अपना शहर चुनें

States

रिटायर्ड IAS अरविंद शर्मा बीजेपी में शामिल, कहा- PM मोदी की बदौलत शुरू की राजनीति की पारी

अरविंद शर्मा 1988 बैच के गुजरात कैडर के आईएएस रहे हैं.
अरविंद शर्मा 1988 बैच के गुजरात कैडर के आईएएस रहे हैं.

अरविंद शर्मा (Arvind Sharma) 1988 बैच के गुजरात कैडर के आईएएस रहे हैं. उन्होंने 2001 से लेकर 2013 तक नरेंद्र मोदी के साथ काम किया है. उस वक्त नरेन्द्र मोदी गुजरात के सीएम थे. जब मोदी मुख्यमंत्री रहे तो वह उनके साथ सीएम कार्यालय में रहे.

  • Share this:
लखनऊ. गुजरात कैडर के आईएएस रह चुके अरविंद शर्मा (Arvind Sharma) ने गुरुवार को बीजेपी का दामन थाम लिया. प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने बीजेपी (BJP) का पटका पहनाकर उनका स्वागत किया. इस मौके पर पार्टी कार्यालय में डिप्टी सीएम डॉ. दिनेश शर्मा, वन मंत्री दारा सिंह, महामंत्री गोविंद नारायण शुक्ला सहित पार्टी पदाधिकारी और अरविंद शर्मा के समर्थक मौजूद रहे. पार्टी की सदस्यता दिलाते हुए बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि अरविंद शर्मा गुजरात कैडर के आईएएस रहे हैं. वीआरएस लेकर राजनीति की शुरुआत कर रहे हैं. येे ईमानदार और सामाजिक व्यक्ति हैं और अपने गांव और समाज के लोगों केे लिए हमेशा काम करते रहे हैं.

स्वतंत्र देव सिंह ने कहा कि अरविंद शर्मा के आने से पार्टी का भी कद और सम्मान बढ़ेगा. साथ ही संगठन और सरकार को मजबूती मिलेगी. पार्टी की सदस्यता लेेने के बाद पूर्व ब्यूरोक्रेट ने कहा कि बीती रात मुझे पता चला कि बीजेपी ज्वाइन करनी है. आज मैंने ज्वाइन किया है. पीएम मोदी को अरविंद शर्मा ने धन्यवाद दिया और कहा कि मऊ जिले के बैकवर्ड गांव का व्यक्ति हूं. संघर्ष से आईएएस बना. बिना राजनीतिक बैकग्राउंड के मुझे अगर राजनीति में लाया गया है तो ये बीजेपी और नरेंद्र मोदी ही कर सकते हैं, जो भी जिम्मेदारी दी जाएगी निभाऊंगा.

ये भी पढ़ें: आपके लिए इसका मतलब: अब तक 15 अफसर यूपी की राजनीति में लगा चुके हैं छलांग, यहां चेक करें पूरी लिस्ट



पीएम मोदी के साथ काम कर चुके हैं अरविंद शर्मा
गौरतलब है कि अरविंद शर्मा 1988 बैच के गुजरात कैडर के आईएएस रहे हैं. उन्होंने 2001 से लेकर 2013 तक नरेंद्र मोदी के साथ काम किया है. उस वक्त नरेन्द्र मोदी गुजरात के सीएम थे. जब  मोदी मुख्यमंत्री रहे तो वह उनके साथ सीएम कार्यालय में रहे. नरेंद्र मोदी पीएम बने तो अपने साथ अरविंद कुमार शर्मा को पीएमओ लेकर आ गए. 2014 में वह पीएमओ में संयुक्त सचिव के पद पर रहे. उसके बाद प्रमोशन पाकर सचिव बने. एमएसएमई में भी अहम जिम्मेदारी  दी गई थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज