लाइव टीवी

रालोद ने की उत्‍तर प्रदेश को चार हिस्‍सों में बांटने की मांग

IANS
Updated: July 9, 2015, 11:12 AM IST
रालोद ने की उत्‍तर प्रदेश को चार हिस्‍सों में बांटने की मांग
उत्तर प्रदेश के सम्पूर्ण विकास का राग छेड़ते हुए राष्ट्रीय लोकदल ने उत्‍तर प्रदेश को चार हिस्सों में बांटने की मांग का बिगुल फूंक दिया है. पार्टी का कहना है कि प्रदेश के पुनर्गठन से सभी प्रदेशों का सर्वागीण विकास होगा, वहीं सुलभ न्याय और युवाओं को रोजगार के अवसर मिलेंगे.

उत्तर प्रदेश के सम्पूर्ण विकास का राग छेड़ते हुए राष्ट्रीय लोकदल ने उत्‍तर प्रदेश को चार हिस्सों में बांटने की मांग का बिगुल फूंक दिया है. पार्टी का कहना है कि प्रदेश के पुनर्गठन से सभी प्रदेशों का सर्वागीण विकास होगा, वहीं सुलभ न्याय और युवाओं को रोजगार के अवसर मिलेंगे.

  • IANS
  • Last Updated: July 9, 2015, 11:12 AM IST
  • Share this:
उत्तर प्रदेश के सम्पूर्ण विकास का राग छेड़ते हुए राष्ट्रीय लोकदल ने उत्‍तर प्रदेश को चार हिस्सों में बांटने की मांग का बिगुल फूंक दिया है. पार्टी का कहना है कि प्रदेश के पुनर्गठन से सभी प्रदेशों का सर्वागीण विकास होगा, वहीं सुलभ न्याय और युवाओं को रोजगार के अवसर मिलेंगे.

यही नहीं सरकारी मशीनरी पर भी आसानी से नियंत्रण हो सकेगा. वहीं दूसरी ओर रालोद की इस मंशा के पीछे राजनीतिक गलियारे में माना जा रहा है कि रालोद राज्य पुर्नगठन की राजनीति कर जनता के बीच खो चुकी अपनी जमीन पाना चाहती है. फिलहाल पार्टी राज्य पुनर्गठन की मांग को जोरशोर से उठाने के मूड में है.

अपनी मांग को और मजबूत बनाने के लिए पार्टी कई सामाजिक संगठनों और समितियों के सम्पर्क में हैं और उनके साथ 12 जुलाई को राजधानी लखनऊ में प्रतिनिधि सम्मेलन करने जा रही है. जिसमें रालोद के अध्यक्ष अजित सिंह के साथ इन संगठनों और समितियों के पदाधिकारी भी शामिल होंगे.

इस बारे में रालोद प्रदेश अध्यक्ष मुन्ना सिंह चौहान ने आईपीएन को बताया कि 12 जुलाई को लखनऊ में सहकारिता भवन के चौधरी चरण सिंह सभागार में राज्य पुर्नगठन की मांग को लेकर राष्ट्रीय लोकदल द्वारा एक प्रतिनिधि सम्मेलन आयोजित किया जाएगा. सम्मेलन के मुख्य अतिथि राष्ट्रीय लोकदल के अध्यक्ष एवं पूर्व केन्द्रीय मंत्री चौधरी अजित सिंह रहेंगे.

सिंह ने सम्मेलन में प्रदेश पदाधिकारी, जोनल पदाधिकारी तथा सभी प्रकोष्ठों के पदाधिकारी, सभी जिलाध्यक्षों सहित विधायकों एवं पूर्व विधायकों को आमंत्रित किया गया है इसके अतिरिक्त छोटे राज्यों के गठन हेतु पूर्वाचल, बुंदेलखंड व हरित प्रदेश के निर्माण की मांग को लेकर कार्यरत अन्य सामाजिक संगठनों के अध्यक्ष व अन्य समितियों के प्रतिनिधियों को भी आमंत्रित किया गया है तथा प्रदेश के कोने कोने से राष्ट्रीय लोकदल के पदाधिकारी और कार्यकर्ता सम्मेलन में भाग लेंगे.

उन्होंने कहा कि राज्य पुर्नगठन को लेकर राष्ट्रीय लोकदल के एजेंडे में हरित प्रदेश (पश्चिमी उत्तर प्रदेश) और बुंदेलखंड सहित पूर्वांचल का गठन कर नए राज्य सृजित करना शामिल है और चौधरी अजित सिंह इनके पुर्नगठन के लिए शुरुआत से संघर्ष कर रहे हैं.

सिंह ने बताया कि प्रदेश के पुनर्गठन के बाद सभी प्रदेशों का सर्वांगीण विकास होगा वहीं लोगों को सस्ता और सुलभ न्याय मिलने का मार्ग भी प्रशस्त होगा. उन्होंने कहा कि उप्र के पुर्नगठन के बाद अलग राज्यों के निर्माण से युवाओं में रोजगार के साधन आसानी से मुहैया हो सकेंगे और सरकारी मशीनरी पर भी आसानी से नियंत्रण हो पाना सम्भव हो सकेगा.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 9, 2015, 11:12 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर