Home /News /uttar-pradesh /

प्रशांत भूषण के ट्वीट पर संत समाज गुस्से में, लखनऊ में शिकायत दर्ज

प्रशांत भूषण के ट्वीट पर संत समाज गुस्से में, लखनऊ में शिकायत दर्ज

स्वराज अभियान के नेता और वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण द्वारा भगवान श्रीकृष्ण पर विवादित ट्वीट के मामले में उत्तर प्रदेश के साधु समाज ने कड़ा विरोध दर्ज कराया है.

स्वराज अभियान के नेता और वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण द्वारा भगवान श्रीकृष्ण पर विवादित ट्वीट के मामले में उत्तर प्रदेश के साधु समाज ने कड़ा विरोध दर्ज कराया है.

स्वराज अभियान के नेता और वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण द्वारा भगवान श्रीकृष्ण पर विवादित ट्वीट के मामले में उत्तर प्रदेश के साधु समाज ने कड़ा विरोध दर्ज कराया है.

    स्वराज अभियान के नेता और वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण द्वारा भगवान श्रीकृष्ण पर विवादित ट्वीट के मामले में उत्तर प्रदेश के साधु समाज ने कड़ा विरोध दर्ज कराया है.

    यही नहीं प्रशांत के खिलाफ यूपी कांग्रेस प्रवक्ता जीशान हैदर ने लखनऊ की हजरतगंज कोतवाली में तहरीद दे दी है, जिसमें प्रशांत भूषण के खिलाफ कार्रवाई की मांग है.

    यह भी पढ़ें: विवादित ट्वीट पर प्रशांत भूषण की सफाई, मेरी बात का गलत मतलब निकाला गया

    अयोध्या में प्रशांत भूषण के ट्वीट का संतों ने विरोध किया है. निर्मोही अखाड़ा के प्रतिनिधि महंत रामदास ने कहा कि श्रीकृष्ण सभी धर्मों के आराध्य हैं. इस बयान पर प्रशांत भूषण के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए, यही नहीं सुप्रीम कोर्ट से प्रशांत भूषण की सदस्यता रद्द की जानी चाहिए.

    उन्होंने कहा कि प्रशांत भूषण पर मुकदमा दर्ज कर उसे जेल भेजा जाए.

    वहीं विश्व कल्याण फाउंडेशन के संदीप साईं कृष्ण ने कहा कि प्रशांत भूषण पहले भी देश द्रोही बयान देते आए हैं. दरअसल प्रशांत भूषण कम्युनिस्ट विचारधारा के हैं इसी कारण उनकी बुद्धि भ्रष्ट हो गई है.

    वहीं मथुरा में भी प्रशांत भूषण की विवादित टिप्पणी से साधु-संत नाराज दिखे. अघोषानंद महराज ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट मामले का स्वत: संज्ञान ले. प्रशांत भूषण को जेल भेजा जाए.

    आपके शहर से (लखनऊ)

    Tags: Prashant bhushan, लखनऊ

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर