Assembly Banner 2021

Rising UP 2021: ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा बोले- अब यूपी में नहीं रहता अंधेरा, पूरी रात रहती है बिजली

ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने राइजिंग यूपी के मंच पर बेबाकी से रखी अपनी बात

ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने राइजिंग यूपी के मंच पर बेबाकी से रखी अपनी बात

Srikant Sharma at Rising UP 2021: श्रीकांत शर्मा ने अखिलेश यादव के महंगी बिजली के आरोप पर कहा कि पिछली 15 साल में जो भी सरकारें रहीं उन्होंने विभाग को कर्ज में डुबो दिया. आज जनसहभागिता से उस घाटे को पूरा किया जा रहा है.

  • Share this:
लखनऊ. राइजिंग यूपी (Rising UP 2021) के मंच से योगी सरकार (Yogi Government) में ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा (Shrikant Sharma) ने समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के मुखिया अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) के सवाल का जवाब देते हुए कहा कि आज उत्तर प्रदेश में सूर्यास्त से सूर्योदय तक कहीं भी अंधेरा नहीं रहता. उन्होंने कहा कि आज सभी जिलों, तहसीलों और गांवों में निर्बाध रूप से बिजली सप्लाई की जा रही है. श्रीकांत शर्मा ने अखिलेश यादव के महंगी बिजली के आरोप पर कहा कि पिछली 15 साल में जो भी सरकारें रहीं उन्होंने विभाग को कर्ज में डुबो दिया. आज जनसहभागिता से उस घाटे को पूरा किया जा रहा है.

ऊर्जा मंत्री ने कहा कि पहले कुछ वीआईपी जिलों में ही सप्लाई होती थी. आज सभी जिलों को बिना भेदभाव के बिजली की आपूर्ति की जा रही है. उन्होंने कहा कि जब 2017 में बीजेपी की सरकार आई तो हमने रोस्टर बनाया कि गांव में 18 घंटे, तहसीलों पर 20 घंटे और जिला मुख्यालयों पर 24 घंटे बिजली मिल रही है.

अखिलेश के सवाल पर दिया ये जवाब 
श्रीकांत शर्मा ने अखिलेश के उस सवाल पर भी पलटवार किया जिसमें उन्होंने कहा कि इस सरकार में कितने पावर प्लांट लगे. ऊर्जा मंत्री ने कहा कि उन्होंने जो काम किया था उसे लेकर वे जनता के बीच में 2017 के चुनाव में गए थे. उनका नारा भी था काम बोलता है. लेकिन जनता ने उन्हें नकार दिया. अब हमारी सरकार हैं. हम भी जनता के बीच में जाएंगे और बताएंगे हमने क्या काम किया। महंगी बिजली के सवाल पर उन्होंने कहा कि राजस्थान में जहां कांग्रेस  है वहां यूपी से भी बिजली महंगी है. उन्होंने कहा कि आज किसानों से सिर्फ 18 प्रतिशत बिजली का बिल लिया जा रहा है, सरकार 82 प्रतिशत सब्सिडी किसानों को दे रही है. पहले किसानों को सिंचाई के लिए रात-रात भर जागना पड़ता था. आज किसानों के लिए अलग से फीडर की व्यवस्था है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज