अपना शहर चुनें

States

Farmer Protest : प्रियंका गांधी का बड़ा बयान, बोलीं- बिना किसानों से बात किए 'किसान कानून' कैसे बन सकते हैं?

किसान कानून बिना किसानों से बात किए कैसे बन सकते हैं? (file photo)
किसान कानून बिना किसानों से बात किए कैसे बन सकते हैं? (file photo)

प्रियंका ने कहा कि सरकार को किसानों (Farmer) की बात सुननी होगी. आइए मिलकर किसानों के समर्थन में आवाज उठाएं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 1, 2020, 11:11 PM IST
  • Share this:
लखनऊ. किसान आंदोलन (Farmer Protest) के प्रति सरकार के रवैए पर तीखी प्रतिक्रिया व्‍यक्‍त करते हुए प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) ने किसानों के पक्ष में एक ट्वीट किया है. सोमवार को एक वीडियो शेयर करते हुए प्रियंका गांधी ने पूछा है कि किसान कानून बिना किसानों से बात किए कैसे बन सकते हैं? प्रियंका गांधी ने ट्वीट में लिखा, "नाम किसान कानून. लेकिन सारा फायदा अरबपति मित्रों का. किसान कानून बिना किसानों से बात किए कैसे बन सकते हैं? उनमें किसानों के हितों की अनदेखी कैसे की जा सकती है? प्रियंका ने कहा कि सरकार को किसानों की बात सुननी होगी. आइए मिलकर किसानों के समर्थन में आवाज उठाएं."

इससे पहले समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि किसानों को आतंकवादी कहकर अपमानित करना भाजपा का निकृष्टतम रूप है. अखिलेश यादव ने रविवार सुबह ट्वीट कर किसान आंदोलन पर बीजेपी को घेरते हुए कहा कि किसानों को आतंकवादी कहकर अपमानित करना भाजपा का निकृष्टतम रूप है. ये अमीरों की पक्षधर भाजपा का खेती-खेत, छोटा-बड़ा व्यापार, दुकानदारी, सड़क, परिवहन सब कुछ, बड़े लोगों को गिरवी रखने का षड्यंत्र है. अगर भाजपा के अनुसार किसान आतंकवादी हैं तो भाजपाई उनका उगाया न खाने की कसम खाएं.






'कृषि कानून पर गलतफहमी ना रखें'
केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने किसानों से ट्वीट कर कहा, 'कृषि कानून पर गलतफहमी ना रखें. पंजाब के किसानों ने पिछले साल से ज्यादा धान मंडी में बेचा और ज़्यादा MSP पर बेचा. MSP भी जीवित है और मंडी भी जीवित है और सरकारी खरीद भी हो रही है.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज