UP: प्रांतीय पुलिस सेवा संवर्ग को बड़ी सौगात, 52 अधिकारियों को मिला प्रमोशन

प्रांतीय पुलिस सेवा संवर्ग को बड़ी सौगात (File photo)
प्रांतीय पुलिस सेवा संवर्ग को बड़ी सौगात (File photo)

इससे पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) के निर्देश पर वित्त विभाग ने गुरुवार को बोनस भुगतान का शासनादेश जारी कर दिया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 6, 2020, 2:51 PM IST
  • Share this:
लखनऊ. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) की ओर से दीपावली पर किसानों, व्यापारियों, अधिकारियों और कर्मचारियों को तोहफा देने का दौर जारी है. विभिन्न सेवाओं में लगे कर्मचारियों को 30 दिन के बोनस का उपहार देने और किसान मंडी शुल्क की दर को घटाने की बहुप्रतीक्षित मांग पूरी करने के बाद अब मुख्यमंत्री ने प्रांतीय पुलिस सेवा संवर्ग के अधिकारियों को अपर पुलिस अधीक्षक के विभिन्न ग्रेड पे में प्रोन्नति प्रदान करने करने की सहर्ष स्वीकृति दी है. मुख्यमंत्री कार्यालय ने शुक्रवार को ट्वीट कर यह जानकारी दी.

योगी के इस फैसले से प्रांतीय पुलिस सेवा संवर्ग के 52 अधिकारी लाभान्वित होंगे. नव प्रोन्नत अधिकारियों में 21 अधिकारियों को अपर पुलिस अधीक्षक, विशेष श्रेणी-एक, ग्रेड पे-8700 में, 21 अधिकारियों को अपर पुलिस अधीक्षक, विशेष श्रेणी-एक, ग्रेड पे-8900 में तथा 10 अधिकारियों को अपर पुलिस अधीक्षक, उच्चतर श्रेणी ग्रेड पे-10000 में प्रोन्नति दी गई है. मुख्यमंत्री के इस फैसले से प्रोन्नति प्राप्त पुलिस अधिकारियों की दिवाली की खुशी दोगुनी होनी तय है.

ये भी पढे़ं- हाथरस कांड: फोरेंसिक टीम के साथ तीसरी बार घटनास्थल पहुंची CBI टीम, पूछताछ के बाद रोती दिखी पीड़िता की मां



इससे पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर वित्त विभाग ने गुरुवार को बोनस भुगतान का शासनादेश जारी कर दिया. शासनादेश के अनुसार, कर्मचारियों को वर्ष 2019-20 के लिए 30 दिनों के वेतन के बराबर बोनस मिलेगा. प्रति कर्मचारी 6908 रुपये की धनराशि मंजूर की गई है. यानि 1727 रुपये का नकद भुगतान होगा. बाकी जीपीएफ खाते में जाएगा. जो कर्मचारी 31 मार्च के बाद रिटायर हुए हैं या 30 अप्रैल 2021 तक सेवानिवृत्त होने वाले हैं, उन्हें बोनस की पूरी राशि का नकद भुगतान किया जाएगा.
इन कर्मचारियों को मिलेगा लाभ
इस बोनस का लाभ 4800 रुपये तक ग्रेड वेतन पाने वाले सभी पूर्णकालिक अराजपत्रित कर्मचारियों, राजकीय विभागों के कार्य प्रभारित कर्मचारियों, सहायताप्राप्त शिक्षण व प्राविधिक शिक्षण संस्थाओं, स्थानीय निकायों और जिला पंचायतों के कर्मचारियों को मिलेगा. केवल वही कर्मचारी इसके पात्र होंगे, जो 31 मार्च 2020 तक 1 साल की निरंतर सेवा पूरी कर चुके हों. वहीं, जिन कर्मचारियों को किसी विभागीय अनुशासनिक कार्रवाई या आपराधिक मुकदमे में दंड दिया गया हो, वे बोनस से वंचित रहेंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज