प्रियंका गांधी का योगी सरकार पर वार- किसान का वोट कानूनी, किसान की पराली गैरकानूनी...?

प्रियंका गांधी का योगी सरकार पर वार (file photo)
प्रियंका गांधी का योगी सरकार पर वार (file photo)

पराली (Stubble Burning) और पर्यावरण के मुद्दे पर यूपी सरकार के मंत्री मोहसिन रज़ा ने कहा है कि कांग्रेस (Congress) किसानों का शोषण करने वाली पार्टी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 6, 2020, 3:18 PM IST
  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रद्रेश में पराली जलाने (Stubble Burning) को लेकर तमाम जिलों में किसानों (Farmers) पर मुकदमे दर्ज किए जा रहे हैं. स्थानीय प्रशासन की ओर से पराली जलाने की घटनाओं को रोकने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं. कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) ने इस मुद्दे को लेकर शुक्रवार को उत्तर प्रदेश की योगी सरकार पर जमकर निशाना साधा. उन्होंने उत्तर प्रदेश सरकार पर किसानों को जेल में डालने का आरोप लगाया.

प्रियंका गांधी ने अपने ट्वीट में लिखा, "क्या प्रदूषण के लिए सिर्फ किसान जिम्मेदार हैं? प्रदूषण फैलाने के असली जिम्मेदारों पर कार्रवाई कब होगी? किसान का वोट- कानूनी... किसान का धान- कानूनी... किसान की पराली- गैरकानूनी? उप्र सरकार ने सहारनपुर में किसानों को जेल में डाला, उन्हें छुड़वाने के लिए कांग्रेस के साथियों का धन्यवाद."


पराली और पर्यावरण के मुद्दे पर यूपी सरकार के मंत्री मोहसिन रज़ा ने कहा है कि कांग्रेस किसानों का शोषण करने वाली पार्टी है. कांग्रेस ने यूपी में किसानों के लिए कभी कुछ नहीं किया. आज अगर प्रियंका गांधी को पराली जलाने पर ज्ञान देना है तो उस राज्य में दें जहां उनकी सरकार है. पराली कांग्रेस के लोग जला रहे हैं और किसानों को बदनाम कर रहे हैं. यूपी में योगी सरकार किसानों के लिए बेहतर काम कर रही है.



ये भी पढे़ं- चीन छोड़ आगरा में शिफ्ट हुई जर्मन की जूता कंपनी, उद्योगपति बोले- Thanks योगी जी

उधर, मैनपुरी में भी किसानों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है. यहां किशनी पुलिस ने 5 किसानों के खिलाफ केस दर्ज कर उन्हें जेल भेज दिया. इस दौरान पुलिस और किसानों में खेत में पराली जलाने को लेकर विवाद भी हुआ, जिसके बाद किशनी इंस्पेक्टर अजीत सिंह किसान को कॉलर पकड़कर घसीटते हुए ले गए. इंस्पेक्टर की इस कार्रवाई की तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है.

इंस्पेक्टर की कार्रवाई से किसानों में गुस्सा
यूं तो किसान को अन्नदाता कहा जाता है, लेकिन तस्वीर में प्रभारी निरीक्षक अजीत सिंह किसान का कॉलर पकड़कर खींचते हुए ले जा रहे हैं. यह तस्वीर वायरल होने के बाद न सिर्फ किसानों में क्रोध है, बल्कि आम आदमी में भी चर्चा का विषय बना हुआ है. लोगों का कहना है कि अन्नदाता के प्रति पुलिस का यह रवैया बर्दाश्त करने लायक नहीं है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज