एटलस साइकिल फैक्ट्री बंद होने पर प्रियंका गांधी का ट्वीट- नौकरियां बचाने के लिए योजना स्पष्ट करे सरकार
Greater-Noida News in Hindi

एटलस साइकिल फैक्ट्री बंद होने पर प्रियंका गांधी का ट्वीट- नौकरियां बचाने के लिए योजना स्पष्ट करे सरकार
प्रियंका गांधी के निर्देश पर कांग्रेस के प्रतिनिधिमंडल ने जानी दलितों की पीड़ा. (file photo)

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) ने ट्वीट किया है कि विश्व साइकिल दिवस के मौके पर साइकिल कम्पनी एटलस की गाजियाबाद फैक्ट्री बंद हो गई. 1000 से ज्यादा लोग एक झटके में बेरोजगार हो गए.

  • Share this:
लखनऊ/गाजियाबाद. उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद (Ghaziabad) में देश की चर्चित साइकिल कंपनी एटलस (Atlas Company) ने अपनी फैक्ट्री (Factory) बंद करने का ऐलान कर दिया है. कंपनी ने आर्थिक तंगी का हवाला देते हुए फैक्ट्री बंद करने की बात कही है. उधर कंपनी के इस फैसले के बाद यूपी में सियासत तेज हो गई है. मामले में कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi Vadra) ने सरकार पर सवाल उठाए हैं.

प्रियंका गांधी ने ट्वीट किया है, “कल विश्व साइकिल दिवस के मौके पर साइकिल कम्पनी एटलस की गाजियाबाद फैक्ट्री बंद हो गई. 1000 से ज्यादा लोग एक झटके में बेरोजगार हो गए. सरकार के प्रचार में तो सुन लिया कि इतने का पैकेज, इतने MoU, इतने रोजगार. लेकिन असल में तो रोजगार खत्म हो रहे हैं, फैक्ट्रियां बंद हो रही हैं. लोगों की नौकरियां बचाने के लिए सरकार को अपनी नीतियाँ और योजना स्पष्ट करनी पड़ेगी.”

कंपनी ने जारी किया ये फरमान



बता दें 3 जून से कंपनी ने कारखाना प्रबंधक के माध्यम से अपने कर्मचारियों के लिए बैठकी (ले-ऑफ) की सूचना दे दी है और इसे गाजियाबाद के उपश्रमायुक्त, संराधन अधिकारी, गाजियाबाद के साथ फैक्ट्री के मुख्य द्वार, नोटिस बोर्ड और कर्मचारी संगठनों के दफ्तर में प्रेषित कर दिया है. इसमें कहा गया है कि कंपनी पिछले कई सालों से भारी आर्थिक संकट से गुजर रही है. कंपनी ने सभी उपलब्ध फंड खर्च कर दिए हैं और स्थिति ये है कि कोई अन्य आय के स्रोत नहीं बचे हैं. यहां तक कि दैनिक खर्चों के लिए भी धन उपलब्ध नहीं हो पा रहा है.
priyanka tweet
प्रियंका गांधी का ट्वीट


नोटिस में कहा गया है कि सेवायोजक जब तक धन का प्रबंध नहीं कर लेते, तब तक वे कच्चा माल खरीदने के लिए भी असमर्थ हैं. ऐसी स्थिति में सेवायोजक फैक्ट्री चलाने की स्थिति में नहीं हैं. यह स्थिति तब तक बने रहने की आशंका है, जब तक सेवायोजक धन का प्रबंध न कर लें. सभी कर्मचारी 3 जून से बैठकी (ले-ऑफ) पर घोषित किए जाते हैं. इस दौरान कर्मचारी साप्ताहिक अवकाश छोड़कर रोज फैक्ट्री के गेट पर अपनी हाजिरी लगाएं नहीं तो वे प्रतिकर पाने के अधिकारी नहीं होंगे.

कर्मचारी बोले- अचानक 1000 से ज्यादा लोग बेरोजगार कर दिए

वहीं कंपनी के कर्मचारियों का दूसरा ही कहना है. उन्होंने कहा कि दो दिन से कारखाना खुला है. उन्होंने 1 और 2 जून को कारखाने में काम किया, सफाई व्यवस्था के साथ काम हुआ. आज इन्होने गेट पर अचानक नोटिस लगा दिया और हमसे कहा कि आप हाजिरी लगाओ, अपने-अपने घर जाओ. सैलरी के बारे में भी कहा है कि आधा देंगे या नहीं देंगे, वो बाद की बात है. उन्होंने कहा कि इस कारखाने में करीब 1000 लोग काम करते हैं, ये सभी बेरोजगार हो गए हैं. मान लीजिए उन्होंने 5000 रुपये दिए भी तो उसमें तो हमारा किराया भी नहीं निकलेगा.

प्रोडक्शन की कोई दिक्कत नहीं थी कारखाने में- कर्मचारी

वहीं कारखाने से प्रोडक्शन की बात पर कर्मचारी ने बताया कि लॉकडाउन से पहले डेढ़ लाख से 2 लाख तक साइकिल हमने बेचीं. लॉकडाउन में थोड़ा असर जरूर पड़ा है. प्रोडक्शन में कोई कमी नहीं थी. कर्मचारी ने कहा कि आर्थिक तंगी संभव नहीं है. उन्होंने बताया कि एक साल पहले इनकी मालमपुर में यूनिट थी, उसे करीब एक साल पहले इन्होंने ऐसे ही बंद कर दिया था. दूसरा सोनीपत में सबसे बड़ा प्लांट था, वो भी इन्होंने अभी बंद कर दिया है.

ये भी पढ़ें:

देश की मशहूर साइकिल कंपनी एटलस ने आर्थिक तंगी के चलते बंद किया कारखाना

नोएडा फेज-2 में आधी रात को चली गोलियां, मुठभेड़ के बाद 25000 का इनामी गिरफ्तार
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading