Home /News /uttar-pradesh /

UP Chunav 2022: अदिति सिंह लगातार रही हैं प्रियंका गांधी पर हमलावर, जानिए बीजेपी में जाने पर रायबरेली में क्या होगा असर?

UP Chunav 2022: अदिति सिंह लगातार रही हैं प्रियंका गांधी पर हमलावर, जानिए बीजेपी में जाने पर रायबरेली में क्या होगा असर?

UP: कांग्रेस कांग्रेस विधायक अदिति सिंह आज थाम सकती हैं बीजेपी का दामन  (File photo)

UP: कांग्रेस कांग्रेस विधायक अदिति सिंह आज थाम सकती हैं बीजेपी का दामन (File photo)

UP Political News: अदिति सिंह पिछले कई दिनों से प्रियका गांधी के खिलाफ लगातार हमलावर हैं. चाहे वह लखीमपुर खीरी का मामला हो या फिर कृष कानून वापसी का उन्होंने हमेशा प्रियंका गान्ही की राजनीति पर निशाना साधा. अदिति सिंह ने कहा कि कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी हर मुद्दे का राजनीतिकरण कर देती हैं. उन्होंने कहा कि लखमीपुर खीरी मामले की सीबीआई जांच कर रही है, सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले का संज्ञान लिया है. अगर उनके इन संस्थाओं में ही विश्वास नहीं है तो मुझे समझ में नहीं आता कि उनका किस पर विश्वास है.

अधिक पढ़ें ...

लखनऊ. रायबरेली (Raebareli) सदर से कांग्रेस विधायक अदिति सिंह (Congress MLA Aditi Singh) बुधवार को राजधानी लखनऊ (Lucknow) में बीजेपी (BJP) का दामन थाम सकती हैं. सूत्रों के हवाले से मिल रही खबर के मुताबिक उनके साथ बसपा की आजमगढ़ से विधायक वंदना सिंह और विधायक राकेश प्रताप सिंह भी बीजेपी ज्वाइन करेंगे. सोनिया गांधी के खिलाफ लोकसभा चुनाव लड़ने वाले दिनेश प्रताप सिंह के छोटे भाई हैं राकेश प्रताप सिंह. गौरतलब है कि पिछले डेढ़ साल से अदिति सिंह ने लगातार बगावती रुख अख्तियार किया हुआ है. कांग्रेस के उनके खिलाफ विधानसभा की सदस्यता रद्द करने की अर्जी भी दी थी.

गौरतलब है कि अदिति सिंह पिछले कई दिनों से प्रियका गांधी के खिलाफ लगातार हमलावर हैं. चाहे वह लखीमपुर खीरी का मामला  हो या फिर कृष कानून वापसी का उन्होंने हमेशा प्रियंका गांधी की राजनीति पर निशाना साधा. दरअसल, जब तक अखिलश सिंह रायबरेली सदर से विधायक रहे वे लगातार गांधी परिवार को चुनौती देते रहे. लेकिन तबियत बिगड़ने के बाद वे उन्होंने कांग्रेस के टिकट पर अदिति सिंह को 2017 में चुनाव लड़वाया और विधायक बनवाया। बावजूद इसके रायबरेली सदर की सीट कभी भी कांग्रेस की नहीं मानी गयी. पिता के मौत के बाद अदिति सिंह भी उनकी दबंग छवि के साथ समझौता नहीं कर रही हैं. वे लगातार कांग्रेस की नीतियों को चुनौती देती नजर आ रही है, इससे पहले उन्होंने कहा कि कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी हर मुद्दे का राजनीतिकरण कर देती हैं. उन्होंने कहा कि लखमीपुर खीरी मामले की सीबीआई जांच कर रही है, सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले का संज्ञान लिया है. अगर उनके इन संस्थाओं में ही विश्वास नहीं है तो मुझे समझ में नहीं आता कि उनका किस पर विश्वास है.

पिता की विरासत को बचाए रखने की चुनौती
अगर राजनीतिक विशेषज्ञों की मानें तो अदिति सिंह अपने पिता के वर्चस्व को बनाये रखते हुए अपने करियर को आगे बढ़ाना चाहती हैं. कांग्रेस के साथ रहकर यह संभव नहीं हैं, कयोबकी उनके पिता की गांधी परिवार से अदावत छिपी नहीं हैं. अगर पिता के विरासत को आगे बढ़ाना है तो उन्हें अपनी राजनीति की राहें अलग करनी होगी. उनके पिता कांग्रेस का गढ़ होने के बावजूद निर्दलीय चुनाव जीतते रहे हैं हैं. और अदिति सिंह यह बात बखूबी जानती हैं कि उन्हें भविष्य में किस राह को पकड़ना है.

लगातार प्रियंका गांधी पर करती रही हैं हमला
इससे पहले लॉकडाउन के दौरान कांग्रेस की तरफ से मजदूरों को लाने के लिए की गई बसों की व्यवस्था पर भी उन्होंने निशाना साधा था. उस समय उन्होंने कहा था, “आपदा के वक्त ऐसी निम्न सियासत की क्या जरूरत, एक हजार बसों की सूची भेजी, उसमें भी आधी से ज्यादा बसों का फर्जीवाड़ा, 297 कबाड़ बसें, 98 ऑटो रिक्शा और एबुंलेंस जैसे वाहन, 68 वाहन बिना कागजात के, ये कैसा क्रूर मजाक है, अगर बसें थीं तो राजस्थान, पंजाब, महाराष्ट्र में क्यों नहीं लगाई गईं.”

2017 में कांग्रेस के टिकट पर बनीं विधायक
गौरतलब है कि अदिति सिंह 2017 में रायबरेली की सदर विधानसभा सीट से कांग्रेस के टिकट पर विधायक चुनी गई थीं. लेकिन बाद में उनके कांग्रेस से रिश्ते तल्ख हो गए. उनकी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और बीजेपी से काफी नजदीकी है. वो अक्सर कांग्रेस की नीतियों के विरुद्ध बीजेपी सरकार के कामकाज की तारीफ करती नजर आती हैं. उन्होंने जम्मू कश्मीर से 370 हटाने का समर्थन किया था. इससे कांग्रेस को काफी शर्मिंदगी उठानी पड़ी थी. कांग्रेस ने अदिति सिंह की सदस्यता खत्म करने के लिए विधानसभा अध्यक्ष के यहां अपील की थी. लेकिन उसकी अर्जी खारिज कर दी गई.

Tags: Aditi singh, Lucknow latest news, UP Assembly Election 2022, UP Assembly Election News, UP Assembly Elections 2022

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर