल फोटो)

वसीम रिजवी (Wasim Rizvi) ने कहा कि, कुछ लोगों का मानना है कि, ‘बच्चों का जन्म स्वाभाविक प्रक्रिया है और इसमें हस्तक्षेप नहीं किया जाना चाहिए. अधिक बच्चों को जन्म देना समाज और देश के लिए हानिकारक है.

  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश शिया वक्फ बोर्ड (Uttar Pradesh Shia Waqf Board) के अध्यक्ष वसीम रिजवी (Wasim Rizvi) ने जनसंख्या नियंत्रण के लिए कानून की वकालत की है. कुछ लोगों का मानना है कि, ‘बच्चों का जन्म स्वाभाविक प्रक्रिया है और इसमें हस्तक्षेप नहीं किया जाना चाहिए. जानवरों की तरह अधिक बच्चों को जन्म देना समाज और देश के लिए हानिकारक है. जनसंख्या नियंत्रण के लिए कानून लागू होने पर यह देश के लिए अच्छा होगा.’




वसीम रिजवी ने बनाई है पार्टी
गौरतलब है कि शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन सैयद वसीम रिजवी ने नई पार्टी बनाई है. नई पार्टी बनाने के मामले में मंगलवार को बाबरी मस्जिद मामले के मुद्दई इकबाल अंसारी ने कहा था कि बाबरी मस्जिद मामले में उनके बयानों को लेकर मुसलमान अब पहचान चुका है. मुसलमान वसीम रिजवी की पार्टी से नहीं जुड़ेगा और ना ही शिया कौम ही उनकी पार्टी से जुड़ेगी. इकबाल अंसारी ने वसीम रिजवी को चैलेंज करते हुए कहा कि उनकी नई पार्टी इंडियन आवामी लीग एक भी सभासद बना दें तो वे राजनीति छोड़ देंगे.मुसलमानों में भी दो धड़ों की तरह होगा वोटों का बंटवारा
शिया मुसलमानों की अलग राष्ट्रीय पार्टी बनने से तय हो गया था कि मुसलमानों में भी अब दो अलग धड़ों की तरह वोटों का बंटवारा होगा. दिल्ली के इस्लामिक कल्चरल सेंटर में पार्टी की औपचारिक घोषणा करते हुए वसाम रिजवी ने बताया था कि अपनी ही कौम में दोयम दर्जे के व्यवहार से आहत होकर उन्होंने इस पार्टी की शुरुआत की है. इससे पार्टी के जरिए शिया मुसलमानों के हितों की लड़ाई लड़ी जाएगी.

ये भी पढ़ें - 

निर्भया गैंगरेप: दोषी पवन की याचिका खारिज, पीड़िता के पिता हुए खुश, कही ये बात

JNU में फिर हिंसा: एक छात्र ने ABVP पर मारपीट करने का लगाया आरोप

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 20, 2020, 11:53 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर