पोलियो ड्रॉप में वायरस की बात साबित, जांच में मिला प्रतिबंधित वायरस

देश की सबसे बड़ी ड्रग लैबोरेटरी कसौली का कहना है कि बायोमेट कंपनी की पोलिया ओरल ड्रॉप में खतरनाक वायरस मौजूद हैं. उल्लेखनीय है कि इस वायरस को भारत सहित दुनिया के तमाम देशों में 2016 में ही प्रतिबंधित कर दिया गया था.

News18 Uttar Pradesh
Updated: March 15, 2019, 9:52 AM IST
पोलियो ड्रॉप में वायरस की बात साबित, जांच में मिला प्रतिबंधित वायरस
फाइल फोटो
News18 Uttar Pradesh
Updated: March 15, 2019, 9:52 AM IST
ड्रग टेस्टिंग में पोलियो वैक्सीन में प्रतिबंधित वायरस पाया गया है. टेस्टिंग लैबोरेटरी ने कंपनी के उस दावे को खारिज कर दिया है, जिसमें कहा गया था कि वैक्सीन में प्रतिबंधित वायरस नहीं है. लैबोरेटरी में हुई जांच में पोलियो वैक्सीन में प्रतिबंधित PV2 वायरस पाया गया है. दरअसल सरकार ने कंपनी के वायरस वाले बैच को पहले ही जब्त कर लिया है. बता दें कि देश की सबसे बड़ी ड्रग लैबोरेटरी कसौली ने वैक्सीन में प्रतिबंधित वायरस को प्रमाणित कर दिया है. लैबोरेटरी का कहना है कि बायोमेट कंपनी द्वारा बनाई जा रही पोलिया ओरल ड्रॉप में खतरनाक PV2 वायरस मौजूद हैं. उल्लेखनीय है कि इस वायरस को भारत सहित दुनिया के तमाम देशों में 2016 में ही प्रतिबंधित कर दिया गया था.

बावजूद इसके बायोमेट कंपनी द्वारा बनाई गए पोलियो वैक्सीन में खतरनाक वायरस पाए गए है. हालांकि सरकार ने प्रतिबंधित वायरस वाले वैक्सीन को पहले ही जब्त कर लिया है. उल्लेखनीय है कि बायोमेट कंपनी की वैक्सीन करीब 15 लाख बच्चों की पिलाई जा चुकी है. गौरतलब है कि गुरुवार को एक बच्चे को पोलियो वैक्सीन देने के बाद उसकी मौत हो चुकी है. इसके बाद जांच के लिए एक समिति बनाई गई है.
Loading...

केन्द्रीय ड्रग कंट्रोल विभाग ने बायोमेटा कंपनी पर छापा मारकर बड़े पैमाने पर वैक्सीन जब्त की है. साथ ही आरोपी कंपनी को विभाग की तरफ से नोटिस भी भेजा गया है. लैबोटरी ने भी कहा है कि यह वैक्सीन प्रयोग के लिए बिल्कुल ही सुरक्षित नहीं थी. फिलहाल 15 लाख बच्चों को एंटी वैलिएटेड वैक्सीन दी जा रही है ताकि उनको भविष्य में कोई खतरा न हो. ये भी पढ़ें: देश में पहली बार पोलियो की खुराक पीने से एक बच्चे की मौत का आरोप
Loading...

और भी देखें

पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...