गठबंधन के लिए शिवपाल से मिले प्रियंका गांधी के 'दूत', आज शाम फिर होगी बात!

एक निजी कार्यक्रम के दौरान गुफ्तगू करते शिवपाल यादव और दीपक सिंह

एक निजी कार्यक्रम के दौरान गुफ्तगू करते शिवपाल यादव और दीपक सिंह

सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस और शिवपाल के बीच बातचीत अभी दूसरे दौर में है. सब कुछ तय होने के बाद ही प्रियंका और शिवपाल के बीच मुलाक़ात होगी और आगे की रणनीति बनेगी.

  • Share this:
कांग्रेस महासचिव की जिम्मेदारी संभालने के बाद संगठन को मजबूत करने में जुटी प्रियंका गांधी छोटे दलों के साथ गठबंधन की संभावनाओं को भी तलाश कर रही हैं. महान दल के साथ गठबंधन के ऐलान के साथ ही वह अन्य क्षेत्रीय क्षत्रपों को भी पार्टी से जोड़ने में जुटी हैं. कहा जा रहा है कि प्रियंका के एक दूत ने सपा से अलग होकर प्रगतिशील समाजवादी पार्टी बनाने वाले शिवपाल यादव से मुलाकात की है. गुरुवार को प्रियंका गांधी के लखनऊ प्रवास के आखिरी दिन भी एक राउंड की और बातचीत होगी. सब कुछ तय होने के बाद प्रियंका और शिवपाल से मुलाकात हो सकती है.



दरअसल, सोशल मीडिया पर इन दिनों शिवपाल और कांग्रेस एमएलसी दीपक सिंह की एक फोटो वायरल है. फोटो लखनऊ की है, जिसमें दोनों नेता एक निजी कार्यक्रम में गुफ्तगू करते नजर आ रहे हैं. जिसके बाद से इन चर्चाओं को बल मिल रहा है कि शिवपाल और कांग्रेस के बीच गठबंधन की खिचड़ी पक रही है.



हालांकि, गठबंधन को लेकर बातचीत हो रही है या नहीं इसका खंडन न कांग्रेस की तरफ से किया गया है और न ही शिवपाल यादव की तरफ से. सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस और शिवपाल के बीच बातचीत अभी दूसरे दौर में है. सब कुछ तय होने के बाद ही प्रियंका और शिवपाल के बीच मुलाक़ात होगी और आगे की रणनीति बनेगी.





OPINION: प्रियंका गांधी के सामने घरानों से बचकर घर तक जाने की चुनौती
सूत्रों के अनुसार, कांग्रेस के एक राज्य सभा सांसद गठबंधन को लेकर अगुवाई कर रहे हैं. वे प्रियंका के दूत के तौर पर शिवपाल से बात आगे बढ़ा रहे हैं. कल जो बात हुई, वह एक दूसरे का अभिवादन और भविष्य में साथ बैठने-मिलने आदि शब्दों के साथ ख़त्म हो गई. राजनीतिक रूप से इस स्तर पर इतनी सी बातचीत अहम मानी जा सकती है.



उधर शिवपाल भी अंदर ही अंदर कांग्रेस का साथ चाहते हैं. यह बात वह सार्वजनिक मंच से कई बार कह भी चुके हैं कि वे कांग्रेस से गठबंधन कर चुनाव लड़ना चाहते हैं. अगर गठबंधन होता है तो कौन कितनी सीटों पर लड़ता है? वह देखने वाली बात होगी.



हालांकि यह कांग्रेस की रणनीति में भी है कि वह एनडीए से नाराज और सपा-बसपा गठबंधन से दूर छोटे दलों के साथ गठबंधन कर जमीन मजबूत करे. लिहाजा आने वाले दिनों में कांग्रेस कई छोटे दलों के साथ गठबंधन कर सकती है.



ये भी पढ़ें:



मोदी के दोबारा PM बनने की मुलायम के बयान पर राहुल बोले- मैं सहमत नहीं



चंदौली में मूर्ति विसर्जन के दौरान हिंसा, जमकर हुई मारपीट, बाइक फूंकीं-बसों में तोड़फोड़



दूल्हे ने होने वाली पत्नी की जगह 'PM मोदी' के नाम की रचाई मेहंदी, पूर्व CM ने दिया आशीर्वाद



OPINION: प्रियंका गांधी के सामने घरानों से बचकर घर तक जाने की चुनौती



प्रयागराज से काशी के बीच इस तरह चलेंगे फाइव स्टार क्रूज, गडकरी ने बताया पूरा प्लान!



एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज