लाइव टीवी

राम मंदिर के शिल्पकार, बैठे हैं अयोध्या कूच करने को तैयार

Deepak Vyas | News18 Rajasthan
Updated: November 8, 2019, 8:55 PM IST
राम मंदिर के शिल्पकार, बैठे हैं अयोध्या कूच करने को तैयार
शिल्पकार शिवदान सैनी ने पहले भी अयोध्या जाकर कर चुके हैं काम

अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण कर रहे शिल्पकार (craftsmen) सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के फैसले का इंतजार कर रहे हैं. दौसा जिले के सिकंदरा में अयोध्या में बनने वाले राममंदिर के पत्थर तराशे जा रहे हैं. फैसला आते ही ये अयोध्या कूच करने को तैयार बैठे हैं.

  • Share this:
जयपुर.  राम मंदिर (Ram Temple) को लेकर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का देश भले इंतजार कर रहा है लेकिन राजस्थान (Rajasthan) के दौसा जिला स्थित सिकंदरा के शिल्पकारों (craftsmen) ने एलान कर दिया है कि जैसे ही फैसला पक्ष में आएगा वे मंदिर निर्माण के लिए अयोध्या की ओर कूच कर जाएंगे. सिंकदरा के शिल्पकार अपनी छेनी, हथौड़ी  लेकर अयोध्या की ओर कूच करने को तैयार बैठे हैं. यहां यह उल्लेख करना जरूरी है कि सिकंदरा में राम मंदिर के निर्माण के लिए पत्थर तराशे जा रहे हैं और उन्हें पॉलिश करने का काम भी जारी है.

सिकंदरा के शिल्पकार बगैर पैसा लिए करेंगे अयोध्या में काम

सिकंदरा के इन शिल्पकारों को उम्मीद है कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला राम मंदिर निर्माण के पक्ष में आएगा और वे फिर मंदिर निर्माण के लिए अपनी श्रद्धा के अनुसार बिना कोई पैसा लिए पत्थरों को तराशेंगे. सिकंदरा के पत्थर व्यवसायियों के एसोसिएशन के अध्यक्ष आरपी सैनी बताते हैं कि पूर्व में भी सिकंदरा के शिल्पकार अयोध्या जाकर पत्थर तराश चुके हैं.

सिकंदरा के पत्थर व्यवसायी एसोसिएशन के अध्यक्ष आरपी सैनी


ये  एक बार फिर अयोध्या जाने की तैयारी में हैं. सैनी का कहना  सिकंदरा के इन शिल्पकारों के बिना मंदिर निर्माण आसानी से हो ही नहीं सकता. उम्मीद पर ही दुनिया कायम है. ऐसे में उम्मीद की जानी चाहिए कि इन शिल्पकारों की उम्मीद भी सुप्रीम कोर्ट के फैसले के जरिए जरूर पूरी होगी.




Loading...

ये भी पढ़ें- युवक डायरी के पन्नों पर लिखता था प्रेमिका का नाम, दोनों ने कर ली आत्महत्या

Facebook पर असम की लड़की से गांठी दोस्ती, शादी के लिए बुलाकर किया गैंगरेप

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जयपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 8, 2019, 1:35 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...