डॉ. कफील खान की रिहाई के लिए प्रियंका गांधी ने योगी को याद दिलाई गुरु गोरखनाथ की कविता
Lucknow News in Hindi

डॉ. कफील खान की रिहाई के लिए प्रियंका गांधी ने योगी को याद दिलाई गुरु गोरखनाथ की कविता
प्रियंका गांधी ने सीएम योगी को लिखा पत्र (file photo)

प्रियंका गांधी वाड्रा ने पत्र में लिखा है कि डॉ. कफील खान (Dr Kafeel Khan) 450 दिनों से ज्यादा का समय जेल में काट चुके हैं. ऐसे में मुख्यमंत्री संवेदनशीलता का परिचय देते हुए डॉ. कफील को न्याय दिलवाएं.

  • Share this:
लखनऊ. जेल में बंद गोरखपुर स्थित बीआरडी मेडिकल कॉलेज (BRD Medical College) के निलंबित डॉक्टर कफील खान (Dr Kafeel Khan) की रिहाई को लेकर कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi Vadra) ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) को पत्र लिखा है. पत्र में उन्होंने लिखा है कि डॉ. कफील खान 450 दिनों से ज्यादा का समय जेल में काट चुके हैं. प्रियंका ने यह भी लिखा है कि मुख्यमंत्री संवेदनशीलता का परिचय देते हुए डॉ. कफील को न्याय दिलवाएं. साथ ही उन्होंने गुरु गोरखनाथ की एक कविता भी लिखी है और कहा है कि यह मुख्यमंत्री को प्रेरित करेगी.

प्रियंका गांधी ने सीएम योगी को पत्र लिखकर कहा है, 'मैं इस पत्र के माध्यम से डॉक्टर कफील खान का मामला आपके संज्ञान में लाना चाहती हूं. वे अब तक लगभग 450 दिन से ज्यादा जेल में गुजार चुके हैं. डॉ. कफील ने कठिन परिस्थितियों में निस्वार्थ भाव से लोगों की सेवा की है. मुझे उम्मीद है कि आप अपनी संवेदनशीलता का परिचय देते हुए डॉ. कफील को न्याय दिलवाने का पूरा प्रयास करेंगे. मुझे आशा है कि गुरु गोरखनाथ के ये सबदी आपको मेरे इस निवेदन को मानने के लिए प्रेरित करेगी.'

प्रियंका गांधी का लिखा पत्र




NSA के तहत मथुरा जेल में बंद हैं डॉ. कफील खान
गौरतलब है कि जनवरी में नागरिकता संशोधन कानून को लेकर अलीगढ में भड़काऊ भाषण देने के आरोप में यूपी पुलिस ने उन्हें मुंबई से गिरफ्तार किया था. इसके बाद उन पर नेशनल सिक्योरिटी एक्ट के तहत कार्रवाई की गई थी. वर्तमान में डॉ. कफील मथुरा जेल में बंद हैं. दरअसल, एएमयू में सीएए विरोधी एक प्रदर्शन के दौरान पिछले साल 12 दिसंबर को कथित तौर पर भड़काऊ भाषण देने के सिलसिले में डॉ. कफील के खिलाफ अलीगढ़ के सिविल लाइंस थाने में मामला दर्ज किया गया था.

बता दें डॉ. कफील खान को अगस्त 2017 में गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में कथित रूप से ऑक्सीजन की कमी की वजह से हुई 60 से ज्यादा बच्चों की मौत के मामले में गिरफ्तार किया गया था. करीब 2 साल के बाद जांच में खान को सभी प्रमुख आरोपों से बरी कर दिया गया था. बाद में हाईकोर्ट से उन्हें जमानत मिलने के बाद जेल से रिहा कर दिया गया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading