लाइव टीवी

राज्यसभा उपचुनाव: समाजवादी पार्टी से रामपुर में मिली शिकस्त का हिसाब बराबर करेगी BJP

News18 Uttar Pradesh
Updated: November 15, 2019, 3:17 PM IST
राज्यसभा उपचुनाव: समाजवादी पार्टी से रामपुर में मिली शिकस्त का हिसाब बराबर करेगी BJP
सपा की तजीन फातमा द्वारा खाली की गई राज्यसभा सीट पर होने जा रहे उपचुनाव में बीजेपी आसान जीत दर्ज करने जा रही है.

दरअसल रामपुर (Rampur) से एमएलए निर्वाचित आजम खान (Azam Khan) की पत्नी तजीन फातमा (Tazeen Fatma) द्वारा खाली की गई राज्यसभा सीट के लिए 12 दिसंबर को मतदान होना है. विधानसभा में मजबूत संख्या बल के आधार पर बीजेपी ये सीट आसानी से जीत जाएगी.

  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश विधानसभा के उपचुनाव (UP Assembly By Election) में रामपुर (Rampur) में भले ही समाजवादी पार्टी (Samawado Party) ने अपनी सीट बचा ली हो लेकिन भारतीय जनता पार्टी (BJP) अब राज्यसभा चुनाव में हिसाब बराबर करने की तैयारी में है. दरअसल रामपुर (Rampur) से एमएलए निर्वाचित आजम खान (Azam Khan) की पत्नी तजीन फातमा (Tazeen Fatma) द्वारा खाली की गई राज्यसभा सीट के लिए 12 दिसंबर को मतदान होना है. विधानसभा में मजबूत संख्या बल के आधार पर बीजेपी ये सीट आसानी से जीत जाएगी.

बता दें निर्वाचन आयोग (Election Commission Of India) ने यूपी से राज्यसभा (Rajyasabha) की एक सीट के लिए चुनाव कार्यक्रम (Election Programme) का ऐलान कर दिया है. ये सीट समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) की सदस्य और सांसद आजम खान (Azam Khan) की पत्नी तजीन फातमा (Tazeen Fatma) के इस्तीफे के बाद खाली हुई है. तजीन फातमा हाल में हुए यूपी विधानसभा उपचुनपाव में रामपुर से विधायक बनी हैं.

12 दिसंबर को शाम 4 बजे तक मतदान, 5 बजे से मतगणना
मुख्य निर्वाचन अधिकारी, उत्तर प्रदेश द्वारा जारी कार्यक्रम के अनुसार 25 नवंबर को अधिसूचना जारी होगी. वहीं 2 दिसंबर को नामांकन की अंतिम तिथि रखी गई है. इसके अगले दिन यानी 3 दिसंबर को नामांकन पत्रों की जांच होगी और 5 दिसंबर तक प्रत्याशी अपना नामांकन वापस ले सकेंगे. इसके बाद 12 दिसंबर को मतदान होगा, जो सुबह 9 बजे से शाम 4 बजे तक चलेगा. 12 दिसंबर को ही शाम 5 बजे से मतगणना शुरू हो जाएगी और परिणाम का ऐलान होगा.

 

विधानसभा उप चुनाव में 11 में सर्वाधिक चर्चित सीट रामपुर ही रही
बता दें उत्तर प्रदेश में विधानसभा उप चुनाव में 11 में सर्वाधिक चर्चित सीट रामपुर ही थी. भाजपा ने यहां पर ताकत झोंक दी थी. उधर पूर्व कैबिनेट मंत्री आजम खान को भू-माफिया घोषित किया गया, यही नहीं वह अभी भी 84 मुकदमों से राहत पाने के लिए संघर्ष कर रहे हैं. लेकिन आजम को इन्ही कारणों से रामपुर में सहानुभूति बटोरने का पूरा मौका मिल गया. आजम खान ने प्रचार के दौरान कई सभाओं में आंसू बहाया. जनता से सवाल पूछा कि क्या वे डाकू हैं, क्या उनकी बीवी और बच्चे डाकू हैं. भाजपा यहां पर 2017 के विधानसभा चुनाव से पहले तीसरे या चौथे स्थान पर रहती थी. 2017 में पार्टी के प्रत्याशी दूसरे स्थान पर थे. इस बार तो उसकी तैयारी फतह करने की थी लेकिन, सफलता नहीं मिली.
Loading...

ये भी पढ़ें:

यूपी में राज्यसभा की एक सीट पर चुनाव कार्यक्रम का ऐलान, 12 दिसंबर को मतदान

यूपी में बीजेपी नौजवानों पर खेलने जा रही ये बड़ा दांव

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 15, 2019, 3:17 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...