रविदास मंदिर मामला: मायावती ने भीम आर्मी सहित दलित संगठनों के उग्र प्रदर्शन को बताया अनुचित

बहुजन समाज पार्टी (BSP) की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती (Mayawati) ने दिल्ली में संत रविदास मंदिर (Ravidas Temple) के पुनर्निर्माण की मांग को लेकर दलित संगठनों के उग्र प्रदर्शन को अनुचित बताया है.

News18 Uttar Pradesh
Updated: August 22, 2019, 3:26 PM IST
रविदास मंदिर मामला: मायावती ने भीम आर्मी सहित दलित संगठनों के उग्र प्रदर्शन को बताया अनुचित
बसपा सुप्रीमो मायावती ने दिल्ली में संत रविदास मंदिर मामले में उग्र प्रदर्शन को अनुचित करार दिया है.
News18 Uttar Pradesh
Updated: August 22, 2019, 3:26 PM IST
बहुजन समाज पार्टी (BSP) की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने दिल्ली में संत रविदास मंदिर (Ravidas Temple) के पुनर्निर्माण की मांग को लेकर दलित संगठनों के प्रदर्शन को अनुचित बताया है. उन्होंने कहा है कि दिल्ली के तुगलकाबाद क्षेत्र में जो तोड़फोड़ की घटनाएं हुई हैं, वह अनुचित है और उससे बसपा का कुछ भी लेना-देना नहीं है. दरअसल, सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के आदेश पर दिल्ली विकास प्रधिकरण (DDA) ने तुगलकाबाद में संत रविदास (Saint Ravidas) का मंदिर ढहा दिया था. आरोप था कि मंदिर सरकारी ज़मीन पर बना हुआ है. मंदिर ढहाने के बाद से ही बवाल शुरू हो गया. दिल्ली से लेकर हरियाणा, पंजाब, एमपी और राजस्थान समेत अन्‍य राज्‍यों में मंदिर ढहाए जाने के विरोध में प्रदर्शन शुरू हो गए.

बुधवार को देशभर से संत रविदास के भक्‍तों का जत्था दिल्ली में आ धमका. प्रदर्शन के बाद लौटते हुए भक्तों ने जगह-जगह तोड़फोड़ भी की और वाहनों को आग लगा दी थी. इसके अलावा प्रदर्शनकारी पुलिस के साथ भी भिड़ते नज़र आए. वहीं, भीम आर्मी के प्रमुख चन्द्रशेखर को हिरासत में ले लिया गया था.

इस मसले पर गुरुवार को बसपा प्रमुख मायावती ने तीन ट्वीट कर अपनी बात रखी है. उन्होंने लिखा है, ‘बीएसपी के लोगों द्वारा कानून को अपने हाथ में नहीं लेने की जो परम्परा है, वह पूरी तरह से आज भी बरकरार है, जबकि दूसरी पार्टियों और संगठनों के लिए यह आम बात है. हमें अपने संतों, गुरुओं और महापुरुषों के सम्मान में बेकसूर लोगों को किसी भी प्रकार की तकलीफ और क्षति नहीं पहुंचानी है.'

मायावती ने दूसरे ट्वीट में लिखा, 'कल दिल्ली के खासकर तुगलकाबाद क्षेत्र में जो तोड़फोड़ आदि की घटनाएं घटित हुई हैं, वह अनुचित है और उससे बीएसपी का कुछ भी लेना-देना नहीं है. बीएसपी संविधान और कानून का हमेशा सम्मान करती है. इस पार्टी का संघर्ष कानून के दायरे में ही रहकर होता है.' बसपा सुप्रीमो ने एक और ट्वीट कर कहा, 'बीएसपी के लोगों को किसी भी अति दुःखद घटना के घटने के बाद अगर सरकार कहीं पर धारा 144 के तहत प्रतिबंध लगाती है तो उसका उल्लंघन नहीं करना है. अन्य पार्टियों के नेताओं की तरह घटनास्थल पर जबर्दस्ती नहीं जाना है, ताकि सरकार को निरंकुश और द्वेषपूर्ण कार्रवाई करने का मौका न मिल सके.'

mayawati tweet
बसपा सुप्रीमो मायावती के ट्वीट


भीम आर्मी चीफ की गिरफ्तारी पर भड़कीं प्रियंका

उधर, मायावती से पहले कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) ने गुरुवार को तीखी प्रतिक्रिया व्‍यक्‍त की. उन्होंने कहा कि दलितों की भावनाओं का आदर किया जाना चाहिए. भीम आर्मी चीफ चन्द्रशेखर (Bhim Army Chief Chandrashekhar) की गिरफ़्तारी पर भड़कीं प्रियंका ने कहा कि दलितों का अपमान बर्दाश्त नहीं किया जाएगा.
Loading...

इसके साथ ही प्रियंका गांधी वाड्रा ने भाजपा (BJP) पर निशाना साधते हुए कहा कि दलितों का अपमान बर्दाश्त नहीं किया जा सकता. उन्होंने ट्वीट कर कहा, 'भाजपा सरकार पहले करोड़ों दलित बहनों-भाइयों की सांस्कृतिक विरासत के प्रतीक रविदास मंदिर स्थल से खिलवाड़ करती है और जब इसके विरोध में देश की राजधानी में हजारों दलित भाई-बहन अपनी आवाज़ उठाते हैं तो उन पर लाठी बरसाती है. उन पर आंसू गैस के गोले छोड़े जाते हैं और उन्हें गिरफ़्तार किया जाता है.'

ये भी पढ़ें:

रविदास मंदिर: चन्द्रशेखर की गिरफ्तारी पर भड़कीं प्रियंका

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 22, 2019, 2:56 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...