Lucknow news

लखनऊ

अपना जिला चुनें

प्रियंका गांधी का साफ संदेश, बाेलीं- गांवों में मजबूत करें संगठन, किसानों से जुड़ें, महंगाई को बनाएं मुद्दा

प्रियंका गांधी का साफ संदेश, बाेलीं- गांवों में मजबूत करें संगठन, किसानों से जुड़ें, महंगाई को बनाएं मुद्दा

शुक्रवार को प्रियंका गांधी ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं और नेताओं के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में बात की और चुनावी रणनीति तैयार की.

UP Assembly Election 2022: प्रियंका गांधी उत्तर प्रदेश में कांग्रेस संगठन को गांव-गांव में खड़ा करने का आह्वान कर रही हैं. उन्होंने शुक्रवार को यूपी के नेताओं से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में बात की। उन्होंने कहा कि सभी लोग जुट जाइए और गांवों में गरीबों और किसानों के साथ जुड़िये, महंगाई जैसे मुद्दों को उठाइए और आंदोलन करिये.

SHARE THIS:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश में 2022 के विधानसभा चुनावों को देखते  कांग्रेस ने इन दिनों युद्दस्तर पर अपनी चुनावी तैयारियां शुरू कर दी है. जिसके तहत इन दिनों कांग्रेस महासचिव और यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी जनता से जुड़े हर एक मुद्दे को लेकर सूबे की सत्ताधारी भाजपा सरकार पर जमकर निशाना साध रही हैं.  वहीं इन दिनों प्रियंका गांधी के निर्देश पर यूपी के कांग्रेस नेताओं को प्रशिक्षित करने के लिए एक विशेष प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया जा रहा है. शुक्रवार को प्रयागराज और सुल्तानपुर में आयोजित कांग्रेस के इस प्रशिक्षण शिविर को खुद प्रियंका गांधी ने संबोधित किया. प्रियंका ने एक ओर यूपी कांग्रेस के नेताओं को हर गांव में अपना मजबूत संगठन खड़ा करने का निर्देश दिया. गांव-गरीब, किसान-बेरोजगार और आम आदमी से जुड़े महंगाई जैसे मुद्दों को लेकर एक बड़ा आंदोलन खड़ा करें.

प्रियंका गांधी ने कहा कि 'संगठन निर्माण का काम सबसे महत्वपूर्ण है, इसलिए इस काम को पूरा करने के लिए कांग्रेस नेता और कार्यकर्ता मजबूती से जुटे रहे. चुनाव में संगठन से जुड़े लोगों की राय सबसे महत्वपूर्ण होगी. हमें हर जिला, शहर, ब्लॉक, न्याय पंचायत के साथ हर एक ग्राम सभा और उसमें शामिल हर एक गांव में अपना मजबूत संगठन जल्द से जल्द खड़ा करना होगा. और साथ ही कोरोना संकट की मार से जूझते आम आदमी, खेती-किसानी और महंगाई जैसे जानता से जुड़े मुद्दों को लेकर संघर्ष करना होगा. आज जो महंगाई है वो बर्दाश्त के बाहर है. आलम यह है कि आज 1 किलो सरसो का तेल लगभग 200 रुपये में मिलता है. जबकि किसान को 1 किलो गेंहू के 15 रुपये मिलते है. सिर्फ 1 किलो तेल खरीदने के लिए किसान को अपना 14 किलो गेंहू बेचना पड़ रहा है.'

जिसके बाद कांग्रेस महासचिव और यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी ने फेसबुक पोस्ट कर बताया कि शुक्रवार को 'मैने प्रयागराज एवं सुल्तानपुर में चल रहे संगठन प्रशिक्षण शिविरों को संबोधित किया. उत्तर प्रदेश में कार्यकर्ता एवं संगठन के पदाधिकारी मिलकर संगठन बनाने की कठिन और लंबी प्रक्रिया में लगे हुए हैं. साथ ही साथ किसानों, युवाओं, महिलाओं एवं वंचित समूहों के मुद्दे उठाकर हम विपक्ष की मजबूत आवाज बनेंगे. वैचारिक प्रतिबद्धता एवं मजबूत विपक्ष की भूमिका के जरिए हम अपनी सांगठनिक धार को और मजबूत करते जायेंगे. कोरोना काल में जब सरकार नदारद थी, तब कांग्रेस संगठन ने जनसेवा का एक महत्वपूर्ण कर्तव्य निभाया. आज आमजनों पर महंगाई एवं काम धंधे बंद होने की भारी मार पड़ रही है. हम इसके खिलाफ आवाज बुलंद करेंगे.'

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

UP Board Exam : क्या कल से शुरू होगी 10वीं, 12वीं की सप्लीमेंट्री परीक्षा ? बोर्ड ने लिया है ये फैसला

UP Board Exam : क्या कल से शुरू होगी 10वीं, 12वीं की सप्लीमेंट्री परीक्षा ? बोर्ड ने लिया है ये फैसला

UP Board Exam : यूपी में लगातार हो रही भारी बारिश के बावजूद हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की सप्लीमेंट्री परीक्षा अपने पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार होगी. प्रदेश में बारिश के कारण स्कूल और कॉलेज बंद कर दिए गए हैं.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 17, 2021, 07:21 IST
SHARE THIS:

नई दिल्ली. UP Board Exam : उत्तर प्रदेश में भारी बारिश के कारण स्कूलों और कॉलेजों को 18 सितंबर तक के लिए बंद कर दिया गया है. लेकिन 18 सितंबर को होने वाली यूपी बोर्ड 10वीं और 12वीं की सप्लीमेंट्री/इंप्रूवमेंट परीक्षा के शेड्यूल में कोई परिवर्तन नहीं किया गया है. सप्लीमेंट्री परीक्षा पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार ही होगी. माध्यमिक शिक्षा की अपर मुख्य सचिव आराधना शुक्ला ने इस संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि अंक सुधार के लिए आयोजित की जाने वाली 2021 बोर्ड परीक्षा पूरी सावधानी के साथ होंगी. सप्लीमेंट्री परीक्षा के लिए जिलों को कॉपी और पेपर पहले ही भेजे जा चुके हैं. कार्यक्रम के अनुसार पहले दिन हाई स्कूल और इंटरमीडिएट के हिंदी का पेपर होगा. 10वीं और 12वीं की सप्लीमेंट्री परीक्षाएं क्रमश: चार और छह अक्टूबर को संपन्न होंगी.

यूपी बोर्ड ने परीक्षा के लिए एडमिट कार्ड 13 सितंबर को ही जारी कर दिया है. छात्र इसे यूपी बोर्ड की वेबसाइट पर जाकर डाउनलोड कर सकते हैं. इसके लिए उन्हें अपने यूजर आईडी और पासवर्ड से लॉग इन करना होगा.

परीक्षा की होगी वीडियो रिकॉर्डिंग

कोरोना महामारी के कारण यूपी बोर्ड ने 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं इस साल रद्द कर दी थी. हाई स्कूल और इंटर का रिजल्ट फॉर्मूले के आधार पर तैयार किया गया था. इस तरह तैयार रिजल्ट से असंतुष्ट छात्रों के लिए बोर्ड सप्लीमेंट्री परीक्षा का आयोजन करने जा रहा है. यूपी बोर्ड ने परीक्षा में नकल रोकने के लिए राज्य स्तरीय कमांड सेंटर के साथ जिलों में भी कंट्रोल रूम तैयार किए हैं. परीक्षा की वीडियो रिकॉर्डिंग भी की जाएगी.

ये भी पढ़ें

BoB Recruitment 2021 : बैंक ऑफ बड़ौदा में बीसी सुपरवाइजर की नौकरी, पूर्णिया और जमशेदपुर सहित इन रीजन के लिए है वैकेंसी

UPPSC Polytechnic Recruitment : शैक्षिक योग्यता, भर्ती के नियम और सैलरी में भी हुए ये बदलाव

UP Election 2022: 'आप' की मुफ्त बिजली के वादे पर छिड़ी जुबानी जंग, BJP ने ऐसे किया पलटवार

UP Election 2022: 'आप' की मुफ्त बिजली के वादे पर छिड़ी जुबानी जंग, BJP ने ऐसे किया पलटवार

UP Politics: सौभाग्य योजना से 1 करोड़ 40 लाख घरों में बिजली आई है. चार साल पहले तक यूपी में बिजली आना अखबारों की सुर्खियां बनती थीं, आज अगर कभी बिजली कट जाए तो लोग हैरान होते हैं.

SHARE THIS:

लखनऊ. हर घरेलू बिजली उपभोक्ता को मुफ्त बिजली (Free Electric Bill) देने का वादा कर यूपी विधानसभा चुनाव जोर-आजमाइश कर रही आम आदमी पार्टी (AAP) को कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने आड़े हाथों लिया है. गुरुवार को जारी प्रेस बयान में शाही ने कहा कि ‘केजरीवाल प्राइवेट लिमिटेड’ को यह तो मालूम ही है कि गरीबों, गांव में रहने वालों और किसानों का योगी सरकार ने कितना ध्यान रखा है.

योगी सरकार बिजली का मीटर रखने वाले ग्रामीण उपभोक्ताओं को प्रति यूनिट 2.80 रुपए के और बगैर मीटर वालों को 4.07 रुपए की छूट शुरू से ही दे रही है. इसके अलावा एक किलोवाट लोड तक और 100 यूनिट की खपत तक के शहरी और ग्रामीण उपभोक्ताओं को भी चार रुपए से अधिक प्रति यूनिट छूट मिलती है. यही नहीं गांव में मीटर और बिना मीटर वाले कृषि उपभोक्ताओं को तो छूट क्रमशः पांच रुपए और 6.32 रूपए है। इस तरह सरकार ग्यारह हजार करोड़ की सब्सिडी तो सिर्फ गरीब और किसानों के लिए देती है.

यह भी पढ़ें- UP: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का 71वां जन्मदिन आज, BJP करेगी ‘सेवा एवं समर्पण’ अभियान की शुरुआत

कृषि मंत्री ने तंज किया कि केजरीवाल के पास यूपी की जनता के लिए विकास का कोई मॉडल नहीं है. दिल्ली में अब तक यह पार्टी ने कोई ऐसा काम नहीं कर सकी जिसे वह अपना बता सके। ऐसे में ‘मुफ्तखोरी के लालच’ को उसने चुनावी हथियार बनाया है. उन्होंने कहा कि यूपी की योगी सरकार ने जिला मुख्यालयों पर 24 घंटे, तहसील मुख्यालयों पर 20 घंटे और गांवों में 18 घंटे बिजली देने का वादा किया था और उसे पूरा किया. यही नहीं, साढ़े चार साल में यूपी के हर कोने को बिजली से रोशन कर दिया गया है.

1 करोड़ 40 लाख घरों में आई बिजली
सौभाग्य योजना से 1 करोड़ 40 लाख घरों में बिजली आई है. चार साल पहले तक यूपी में बिजली आना अखबारों की सुर्खियां बनती थीं, आज अगर कभी बिजली कट जाए तो लोग हैरान होते हैं. यह होता है विकास, लेकिन ऐसे विकास के लिए जिस विजन की जरूरत होती है, वह न अरविंद केजरीवाल के पास है न मनीष सिसौदिया के पास. ऐसे में ले देकर मुफ्त बिजली देने का लालच ही उनके पास बचा है. सूर्य प्रताप शाही ने कहा कि लोकतंत्र में इस तरह की बेतुकी एवं घोषणाएं राजनीति को दूषित करते हैं, जो न केवल घातक है बल्कि एक बड़ी विसंगति भी है.

UP: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का 71वां जन्मदिन आज, BJP करेगी 'सेवा एवं समर्पण' अभियान की शुरुआत

UP: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का 71वां जन्मदिन आज, BJP करेगी 'सेवा एवं समर्पण' अभियान की शुरुआत

PM Modi Birthday: पीएम मोदी का 71वां जन्मदिन को प्रयागराज में खास तरीके से मनाने की तैयारी उत्तर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री नंदगोपाल गुप्ता नंदी और स्थनीय बीजेपी कार्यकर्ताओं ने की है.

SHARE THIS:

लखनऊ. पीएम मोदी के जन्मदिन (PM Modi’s Birthday) को खास बनाने के लिए बीजेपी ने खास तैयारी की है. इसी कड़ी में शुक्रवार को भारतीय जनता पार्टी (BJP) का ‘सेवा एवं समर्पण’ अभियान की शुरुआत होगी. 7 अक्टूबर तक चलने वाले इस अभियान में भाजपा के कार्यकर्ता विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से गांव-गांव, घर-घर तक पहुंचकर लोगों से संपर्क व संवाद करेंगे और सेवा कार्य भी करेंगे. मोर्चों व प्रकोष्ठों के कार्यकर्ता भी इस अभियान में जुटेंगे.

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने गुरुवार शाम पार्टी के प्रदेश पदाधिकारियों, क्षेत्र अध्यक्षों, जिलाध्यक्षों व जिला प्रभारियों के साथ वर्चुअल बैठक कर सेवा एवं समर्पण अभियान की तैयारियों की समीक्षा की और आवश्यक दिशा निर्देश दिए. सेवा एवं समर्पण अभियान के तहत 17 से 20 सितंबर तक स्वास्थ्य परीक्षण शिविर आयोजित किया जाएगा. चिकित्सा प्रकोष्ठ इसका समन्वय करेगा. युवा मोर्चा के कार्यकर्ता रक्तदान शिविर आयोजित करेंगे, जबकि अनुसूचित मोर्चा के कार्यकर्ता गरीब बस्तियों में फल व अन्य आवश्यक वस्तुओं का वितरण कर सेवा कार्य करेंगे.

यह भी पढ़ें- अधिवक्ता ने रोक लिया DGP मुकुल का रास्ता, कहा- आपके अधिकारी कुछ नहीं करते

उधर, पीएम मोदी का 71वां जन्मदिन को प्रयागराज में खास तरीके से मनाने की तैयारी उत्तर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री नंदगोपाल गुप्ता नंदी और स्थनीय बीजेपी कार्यकर्ताओं ने की है. इसे भव्य रूप देने के लिए तमिलनाडु की राजलक्ष्मी मंडा प्रधानमंत्री का कटआउट लगा करीब 9.5 टन वजन वाला ट्रक अपने हाथ से खींचेंगी. उत्तर प्रदेश के नागरिक उड्डयन मंत्री नंद गोपाल गुप्ता नंदी ने बताया कि हम पीएम मोदी का 71वां जन्मदिन सेवा सप्ताह के रूप में मना रहे हैं.

पीएम के कटआउट को खींचेंगी राजलक्ष्मी
इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह 71 किलो का केक काटकर इसका शुभारंभ करेंगे. उन्होंने बताया कि इसके बाद दोपहर तीन बजे गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड धारक बहन राजलक्ष्मी, प्रधानमंत्री का 71 फुट ऊंचा और 20 चौड़ा कटआउट एक ट्रक पर खड़ा करके लगभग 9.5 टन वजन का ट्रक वो खुद अपने हाथ से खींचकर इस कार्यक्रम को और भव्य रूप प्रदान करेंगी.

UP News Live Updates: यूपी के कई जिलों में तेज बारिश का सिलसिला जारी, अब तक 22 की मौत

UP News Live Updates: यूपी के कई जिलों में तेज बारिश का सिलसिला जारी, अब तक 22 की मौत

Uttar Pradesh News Live: विभाग की ओर से कई जिलों के लिए ऑरेंज अलर्ट भी जारी किया गया है. बारिश के साथ साथ 87 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवा के तेज झोंके भी चलेंगे.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 17, 2021, 05:45 IST
SHARE THIS:

UP News Live Updates 17 September 2021: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के ज्यादातर इलाकों में हो रही मूसलाधार बारिश (Incessant Rain) ने आम जनजीवन अस्त-व्यस्त कर दिया है. शुक्रवार सुबह से प्रदेश के कई जिलों में तेज बारिश का सिलसिला जारी है. अलग-अलग जगहों पर मकान ढहने और दीवार गिरने की वजह से अब तक 22 लोगों की जान जा चुकी हैं, जबकि कई घायल हैं, जिनका इलाज चल रहा है. यूपी में भारी बारिश को देखते हुए योगी सरकार ने दो दिन यानी की 17 और 18 सितंबर को प्रदेश के सभी स्कूल-कॉलेज को बंद रखने का ऐलान कर दिया है.

कई जिलों के लिए ऑरेंज अलर्ट
विभाग की ओर से कई जिलों के लिए ऑरेंज अलर्ट भी जारी किया गया है. बारिश के साथ साथ 87 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवा के तेज झोंके भी चलेंगे. जिन जिलों में बारिश जारी रहेगी, वह जिले हैं- अमेठी, अयोध्या, बाराबंकी, बहराइच, सीतापुर, लखीमपुर खीरी, हरदोई, लखनऊ, उन्नाव, रायबरेली, कानपुर नगर, कानपुर देहात, औरैया, इटावा, कन्नौज, मैनपुरी, फर्रुखाबाद, शाहजहांपुर, बरेली, पीलीभीत, बदायूं, कासगंज, एटा, मथुरा, अलीगढ़, बुलंदशहर और नोएडा.

बारिश भी नहीं रोक सकेगी बोर्ड एग्जाम, UP में स्कूल-कॉलेज बंद लेकिन देनी होंगी ये परीक्षा

बारिश भी नहीं रोक सकेगी बोर्ड एग्जाम, UP में स्कूल-कॉलेज बंद लेकिन देनी होंगी ये परीक्षा

UP Exam Alert: उत्तर प्रदेश में लगातार हो रही बारिश के चलते सरकार ने आगामी दो दिनों के लिए प्राइमरी स्कूल से लेकर यूनिवर्सिटी तक बंद रखने के आदेश दिए हैं लेकिन अंक सुधार के लिए हाईस्कूल और इंटरमीडिएट के एग्जाम यथावत संचालित होंगी.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 16, 2021, 22:59 IST
SHARE THIS:

लखनऊ. एक तरफ उत्तर प्रदेश में लगातार हो रही बारिश के बाद शासन ने दो दिनों के लिए प्राइमरी स्कूल से लेकर यूनिवर्सिटी तक सभी शिक्षण संस्‍थान बंद रखने का आदेश दिया है. वहीं दूसरी तरफ माध्यमिक शिक्षा विभाग ने एक और आदेश जारी करते हुए जानकारी दी है कि हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की अंक सुधार के लिए होने वाली बोर्ड परीक्षा यथावत संचालित की जाएगी. परीक्षा निर्धारित परीक्षा केंद्रों पर ही पूर्व कार्यक्रम के अनुसार 18 सितंबर को आयोजित होगी.
माध्यमिक शिक्षा की अपर मुख्य सचिव आराधना शुक्ला ने इस संबंध में जानकारी देते हुए बताया कि अंक सुधार के लिए आयोजित की जाने वाली 2021 बोर्ड परीक्षा पूरी सावधानी के साथ होंगी.

सीएम ने दिए निर्देश
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के कई क्षेत्रों में अतिवृष्टि के को देखते हुए सभी मण्डलायुक्तों तथा जिलाधिकारियों को पूरी तत्परता से राहत कार्य संचालित करने के निर्देश दिए हैं. सीएम ने अधिकारियों को प्रभावित क्षेत्र का दौरा कर राहत कार्यों पर नजर रखने के लिए भी कहा है. इसके साथ ही अगले 02 दिन, 17 व 18 सितम्बर को प्रदेश में स्कूल-कॉलेजों सहित सभी शिक्षण संस्थानों को बन्द रखने का निर्देश दिया गया है.

नुकसान का आंकलन हो
सीएम ने इस दौरान अधिकारियों को निर्देश दिया कि बारिश से प्रभावित लोगों को तत्काल राहत पहुंचाई जाए. इसके साथ ही जल जमाव की स्थिति में पानी को निकालने की प्राथमिकता पर व्यवस्‍था करवाई जाए. सीएम योगी ने निर्देश दिए कि सभी जनपदों के अधिकारी अपने क्षेत्र में बारिश के चलते हुए नुकसान का सही सही आंकलन कर रिपोर्ट प्रस्तुत करें.

UP B.Ed Counselling 2021 : कल से शुरू होगी यूपी बीएड की काउंसलिंग, रजिस्ट्रेशन के लिए तैयार रखें ये डॉक्यूमेंट्स

UP B.Ed Counselling 2021 : कल से शुरू होगी यूपी बीएड की काउंसलिंग, रजिस्ट्रेशन के लिए तैयार रखें ये डॉक्यूमेंट्स

UP B.Ed Counselling 2021 : यूपी बीएड की कांउसलिंग तीन चरणों में होगी. इसमें पहला चरण मुख्य काउंसलिंग का होगा. जो कि चार फेज में होगा. इसके बाद पूल काउंसलिंग होगी. इसके बाद रिक्त रह गईं सीटों पर सीधे एडमिशन लिए जा सकेंगे.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 16, 2021, 22:19 IST
SHARE THIS:

नई दिल्ली. UP B.Ed Counselling 2021 : उत्तर प्रदेश बीएड संयुक्त प्रवेश परीक्षा 2021 के लिए कल यानी 17 सितंबर से ऑनलाइन काउंसलिंग शुरू हो रही है. पहले राउंड की काउंसलिंग के लिए रजिस्ट्रेशन 17 से 21 सितंबर तक होगा. रजिस्ट्रेशन के आखिरी दिन यानी 21 सितंबर को ही विकल्प चुनने की प्रक्रिया भी शुरू हो जाएगी. पहले राउंड की काउंसलिंग के लिए 75 हजार रैंक तक के अभ्यर्थी रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं. काउंसलिंग के लिए शिक्षण संस्थानों के विवरण और प्रवेश प्रक्रिया की पूरी जानकारी के लिए लखनऊ विश्वविद्यालय की वेबसाइट www.lkouniv.ac.in पर विजिट कर सकते हैं.

ऑनलाइन काउंसलिंग प्रक्रिया तीन चरणों में संपन्न होगी. ये चरण हैं- मुख्य काउंसलिंग, पूल काउंसलिंग और सीधे प्रवेश. मुख्य काउंसलिंग के बाद एक राउंड पूल काउंसलिंग का होगा. इसके बाद यदि सीटें रिक्त रहती हैं तो कॉलेजों को उन पर सीधे प्रवेश लेने की छूट होगी. यूपी बीएड की प्रवेश प्रक्रिया में 16 राज्य विश्वविद्यालयों के अंतर्गत आने वाले ले 2479 राजकीय, सहायता प्राप्त महाविद्यालय, स्ववित्तपोषित महाविद्यालय शामिल हैं.

दो लाख से अधिक सीटों पर होगे एडमिशन 

बीएड की कुल 2,35,310 सीटें हैं. इसमें से 7830 सीटें विश्वविद्यालयों और राजकीय या सहायता प्राप्त महाविद्यालयों में हैं. जबकि 2,27,480 सीटें स्ववित्त पोषित महाविद्यालयों में हैं. इसके अलावा प्रत्येक महाविद्यालय में 10 प्रतशित अतिरिक्त सीटें आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के छात्रों के लिए होंगी. हालांकि, इडब्लूएस के लिए अतिरिक्त सीटें अल्पसंख्यक संस्थानों में नहीं होंगी.

यूपी बीएड काउंसलिंग 2021 के लिए जरूरी होंगे ये डॉक्यूमेंट्स

बीएड प्रवेश परीक्षा का स्कोर कार्ड
प्रोविजनल अलॉटमेंट कम कन्फर्मेशन लेटर, यह लखनऊ विवि के पोर्टल पर मिलेगा
आवेदन फॉर्म की एक कॉपी, एडमिट कार्ड
जन्म तिथि प्रमाण पत्र के लिए 10वीं की मार्कशीट
सभी शैक्षिक प्रमाण पत्र
पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ
इसके साथ जाति, आय और निवास आदि प्रमाण पत्र

ये भी पढ़ें

BoB Recruitment 2021 : बैंक ऑफ बड़ौदा में बीसी सुपरवाइजर की नौकरी, पूर्णिया और जमशेदपुर सहित इन रीजन के लिए है वैकेंसी

UPPSC Polytechnic Recruitment : शैक्षिक योग्यता, भर्ती के नियम और सैलरी में भी हुए ये बदलाव

देखिये कैसे यह महिलाएं सवार रही है गरीब बच्चों का भविष्य

देखिये कैसे यह महिलाएं सवार रही है गरीब बच्चों का भविष्य

संस्था की अध्यक्ष कल्पना वार्ष्णेय की माने तो जब नवरात्र में मां भगवती के दर्शन करने गई थी. तब उन्हें प्रेरणा मिली कि वह जो गरीब बच्चे पढ़ नहीं पाते हैं उन सभी को शिक्षित कर उनके भविष्य को संवार सकें. इसके लिए उन्हें कार्य करना चाहिए. संस्था की अध्यक्ष ने लोकल 18 की टीम को बताया कि बच्चों को शैक्षिक सामग्री भी वह अपने माध्यम से ही उपलब्ध कराती है.

SHARE THIS:

गरीब से गरीब बच्चों को शिक्षा मिले सभी के भविष्य सुधरे इस बात की प्रेरणा 9 महिलाओं को नवरात्रों के दिन मां भगवती के दर्शन करने के बाद मिली. जी हां गरीब मलिन बस्तियों में बच्चों को शिक्षित करने के लिए रूबरू हुई एक्सप्रेस सामाजिक सेवा संस्था की संचालिका प्रतिदिन कार्य में लगी हुई है. संस्था की अध्यक्ष कल्पना वार्ष्णेय की माने तो जब नवरात्र में मां भगवती के दर्शन करने गई थी. तब उन्हें प्रेरणा मिली कि वह जो गरीब बच्चे पढ़ नहीं पाते हैं उन सभी को शिक्षित कर उनके भविष्य को संवार सकें. इसके लिए उन्हें कार्य करना चाहिए. संस्था की अध्यक्ष ने लोकल 18 की टीम को बताया कि बच्चों को शैक्षिक सामग्री भी वह अपने माध्यम से ही उपलब्ध कराती है. इतना ही नहीं विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं का भी आयोजन कर मलिन बस्तियों के बच्चों में शिक्षा की अलख जगा रहीं हैं. जिससे कि बच्चों की प्रतिभा को भी निखारा जा सके.साथ ही आगे चल के बच्चें प्रतियोगी परीक्षाओं में भी सफलता हासिल कर स्वावलंबी बन सफलता प्राप्त करें.

लखनऊ बुलेटिन : एसी इलेक्ट्रिक बस सुविधा का लुफ्त उठाने के लिए अब देना होगा साधारण किराया

लखनऊ बुलेटिन : एसी इलेक्ट्रिक बस सुविधा का लुफ्त उठाने के लिए अब देना होगा साधारण किराया

SHARE THIS:

1. लखनऊ – कानपुर समेत यूपी के 11 जिलों में साधारण किराए पर लोगों को अब मिलेगी एसी इलेक्ट्रिक बस की सुविधा. रोज सफर करने वाले यात्रियों से साधारण बसों के बराबर इलेक्ट्रिक एसी बसों में किराया लिया जाएगा. उत्तर प्रदेश के 13 शहरों में इलेक्ट्रिक एसी बसें चलाई जानी है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से इन बसों को हरी झंडी दिखाकर रवाना कराने की योजना बनाई जा रही है.

2. लखनऊ के अवध चौराहे पर ट्रैफिक व्यवस्था को सुधारने के लिए तैयार की जाएगी फ्री लेफ्ट लेन. अगर कोई इस लेफ्ट फ्री लेन में आया भी तो उसे लंबा चक्कर काटकर वापस चौराहे से ही गुजरना होगा. लेन इस तरह तैयार होंगी कि सीधे जाने वाले ट्रैफिक के वाहन इसमें जबरन न घुस सकें. करीब एक लाख वाहन इस चौराहे से पूरे दिन में गुजरते हैं. जागरूकता के लिए साइनेज भी लगाए जाएंगे ताकि लेफ्ट फ्री लेन में गलत दिशा के वाहन न घुसें. चौराहे पर यातायात सुगम करने के लिए यहां से ठेले-खोमचे और ई-रिक्शा भी हटाए जाएंगे.

3. रेलवे ने लखनऊ-कानपुर समेत अन्य जिलों के लिए एमएसटी की सुविधा को फिर से बहाल कर दिया है. रेल मंत्रालय ने कुछ अन्य जोनल रेलवे को देख कर उत्तर रेलवे ने भी कुछ ट्रेनों में मंथली पास या एमएसटी को मान्य कर दिया है.उत्तर रेलवे के सीनियर डीसीएम जगतोष शुक्ल के अनुसार पांच पैसेंजर ट्रेनों के लिए एमएसटी (MST) बनने की सुविधा शुरू हो चुकी है.

4. लखनऊ मंडल से चलने वाली दिल्ली, मुंबई समेत अन्य शहरों की ट्रेनों में सस्ता होगा थर्ड एसी का सफर.रेलवे ने ट्रेनों में दो एसी थर्ड इकोनॉमी क्लास की बोगियां लगाने का आदेश दिया है. यात्री अपना एडवांस रिजर्वेशन कराते समय अब एसी थर्ड इकोनॉमी का विकल्प चुन सकते हैं.

5. लखनऊ विश्वविद्यालय ने पहली बार एनआईआरएफ रैंकिंग 2021 में अपनी जगह बनाई.केंद्र सरकार द्वारा जारी एनआईआरएफ (National Institutional Ranking Framework) रैंकिंग में लखनऊ विश्वविद्यालय को 150-200 के रैंक में रखा गया है. लखनऊ विश्वविद्यालय उत्तर प्रदेश का एकमात्र राज्य विश्वविद्यालय है जिसने शिक्षा मंत्रालय द्वारा प्रकाशित प्रतिष्ठित रैंकिंग में स्थान हासिल किया है.

लखनऊ बुलेटिन : यह लापरवाही ना बढ़ा दे बीमारी का कहर

लखनऊ बुलेटिन : यह लापरवाही ना बढ़ा दे बीमारी का कहर

Lucknow news, Lucknow city, water logging near engineering college Lucknow, rubbish heap, dengue larva can increase,mayor's order regarding dengue and water logging, pandemic 2021, covid19

SHARE THIS:

1.जानकीपुरम स्तिथ इंजीनियरिंग कॉलेज के पास जलभराव और कूड़े के ढेर की समस्या पिछले 1 महीने से बरकरार है.तो वही स्थानीय लोगों की शिकायत के बावजूद भी नगर निगम यहां की सुध नहीं ले रहा है. एक ओर जहां स्वास्थ्य विभाग घर-घर जाकर डेंगू की जांच कर रहा है वही प्रदेश की राजधानी के कई इलाकों में गंदगी और जलभराव से बुरा हाल है.

2. मेयर के आदेश, फैजूल्लागंज के मकानों से जमा पानी निकलवाया जाए.लखनऊ की महापौर संयुक्ता भाटिया की अध्यक्षता में आयोजित लोक शिकायत निवारण दिवस में फैजुल्लागंज के निवासियों ने समस्याएं रखीं.तो महापौर ने तुरंत नगर निगम को निर्देश दिया कि प्लॉटों से पानी निकलवा कर एंटी लार्वा का छिड़काव कराएं जाने के निगम के अधिकारियों और कर्मचारियों को निर्देश दिए.

3. लखनऊ-अयोध्या रोड पर स्थित, तीन फ्लाईओवरों पर नवम्बर तक स्ट्रीट लाइट लगाई जायेगी. लखनऊ-अयोध्या रोड पर स्थित, तीन फ्लाईओवरों को लगभग 5 किमी की दूरी पर लगभग 400 पोल मिलेंगे. जुलाई में इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने सड़क सुरक्षा को मजबूत करने के लिए तीन फ्लाईओवर- कामता, चिनहट और मटियारी पर स्ट्रीट लाइट लगाने का फैसला सुनाया था.जिसके चलते अब प्रशानिक अधिकारी मसौदा तैयार कर रहें हैं.

Lucknow को पहले बारिश ने डूबोया, अब नई परेशानी, Videos से फैल रही सोशल मीडिया पर अफवाहें

Lucknow को पहले बारिश ने डूबोया, अब नई परेशानी, Videos से फैल रही सोशल मीडिया पर अफवाहें

Fake Videos of Hailstorm: लखनऊ में अब बारिश के बीच कुछ लोगों ने ओले गिरने के वीडियो सोशल मीडिया पर पोस्ट करने शुरू कर दिए हैं. ये सभी वीडियोज फेक हैं और मौसम विभाग का कहना है कि फिलहाल की स्थितियों में भारी बारिश की संभावन है लेकिन ओले गिरने की कोई संभावना नहीं है.

SHARE THIS:

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में मौसम की मार दो दिनों से लोगों को परेशान किए थी. खासकर राजधानी लखनऊ में बारिश कहर बनकर बरपी और दो मासूमों की जान ले ली. अब हालात ये हैं कि लोग बारिश से बचने में लगे थे कि अब एक नई परेशानी ने लोगों को घेर लिया है. राजधानी में गुरुवार को लगातार हो रही बारिश के बीच अब सोशल मीडिया पर कुछ लोगों ने ओले गिरने के वीडियो पोस्ट करने शुरू कर दिए हैं. इन वीडियो में हजरतगंज और लालबाघ इलाके में ओले गिरने को लेकर कुछ पुराने वीडियो वाट्सएप, फेसबुक और अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर डाले जा रहे हैं. बताया जा रहा है कि अब ओले गिरने के कारण गाड़ियों और घरों को नुकसान हो रहा है और लोग घायल हो रहे हैं. लेकिन ये सभी वीडियो फेक हैं और इनमें सत्यता नहीं है. लखनऊ में तेज बारिश जरूर हुई है लेकिन ओले नहीं गिरे हैं.

ओले गिरने की संभावना कम
वहीं इस पर मौसम विभाग का कहना है कि फिलहाल की स्थितियों को देखते हुए तेज बारिश होने की अगले 24 घंटे में संभावना है लेकिन ओले गिरने की संभावना न के बराबर है. मौसम ‌विज्ञानियों के अनुसार फिलहाल हवा के दबाव और बादलों की स्थिति को देखते हुए ये साफ है कि ओले गिरने की स्थितियां अभी नहीं बनी हैं. ऐसे में लोगों को अतिवृष्टि के लिए तैयार रहना चाहिए लेकिन ओलों का खतरा नहीं है.

रिकॉर्ड तोड़ने पर तुली बारिश
राजधानी में गुरुवार सुबह 8.30 बजे से लेकर शाम को 5.30 बजे तक 115 मिलीमीटर बारिश लखनऊ में दर्ज की गई है. जानकारी के अनुसार इस साल 28 जुलाई को इस सीजन की सबसे ज्यादा बारिश हुई थी. उस दौरान 24 घंटे में कुल 115 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गयी थी. इससे पहले 2012 में 24 घंटे के दरम्यान कुल 138 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गयी थी.

Load More News

More from Other District