Lucknow news

लखनऊ

अपना जिला चुनें

Rafale Deal Controversy: मायावती का बड़ा बयान, बोलीं- जनसंतोष के मुताबिक इस मुद्दे का निपटारा करे सरकार

राफेल विवाद को जल्‍द विराम दे केंद्र सरकार: मायावती (फोटो- PTI)

राफेल विवाद को जल्‍द विराम दे केंद्र सरकार: मायावती (फोटो- PTI)

Rafale Deal Controversy: बसपा सुप्रीमो मायावती (BSP Supremo Mayawati) ने राफेल डील मामले पर बड़ा बयान दिया है. उन्‍होंने कहा कि रक्षा सौदों में कमीशन का आरोप-प्रत्यारोप और इसकी जांच आदि होना यहां कोई नया नहीं बल्कि कांग्रेस सरकार के समय से ही पुराना ज्वलन्त अध्याय है, लेकिन मौजूदा सरकार को इस मामले का जनसंतोष के मुताबिक निपटारा करना चाहिए.

SHARE THIS:
लखनऊ/नई दिल्ली. राफेल डील मामले (Rafale Deal Controversy) में फ्रांस में एक बार फिर से जांच शुरू हो चुकी है. इसके साथ एक बार फिर से 36 लड़ाकू विमान राफेल का जिन्न बाहर निकलकर देश का राजनीतिक पारा बढ़ा सकता है. जबकि इस मसले पर कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने इशारों में बता दिया कि आने वाले वक्त में राष्ट्रीय स्तर पर इस मुद्दे को उठाया जा सकता है. वहीं, बसपा सुप्रीमो मायावती (BSP Supremo Mayawati) ने भी बड़ा बयान दिया है. उन्‍होंने ट्वीट कर लिखा, 'भारत सरकार द्वारा राफेल लड़ाकू विमान की खरीद में कथित भ्रष्टाचार के आरोपों पर फ्रांस की सरकार द्वारा बैठाई गई न्यायिक जांच की खबर देश-दुनिया में बड़ी सुर्खियों में आने से यह मामला फिर से ताजा होकर जनचर्चाओं में आ गया है. केन्द्र की सरकार (Central Government) भी इसका उचित संज्ञान ले तो बेहतर है.

इसके अलावा उन्‍होंने एक अन्‍य ट्वीट में लिखा, 'वैसे रक्षा सौदों में कमीशन का आरोप-प्रत्यारोप व इसकी जांच आदि होना यहां कोई नया नहीं बल्कि कांग्रेस सरकार के समय से ही पुराना ज्वलन्त अध्याय है. लेकिन केन्द्र की वर्तमान सरकार राफेल विवाद को जनसंतोष के मुताबिक निपटारा करके इस मुद्दे को विराम दे तो यह उचित, ऐसा बीएसपी का मानना है.

इस वजह से शुरू हो रही है जांच
बता दें कि राफेल डील के मसले पर पक्षपात और भ्रष्टाचार से जुड़े मसले पर हाल में ही कुछ नए इनपुट प्राप्त करने के बाद फ्रांस की पब्लिक प्रोसिक्यूशन सर्विसेज की फाइनेंसियल क्राइम ब्रांच (PNF) ने एक बयान जारी करके बताया है कि इस सौदे से संबंधित जांच एक बार फिर से शुरू हुई है. साथ ही उम्‍मीद जताई है कि जल्द ही कई अन्य खुलासे हो सकते हैं. वहीं, राफेल लड़ाकू विमानों की सौदेबाजी की तफ़्तीश के बाद कोर्ट में सुनवाई के लिए एक जज की नियुक्ति की गई है.

ये भी पढ़ें- UP News: दूल्‍हा बना बेटा दुल्‍हन को डाल रहा था वरमाला, फिर मां की एंट्री के बाद मच गई अफरा-तफरी

जानें कैसे शुरू हुई राफेल सौदेबाजी से जुड़े मामले जांच
एक रिपोर्ट के मुताबिक राफेल लड़ाकू विमान की सौदेबाजी मामले में करीब 7.8 बिलियन यूरो की डील होने की बात हुई थी, लिहाजा साल 2018 में फ्रेंच एनजीओ शेरपा ने राफेल सौदेबाजी से जुड़े मसले पर सबसे पहले सवाल खड़ा किया था. उसके बाद इसी मामले को आधार बनाते हुए भारत देश में प्रमुख विपक्षी पार्टी कांग्रेस के प्रमुख राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने इस मुद्दे को लेकर कई प्रेस कॉन्फ्रेंस की थी. इसके बाद इस मसले पर भाजपा और कांग्रेस में घमासान हो गया. हालांकि इसके बाद सुप्रीम कोर्ट में कई याचिका भी दायर हुई थी. बता दें कि 2018 में एनजीओ शेरपा की शिकायत को फ्रांस की पब्लिक प्रोसिक्यूशन सर्विसेज की फाइनेंसियल क्राइम ब्रांच ने इसे खारिज कर दिया था. हालांकि अब इस मामले पर फिर से जांच शुरू होने से भारत की सियासत तेज हो सकती है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

UP रोडवेज की अंतर्राज्यीय स्कैनिया लग्जरी बस सेवाएं बंद, हजारों यात्री परेशान

UP: यूपी रोडवेज ने स्कैनिया लग्जरी बसों के साथ अनुबंध खत्म कर दिया है. (File Photo)

UP News: लखनऊ में यूपीएसआरटीसी के रीजनल मैनेजर पीके बोस ने बताया कि अभी तक कुल 28 स्कैनिया और वॉल्वो बसों का संचालन किया जा रहा था. इसमें 23 स्कैनिया बसों का संचालन रोक दिया गया है. वहीं 5 वॉल्वो बसें पूर्व की तरह चल रही हैं.

SHARE THIS:

लखनऊ. उत्तर प्रदेश परिवहन विभाग से बड़ी खबर आ रही है. बताया जा रहा है कि लगातार घाटे के चलते उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम (UPSRTC) की अनुबंधित अंतरराज्यीय स्कैनिया एसी बसों की सेवाएं बंद कर दी गई हैं. सिर्फ 5 लग्जरी वॉल्वो बस ही चल रही हैं. यूपीएसआरटीसी ने स्कैनिया बस कंपनी से घाटे के चलते अनुबंध खत्म कर दिया है. बताया जा रहा है कि अब नई शर्तों के साथ जल्द अनुबंध की तैयारी है. उधर यूपीएसआरटीसी के अचानक आए इस फैसले से हजारों यात्रियों के आगे बड़ा संकट खड़ा हो गया है. दीपावली को लेकर हर साल पहले ही बसें कम पड़ती थीं, अब लोगों को चिंता है कि और बसें कम होने से वह अपने घर कैसे पहुंच पाएंगे.

उधर इस संबंध में लखनऊ में यूपीएसआरटीसी के रीजनल मैनेजर पीके बोस ने बताया कि अभी तक कुल 28 स्कैनिया और वॉल्वो बसों का संचालन किया जा रहा था. इसमें 23 स्कैनिया बसों का संचालन रोक दिया गया है. वहीं 5 वॉल्वो बसें पूर्व की तरह चल रही हैं. उन्होंने कहा कि दीपावली से पहले हमारी कोशिश है कि बसें फिर से शुरू हों. ऐसे में अगर स्कैनिया बसों के संचालक हमसे संपर्क करेंगे तो नई शर्तों के साथ अनुबंध किया जाएगा. वहीं अगर ऐसा नहीं हुआ तो क्या करेंगे? इस पर उन्होंने कहा कि तब दीपावली के लिए जनरथ बसों की सेवाएं ली जाएंगी.

बता दें अब स्कैनिया बसों की ऑनलाइन टिकट बुकिंग में नो बस सर्विस दिखने लगा है. जानकारी के अनुसार इन बसों के संचालन से यूपीएसआरटीसी को घाटा हो रहा था. इसी वजह से इन लग्जरी बसों का अनुबंध 31 अगस्त 2021 को खत्म कर दिया गया. अब नई शर्तों के साथ बस सेवाएं बहाल हो पाएंगीं लेकिन इसमें कितन समय लगेगा, इसका उत्तर किसी अफसर के पास नहीं है. फिलहाल यात्रियों के लिए बड़ी मुश्किल खड़ी हो गई है.

बता दें लखनऊ से सात राज्यों के बीच बसें चलती थीं, इनमें सबसे ज्यादा दिल्ली, फिर राजस्थान, उत्तराखंड, मध्य प्रदेश, बिहार, हिमाचल प्रदेश और हरियाणा का रूट शामिल था. पीके बोस ने बताया कि लखनऊ से रोजाना 2000 से ज्यादा यात्री गैर राज्यों के बीच बसों से सफर करते थे.

UPPSC Recruitment 2021: UPPSC ने निकाली बंपर भर्तियां, लाखों की सैलरी पाने का मौका

UPPSC Recruitment 2021: आवेदन की अंतिम तिथि 15 अक्टूबर, 2021 है

UPPSC Recruitment 2021: भर्ती के लिए आवेदन की अंतिम तिथि 15 अक्टूबर, 2021 है. आधिकारिक अधिसूचना के अनुसार पदों पर चयन के लिए उम्मीदवारों को एक लिखित परीक्षा देनी होगी. जो इस परीक्षा में उत्तीर्ण होंगें हैं, वे इंटरव्यू में बैठ सकेंगे.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 18, 2021, 13:09 IST
SHARE THIS:

नई दिल्ली. UPPSC Recruitment 2021: उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग, (UPPSC) ने तकनीकी शिक्षा विभाग में विभिन्न पदों पर भर्ती के लिए अधिसूचना जारी की है. जिसके अनुसार प्रधानाचार्य, लेक्चरर और अन्य के 1370 रिक्त पदों पर भर्ती के लिए आवेदन आमंत्रित किए हैं. इच्छुक उम्मीदवार UPPSC की आधिकारिक वेबसाइट uppsc.up.nic.in पर जाकर आवेदन कर सकते हैं.

भर्ती के लिए आवेदन की अंतिम तिथि 15 अक्टूबर, 2021 है. आधिकारिक अधिसूचना के अनुसार पदों पर चयन के लिए उम्मीदवारों को एक लिखित परीक्षा देनी होगी. जो इस परीक्षा में उत्तीर्ण होंगें हैं, वे इंटरव्यू में बैठ सकेंगे. जो कि इस भर्ती प्रक्रिया अंतिम राउंड है. महत्वपूर्ण तिथियों, वैकेंसी डिटेल और आवेदन कैसे करें इसकी डिटेल नीचे दी जा रही है.

UPPSC Recruitment 2021: वैकेंसी डिटेल
प्राचार्य- 13 पद
लेक्चरर मैकेनिकल इंजीनियरिंग- 238 पद
लेक्चरर इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग- 213 पद
लेक्चरर सिविल इंजीनियरिंग- 125 पद
लेक्चरर इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग- 145 पद
लेक्चरर केमिकल इंजीनियरिंग- 47 पद
लेक्चरर कंप्यूटर- 132 पद
लेक्चरर पेंट टेक्नोलॉजी- 11 पद
लेक्चरर टेक्सटाइल टेक्नोलॉजी- 36 पद
लेक्चरर टेक्सटाइल डिजाइन- 5 पद
लेक्चरर टेक्सटाइल डिजाइन मुद्रण- 8 पद
लेक्चरर कालीन टेक्नोलॉजी- 12 पद
लेक्चरर लेदर टेक्नोलॉजी- 6 पद
लेक्चरर प्लास्टिक मोल्ड टेक्नोलॉजी- 2 पद
लेक्चरर इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग- 1 पद
लेक्चरर डेयरी इंजीनियरिंग- 7 पद
लेक्चरर आर्किटेक्ट- 1 पद
लेक्चरर ऑटो इंजीनियरिंग- 5 पद
लेक्चरर टेक्सटाइल केमिकल साइंस- 3 पद
लेक्चरर टेक्सटाइल इंजीनियरिंग- 6 पद
लेक्चरर फार्मेसी- 25 पद
लेक्चरर इंस्ट्रुमेंटेशन एंड कॉन्ट्रो- 5 पद
लेक्चरर इंटीरियर डिजाइनिंग- 3 पद
लेक्चरर शूज टेक्नोलॉजी- 2 पद
लेक्चरर केमिकल रबड़ और प्लास्टिक- 1 पद
लेक्चरर (गैर-इंजीनियरिंग) पद- 215 पद
लेबोरेटरी अधीक्षक- 16 पद
लाइब्रेरियन- 87 पद वेतन

UPPSC Recruitment 2021: वेतन
आधिकारिक अधिसूचना के अनुसार प्रिंसिपल पदों नियुक्त होने वाले उम्मीदवारों को 1,31,400 रुपये वेतन दिया जाएगा. इसके अलावा 9A श्रेणी के पदों पर नियुक्त उम्मीदवारों को 56,100 रुपये और लेवल 10 की श्रेणी में नियुक्त होने वाले उम्मीदवारों को 57,700 रुपये का वेतन प्रतिमाह दिया जाएगा. उम्मीदवार भर्ती के लिए विस्तृत डिटेल अधिसूचना में देख सकते हैं.

ये भी पढ़ें-
Police Recruitment 2021 : पुलिस के सिग्नल सर्विस में 12वीं पास के लिए वैकेंसी, तुरंत करें आवेदन
Government jobs: 10वीं पास के लिए विभिन्न पदों पर सरकारी नौकरियां, आवेदन का अंतिम मौका आज

UP चुनाव से पहले योगी सरकार का बड़ा कदम, डॉक्टरों की रिटायरमेंट उम्र होगी 70 वर्ष

UP: योगी सरकार डॉक्टरों की रिटायरमेंट उम्र को लेकर बड़ा फैसला करने जा रही है. (File Photo- मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ)

UP News: यूपी के चिकित्सा शिक्षा मंत्री सुरेश खन्ना ने कहा कि हमें ज्यादा अनुभव वाले डॉक्टरों की आवश्यकता है. डॉक्टर रिटायरमेंट के बाद अपना कोई प्राइवेट क्लीनिक खोलें, इससे बेहतर है कि वह अपनी सेवाएं हमें ही दें.

SHARE THIS:

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव-2022 (UP Assembly Election 2022) से पहले प्रदेश की योगी सरकार (Yogi Government) बड़ा फैसला करने जा रही है. योगी सरकार डाक्टरों की रिटायरमेंट की उम्र (Doctor’s Retirement Age) बढ़ाने जा रही है. दरअसल योगी सरकार ने कोरोना और अन्य बीमारियों को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग में एक बड़ा फैसला करने की तैयारी की है. जिसके तहत डॉक्टरों की रिटायरमेंट उम्र 65 से बढ़ाकर 70 वर्ष की जाएगी.

जानकारी के अनुसार इस निर्णय से संबंधित प्रस्ताव पर जल्द ही योगी सरकार की कैबिनेट बैठक में मुहर लगाई जाएगी. उत्तर प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री सुरेश खन्ना ने न्यूज 18 से EXCLUSIVE बयान में कहा है कि हमें ज्यादा अनुभव वाले डॉक्टरों की आवश्यकता है. डॉक्टर रिटायरमेंट के बाद अपना कोई प्राइवेट क्लीनिक खोलें, इससे बेहतर है कि वह अपनी सेवाएं हमें ही दें. इसको देखते हुए हमने प्रस्ताव तैयार किया है. सीएम योगी आदित्यनाथ ने इस पर अपनी सहमति भी दे दी है. जल्द ही इसे कैबिनेट से मंजूरी दी जाएगी.

विपक्ष के पास आज कोई मुद्दा नहीं: सुरेश खन्ना

वहीं सरकार के कार्यकाल के संबंध में वरिष्ठ मंत्री ने कहा कि योगी सरकार ने अपने कार्यकाल में अब तक लोक संकल्प पत्र का हर वादा पूरा किया है. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में हमने वो काम किये हैं, जो सोचना भी सपा और बसपा के लिए मुश्किल था. कोरोना को लेकर अभी राज्यों के हालात बेहद बुरे हैं लेकिन यूपी जैसे बड़े राज्य में आज 35 से ज्यादा ऐसे जिले हैं, जो कोरोना से मुक्त हो चुके हैं. यहां तक कि वैक्सीनेशन के मामले में भी हमने बाकि राज्यों को पीछे छोड़ दिया. आज यूपी में 50 प्रतिशत से ज्यादा आबादी वैक्सीन की पहली डोज ले चुकी है. इस सरकार में जितने मेडिकल कॉलेज खोले गये वो किसी सरकार में नही खोले गये हैं. विपक्ष के पास आज कोई मुद्दा नहीं है.

सुरेश खन्ना ने आगामी चुनाव को लकर कहा कि विपक्ष के पास फिलहाल कोई मुद्दा नहीं है. वो सिर्फ किसानों को भड़काकर अपनी दुकान चलाने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन उनकी दाल नहीं गलने वाली है. जनता ने हम पर जो भरोसा किया था, हम उनसे खरे उतरे हैं.

Sitapur News: देवर ने भाभी की गर्दन पर चाकू से वार कर उतारा मौत के घाट, सामने आई बड़ी वजह

Sitapur News:  देवर ने की भाभी की हत्या (File photo)

UP Crime News: सीओ सिटी पीयूष कुमार सिंह का कहना है कि पुलिस ने तत्काल कार्रवाई करते हुए आरोपी देवर को गिरफ्तार कर लिया है. उस पर सख्त कार्रवाई की जा रही है.

SHARE THIS:

सीतापुर. उत्तर प्रदेश के सीतापुर (Sitapur) जिले में शुक्रवार रात देवर ने भाभी की निर्मम हत्या (Murder) कर दी. उसने अपनी भाभी की गर्दन पर सब्जी काटने वाले चाकू से वार कर मौत के घात उतार दिया. सनसनीखेज वारदात के बाद गांव में हड़कंप मच गया. आरोपी देवर घटना के बाद मौके से भाग गया. सूचना पाकर सीओ सिटी सहित थाना पुलिस मौके पर पहुंची. पुलिस ने महिला के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. फिलहाल पुलिस की जांच जारी है.

सीओ सिटी पीयूष कुमार सिंह का कहना है कि पुलिस ने तत्काल कार्रवाई करते हुए आरोपी देवर को गिरफ्तार कर लिया है. उस पर सख्त कार्रवाई की जा रही है. हत्या की यह सनसनी खेज वारदात रामकोट इलाके के इंदरौली की है. बताते है कि मृतका सुमन का देर रात खाना बनाते समय अपने देवर शंकर से किसी बात को लेकर विवाद हो गया था. दोनों के बीच विवाद इतना बढ़ा की शंकर ने अपनी भाभी सुमन पर चाकू से ताबड़तोड़ प्रहार कर दिए. जिससे सुमन की मौके पर ही मौत हो गई. सुमन को मरा हुआ देख देवर शंकर मौके से भाग गया. हत्या की इस घटना के बाद पूरे इलाके में सनसनी फैल गई.

पति की मौत के बाद देवर संग रहने लगी थी सुमन
दरअसल, सुमन के पति सेवक राम की करीब चार साल पहले मौत हो गई थी. जिसके बाद सुमन अपने देवर के साथ बतौर पत्नी रहने लगी थी. सुमन गांव के बाहर मकान बनाकर रह रही थी. इससे पहले आरोपी शंकर चोरी के एक मामले में जमानत पर जेल से छूटकर वापस आया था. सीओ सिटी पीयूष कुमार सिंह ने बताया कि प्रथम दृष्टया यह घटना खाना बनाने के दौरान हुए विवाद को लेकर ही हुई प्रतीत होती है. बावजूद इसके पुलिस अन्य बिंदुओं की भी पड़ताल कर रही है.

UP Board Exams: 10वीं और 12वीं की इम्‍प्रूवमेंट परीक्षा आज से, कैमरे की निगरानी में हो रहा एग्‍जाम

UP Board Exam :  जो छात्र अपने रिजल्‍ट से संतुष्‍ट नहीं हैं, वह इस परीक्षा में शामिल हो रहे हैं.

UP Board improvement Exams 2021: 10वीं की यूपी बोर्ड इम्प्रूवमेंट परीक्षाएं 4 अक्टूबर तक चलेंगी, वहीं 12वीं की परीक्षाएं 6 अक्टूबर को खत्म होंगी. परीक्षा की अवधि दो घंटे है.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 18, 2021, 10:59 IST
SHARE THIS:

नई दिल्ली: उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद (UPMSP) आज से कक्षा 10वीं और 12वीं की इम्‍प्रूमेंट परीक्षा शुरू कर रही. यूपी बोर्ड कक्षा 10वीं और 12वीं की परीक्षा उन छात्रों के लिए है, जो अपने वैकल्पिक मूल्यांकन मानदंड से प्राप्त परिणाम से संतुष्‍ट नहीं हैं और जिन्‍हें लगता है कि उनका रिजल्‍ट और बेहतर हो सकता है.

क्‍लास 10 की यूपी बोर्ड सुधार परीक्षा (Class 10 UP Board improvement exams) 4 अक्टूबर तक चलेगी. जबकि कक्षा 12 की परीक्षा (Class 12 UP Board improvement exams) 6 अक्टूबर को समाप्त होगी. दोनों एग्‍जाम की अवधि दो घंटे है.

बोर्ड परीक्षा का आयोजन कैमरे की निगरानी में हो रहा है. परीक्षा हॉल में छात्रों के बीच दूरी रखी गई है. सोशल डिस्‍टेंसिंग के साथ कोविड-19 प्रोटोकॉल का पूरा ध्‍यान रखा गया है.

UPMSP ने 31 जुलाई को कक्षा 10वीं और 12वीं के परिणाम घोषित किए हैं. यूपी बोर्ड 10वीं के परिणाम का कुल पास प्रतिशत 99.53 फीसदी रहा, जबकि यूपी इंटर कक्षा 12वीं में यह 97.88% था.

इम्‍प्रूवमेंट परीक्षा देने के बाद जो अंक आएगा, उसे फाइनल माना जाएगा. उत्‍तर प्रदेश बोर्ड (Uttar Pradesh board), कुछ चुने हुए केंद्रों पर परीक्षा (UPMSP improvement exams) आयोजित कर रहा है. हालांकि सरकार की तरफ से जारी आदेश के अनुसार बारिश के कारण राज्‍य के सभी शैक्षणिक संस्‍थान अगले दो दिनों तक बंद ही रहेंगे. लेकिन जिन स्‍कूलों में परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं, उन्‍हें खोला जाएगा.

ये भी पढ़ें 
Government jobs: 10वीं पास के लिए विभिन्न पदों पर सरकारी नौकरियां, आवेदन का अंतिम मौका आज

हरियाणा में 8वीं फिर से बनेगी बोर्ड कक्षा, शिक्षा विभाग के फैसले पर सीबीएसई व आईसीएसई ने जताई आपत्ति

Terrorist Arrest: प्रयागराज में शाहरुख नाम के संदिग्ध ने सरेंडर से पहले किया FB लाइव, कहा- मैं बेगुनाह हूं!

Terrorist Arrest: प्रयागराज में शाहरुख नाम के संदिग्ध ने सरेंडर से पहले किया FB लाइव (File photo)

Prayagraj News: इससे पहले, शाहरुख के एक रिश्तेदार उमेद उर रहमान ने भी कल प्रयागराज पुलिस के सामने सरेंडर किया था. उमेद उर रहमान को एटीएस की टीम आज लेकर लखनऊ जाएगी.

SHARE THIS:

प्रयागराज. देश में दहशत फैलाने के लिए आए आतंकियों की गिरफ्तारी के बाद अब दहशतगर्दों के हौसले टूटते नजर आ रहे हैं. इसी कड़ी में शनिवार को प्रयागराज में शाहरुख (Shahrukh) नाम के संदिग्ध ने फेसबुक पर वीडियो पोस्ट कर पुलिस के सामने सरेंडर करने का दावा किया है. लेकिन पुलिस ने शाहरुख को हिरासत में लेने से मना कर दिया. शाहरुख ही वह शख्स है जिसके पोल्ट्री फॉर्म से एटीएस और दिल्ली पुलिस को आईईडी बरामद हुआ था. शाहरुख का दावा है कि आईईडी उसे एक दिन पहले ही गिरफ्तार संदिग्ध आतंकी जीशान ने रखने के लिए दिया था. अगले दिन जीशान की निशानदेही पर एटीएस और दिल्ली पुलिस ने छापेमारी कर शाहरुख के पोल्ट्री फार्म से ही आईईडी बरामद की थी. बरामद आईईडी को बम डिस्पोजल स्क्वायड के जरिए डिस्पोज किया गया था.

खुद थाने पहुंचा शाहरुख
शाहरुख ने कल रात फेसबुक लाइव कर खुद को बेगुनाह बताया और कोतवाली थाने में जाकर सरेंडर करने की बात कही. चौक इलाके से किए गए लाइव में वह चलते हुए कोतवाली थाने तक गया है. फेसबुक लाइव में शाहरुख ने दावा किया है कि वह खुद की बेगुनाही साबित करने के लिए पुलिस के सामने पेश हो रहा है. उसने बताया कि जिस दिन उसके पोल्ट्री फार्म से आईईडी बरामद हुई थी एटीएस अफसरों ने उसे फोन किया था. फोन पर वक्त दिए जाने के बावजूद डर की वजह से वह मोबाइल बंद कर फरार हो गया था.

शाहरुख के दो करीबी रिश्तेदार गिरफ्तार
इससे पहले, शाहरुख के एक रिश्तेदार उमेद उर रहमान ने भी कल प्रयागराज पुलिस के सामने सरेंडर किया था. उमेद उर रहमान को एटीएस की टीम आज लेकर लखनऊ जाएगी. बहरहाल, शाहरुख का जिस तरीके का कनेक्शन सामने आया है वह बेहद चौंकाने वाला है. इसी हफ्ते हुई छापेमारी में शाहरुख के दो करीबी रिश्तेदार गिरफ्तार हुए हैं. ओसामा की गिरफ्तारी दिल्ली में और आमिर बेग की गिरफ्तारी लखनऊ से हुई है. जबकि शाहरुख के करीबी जीशान कमर की गिरफ्तारी प्रयागराज से हुई है.

बड़ी साजिश की थी तैयारी
आतंकियों ने देश में दहशत फैलाने की बड़ी साजिश रची थी. उनके निशाने पर कई नामचीन लोग भी थे. इसी के साथ ही कई शहरों में धमाके करने की भी योजना आतंकवादियों ने बना रखी थी. वहीं उत्तर प्रदेश में होने जा रहे विधानसभा चुनावों में भी आतंकी दहशत फैलाने वाले थे.

UP News Live Updates: मुकेश सहनी ने ओमप्रकाश राजभर से की मुलाकात, सियासी हलचल तेज

UP: मुकेश सहनी ने ओमप्रकाश राजभर से की मुलाकात

UP News Live Updates: बताया जा रहा है कि 2022 विधानसभा चुनाव को लेकर करीब 1 घंटे दोनों नेताओं के बीच चर्चा हुई. फिलहाल दोनों नेताओं के मुलाकात के बाद सियासी हलचल बढ़ गई है.

  • News18Hindi
  • LAST UPDATED : September 18, 2021, 10:32 IST
SHARE THIS:

UP News Live Updates 18 September 2021:  उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले प्रयागराज में विकासशील इंसान पार्टी (VIP) के राष्ट्रीय अध्यक्ष और बिहार सरकार में मंत्री मुकेश सहनी ने शनिवार को सुभासपा राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर से मुलाकात की. बताया जा रहा है कि 2022 विधानसभा चुनाव को लेकर करीब 1 घंटे दोनों नेताओं के बीच चर्चा हुई. फिलहाल दोनों नेताओं के मुलाकात के बाद सियासी हलचल बढ़ गई है.

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ (Lucknow) में जीएसटी परिषद (GST Council) की 45वीं बैठक में पेट्रोल व डीजल की महंगाई से अभी राहत नहीं मिली है. केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister Nirmala Sitaraman) की अध्यक्षता में हुई बैठक में पेट्रोल व डीजल को जीएसटी में शामिल करने पर विचार किया गया, लेकिन इस पर सहमति नहीं बनी. हालांकि, काउंसिल ने आम लोगों को राहत देने वाले भी कुछ फैसले किए हैं. कई महंगी जीवनरक्षक दवाओं को जीएसटी से मुक्त कर दिया गया हैं. साथ ही कोविड से जुड़ी दवाओं पर जीएसटी की रियायत 31 दिसंबर तक बढ़ा दी गई है. निर्यात के लिए जीएसटी इनपुट क्रेडिट साल के अंत तक जारी रहेगी. वहीं दिव्यांगों के लिए बनी गाड़ियों को अब सिर्फ 5 प्रतिशत कर देना होगा. बायो डीजल में घटोत्तरी करते हुए 12 से 5 प्रतिशत पर लाया गया है.

निर्मला सीतारमण ने बताया कि हमने जनता के हितों वाले फैसले लिए हैं. ये सभी लंबे समय से अटके पड़े थे. आवश्यक दवा को लेकर प्रक्रिया बहुत लंबी थी, जिसको अब टैक्स के दायरे से बाहर कर दिया गया है. zolgensma और viltepso नाम की बहुत महंगी दवाओं को टैक्स के दायरे से बाहर रखने का फैसला आज हुआ है. स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से जिन दवाओं को टैक्स के दायरे के बाहर रखने का सुझाव आया था, उन्हें भी छूट दी गई है.

अखिलेश यादव ने सपा कार्यकर्ताओं को दी नसीहत, 'यूपी चुनाव में EVM और DM से रहें सावधान'

UP: कोरोना काल में काम आई समाजवादियों की एम्बुलेंस (File photo)

UPAssembly Election: समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा कि वह यह न भूलें कि ऐसा अवसर फिर दोबारा नहीं आने वाला है. अखिलेश यादव ने यूपी में हुए जिला पंचायत के चुनावों में गुंडागर्दी का भी आरोप लगाया था.

SHARE THIS:

लखनऊ. उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव एक्टिव हैं. राजधानी लखनऊ में अखिलेश ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पार्टी कार्यकर्ताओं को ईवीएम (EVM) से सावधान रहने की नसीहत दी. उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव को सबसे बड़ा चुनाव बताते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि ईवीएम से सावधान रहें. इसके अलावा, जिले के डीएम को लेकर भी सावधान रहें और चुनाव की पूरी तैयारी करें. सपा अध्यक्ष ने आरोप लगाया कि ईवीएम और डीएम बिहार चुनाव में ईमानदार नहीं थे, जिसका जवाब उन्हें बंगाल चुनाव के नतीजों में मिल गया.

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कार्यकर्ताओं से कहा कि बूथों पर बीजेपी की बुरी नजर है. यह लोकतंत्र बचाने के लिए सपा कार्यकर्ताओं की परीक्षा का का समय है. उन्होंने अपने कार्यकर्ताओं से बिना समय बर्बाद किए अपने-अपने क्षेत्रों में खुद को समर्पित करने को कहा. अखिलेश यादव ने कहा कि इस कार्य में कोई झिझक न हो और यह तय करें कि बूथ पर किसी भी प्रकार की कोई गड़बड़ी न करने पाए.

यह भी पढ़ें- UP: 100 से अधिक फर्जी शिक्षकों की भर्ती कराने वाले गिरोह का खुलासा, 3 गिरफ्तार

पार्टी कार्यकर्ताओं से अखिलेश यादव ने कहा कि वह यह न भूलें कि ऐसा अवसर फिर दोबारा नहीं आने वाला है. एक दिन पहले ही अखिलेश यादव ने यूपी में हुए जिला पंचायत के चुनावों में गुंडागर्दी होने का आरोप लगाया था. अखिलेश ने कहा कि सरकार सिर्फ नाम बदलने का सिर्फ काम कर रही है. उन्होंने पूछा- 5 ट्रिलियन इकोनॉमी का सपना कहां गया? मुख्यमंत्री ने 1 ट्रिलियन इकॉनमी के लक्ष्य की बात कही थी, कहां है? लखनऊ में बड़े-बड़े कागजों पर दस्तखत हुआ था. बड़े-बड़े एमओयू साइन हुए थे.

कोरोना काल में काम आई समाजवादियों की एम्बुलेंस
पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि कोरोना में लोगों की कितनी जान चली गयी? अस्पतालों में ऑक्सीजन नहीं था, बेड नहीं था. कोरोना काल में समाजवादियों की चलाई गई एम्बुलेंस काम आयी. ऐसा लॉक डाउन किया कि गरीब की जान चली गयी. सरकार ने सही समय पर लॉकडाउन नहीं किया. गंगा मां में लाशें बह रही थीं.

Lucknow rain:लगातार बारिश से पानी-पानी हुई यूपी की राजधानी,सड़कें बनी तालाब

बारिश से राजधानी लखनऊ की सड़कें बनी तालाब

आलम यह है कि बुधवार सुबह 8.30 बजे से गुरुवार सुबह 8.30 बजे तक 107 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गयी थी. गुरुवार को सुबह 8.30 बजे से शाम 5.30 बजे तक 115 मिलीमीटर बारिश हुई है. यानी लखनऊ में बुधवार की सुबह 8.30 बजे से गुरुवार की शाम 5.30 बजे तक कुल 222 मिलीमीटर बारिश दर्ज की जा चुकी है.

SHARE THIS:

लखनऊ में बुधवार से शुरू हुई बारिश अभी भी लगातार जारी है. लखनऊ में ऑरेंज अलर्ट जारी कर दिया गया है. इस बात की भी आशंका बढ़ गयी है कि कहीं बारिश सारे रिकॉर्ड ना तोड़ दे.आलम यह है कि बुधवार सुबह 8.30 बजे से गुरुवार सुबह 8.30 बजे तक 107 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गयी थी. गुरुवार को सुबह 8.30 बजे से शाम 5.30 बजे तक 115 मिलीमीटर बारिश हुई है. यानी लखनऊ में बुधवार की सुबह 8.30 बजे से गुरुवार की शाम 5.30 बजे तक कुल 222 मिलीमीटर बारिश दर्ज की जा चुकी है.
भारी बारिश के कारण शहर के ज्यादातर इलाकों में जलभराव की समस्या खड़ी हो गयी है. निराला नगर में पेड़ गिर गए है. नाले भी उफना गये हैं. शहर के वीआईपी इलाके भी जलभराव से बच नहीं पाये हैं.
तो वही एहितयात के तौर पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के सभी स्कूल कॉलेजों को 17 और 18 सितम्बर तक बंद रखने का आदेश दिया है.
साथ ही भारी बारिश को देखते हुए जिला प्रशासन ने भी एडवाइजरी और हेल्पलाइन नम्बर जारी कर अलर्ट किया है.जिला प्रशासन के अनुसार किसी भी तरह की समस्या के होने पर लखनऊ के लोग 6389300137/138/139 पर मदद के लिए फ़ोन कर सकते हैं. राजधानी लखनऊ निवासी इमरजेंसी की अवस्था में 0522-4523000 पर भी सूचना दे सकते हैं.
एडवाइजरी में जिला प्रशासन ने कहा है कि लोग बेवजह घरों से ना निकले. बहुत ज्यादा जरूरी होने पर ही घरों से बाहर निकलें. भीड़भाड़ वाले इलाके और ट्रैफिक जाम से लोग बचे. इसके अलावा खुले सीवर, बिजली के तार, खंभों से बचकर रहें.

UP: 100 से अधिक फर्जी शिक्षकों की भर्ती कराने वाले गिरोह का खुलासा, 3 गिरफ्तार

UP Crime: यूपी में 6 साल से सक्रिय है यह गिरोह

Lucknow News: एसटीएफ की गिरफ्त में आया गिरोह का मास्टर माइंड फिरोजाबाद के शिकोहाबाद के भांडरी निवासी राम निवास उर्फ राम भईया है. वह खुद जूनियर हाईस्कूल में फर्जी तरीके से शिक्षक नियुक्त है.

SHARE THIS:

लखनऊ. स्पेशल टास्क फोर्स (STF) ने शिक्षक भर्ती परीक्षाओं (Teachers Recruitment Examination) में धांधली करने वाले गिरोह का खुलासा करते हुए सरगना समेत तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है, जो विभिन्न जिलों में फर्जी दस्तावेजों के जरिये 100 से अधिक शिक्षकों की भर्ती करा चुका है. एसटीएफ के मुताबिक आरोप उत्तर प्रदेश में फर्जी शिक्षक खुद गिरोह बनाकर जाली दस्तावेजों व साल्वर गैंग की मदद से बड़ा खेल कर रहे थे. अलग-अलग जिलों में लगातार फर्जी शिक्षकों की न सिर्फ भर्ती कराई जा रही है, बल्कि प्रयागराज स्थित परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय के कर्मचारियों की मिलीभगत से फर्जी सत्यापन तक कराए जा रहे थे. एसटीएफ अब परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय के लिपिक नरेंद्र कन्नौजिया समेत कई फर्जी शिक्षकों की तलाश कर रही है. सरगना राम निवास के खाते में 19 लाख रुपये फ्रीज भी कराए गए हैं.

आरोपियों के पास से कई फर्जी डिग्री, अहम दस्तावेज और नकदी बरामद हुई है. एसटीएफ के डिप्टी एसपी प्रमेश कुमार शुक्ला की टीम ने बताया कि शुक्रवार शाम विभूतिखंड थानाक्षेत्र के पिकप भवन तिराहे के पास से एक जालसाज गिरोह को दबोचा गया. गिरोह फर्जी शिक्षकों की नियुक्ति कराने, टीजीटी, पीजीटी व टीईटी परीक्षा में पास कराने का ठेका लेता था. इसके बदले में लाखो रुपये की वसूली की जाती थी.

यूपी में 6 साल से सक्रिय है यह गिरोह
एसटीएफ की गिरफ्त में आया गिरोह का मास्टर माइंड फिरोजाबाद के शिकोहाबाद के भांडरी निवासी राम निवास उर्फ राम भईया है. वह खुद जूनियर हाईस्कूल में फर्जी तरीके से शिक्षक नियुक्त है. इसके अलावा बिहार के गया स्थित चितरंजनपुर का संजय सिंह जो डाटा साफ्ट कंप्यूटर सर्विसेज प्रा. लि. कंपनी का प्रोडक्शन मैनेजर और आगरा के सिकंदरा का रविन्द्र कुमार उर्फ रवि शामिल है. रवि वर्तमान में देवरिया के भाटपाररानी में रहता है. वह फर्जी तरीके शिक्षक के रुप में बनकटा में तैनात है. एसटीएफ के अधिकारी के मुताबिक यह गिरोह 6 साल से सक्रिय है. फिलहाल पुलिस तीनों आरोपियों से पूछताछ में जुटी है.

Load More News

More from Other District

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज