RIP अज‍ित सिंह: IIT खड़गपुर से बीटेक, IBM के साथ काम करने वाले पहले भारतीय, फिर यूं राजनीति में जमाई धाक

रालोद अध्यक्ष अजीत सिंह का कोरोना से निधन

रालोद अध्यक्ष अजीत सिंह का कोरोना से निधन

RLD Chief Ajit Singh Death: पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह के बेटे अजीत सिंह का जन्म मेरठ में हुआ था. उन्होंने अपने राजनैतिक करियर की शुरुआत 1986 में राज्य सभा सांसद के तौर पर की थी. इसके बाद वे सात बार बागपत से लोकसभा चुनाव जीते.

  • Share this:

लखनऊ. लोकप्रिय किसान नेता अजीत सिंह (Ajit Singh) का निधन देश की राजनीति के लिए एक अपूरणीय क्षति है. 82 साल के अजीत सिंह ने गुरुवार सुबह 6 बजे गुरुग्राम के एक प्राइवेट हॉस्पिटल में अंतिम सांस ली. 22 अप्रैल को अजीत सिंह कोरोना संक्रमित हुए थे. डॉक्टरों के मुताबिक फेफड़ों में संक्रमण की वजह से उनका निधन हुआ. अजीत सिंह के निधन पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सहित कई म बड़े नेताओं ने उन्हें श्रद्धांजलि दी है.

पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय चौधरी चरण सिंह के बेटे अजीत सिंह का जन्म मेरठ में हुआ था. हालांकि उन्होंने अपने राजनैतिक करियर की शुरुआत अपने पिता के बीमार होने पर 1986 में राज्य सभा सांसद के तौर पर की थी. इसके बाद वे सात बार बागपत से लोक सभा चुनाव जीते. वे वीपी सिंह, नरसिम्हा राव, अटल बिहारी बाजपेयी और मनमोहन सरकार में केंद्रीय मंत्री भी रहे.

कंप्यूटर साइंस में बीटेक थे अजीत सिंह

अजीत सिंह न केवल सफल राजनेता रहे बल्कि वे एक अच्छे स्कॉलर भी थे. अजीत सिंह ने आईआईटी खड़गपुर से कंप्यूटर साइंस में बीटेक की डिग्री हासिल की. इसके बाद इलेनॉइस इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से एमएस की डिग्री हासिल की. अजीत सिंह पहले भारतीय थे जिन्होंने 1960 के दशक में बिल गेट्स की आईबीएम कंपनी में नौकरी की.
1986 में पहली बार राज्यसभा पहुंचे

अजीत सिंह राजनीति की पृष्ठभूमि से जुड़े थे, लिहाजा पिता चौधरी चरण सिंह के बीमार होने पर उन्होंने राजनीतिक विरासत को संभाला. 1986 में वे पहली बार राज्य सभा के लिए चुने गए. पूर्व प्रधानमंत्री वीपी सिंह के नेतृत्व में बनी सरकार में पहली बार केंद्रीय मंत्री बनें. उन्होंने इंडस्ट्री मिनिस्टर का कार्यभार संभाला. नरसिम्हा राव सरकार में खाद्य मंत्री रहे. अटल बिहारी बाजपेयी सरकार में उन्हें कृषि मंत्री बनाया गया. मनमोहन सिंह सरकार में वे नागरिक उड्डयन मंत्री बने.

सात बार लोकसभा के लिए चुने गए



जनता दाल में महासचिव के तौर पर राजनीतिक शुरुआत करने वाले अजीत सिंह ने 1999 में लोकदल का गठन किया. वे पहली बार 1989 में बागपत से लोक सभा के लिए चुने गए. इसके बाद 2009 तक जितने भी चुनाव हुए अजीत सिंह जीतते रहे. 2014 में उन्हें पहली बार हार का सामना करना पड़ा जब बीजेपी के सतपाल मालिक ने उन्हें हराया. इसके बाद उन्होंने 2019 में मुजफ्फरनगर से लोकसभा का चुनाव लड़ा. इस बार उन्हें बीजेपी के संजीव बालियान ने हराया.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज