होम /न्यूज /उत्तर प्रदेश /यूपी में चौथा मोर्चा बनाने की कोशिश में जुटे अजित, बागियों को तरजीह

यूपी में चौथा मोर्चा बनाने की कोशिश में जुटे अजित, बागियों को तरजीह

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के​ लिए राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) ने 12 प्रत्याशियों की पांचवी सूची जारी कर दी है. अब तक पार्टी ने कुल 83 प्रत्याशी विधानसभा चुनाव के लिए घोषित किए हैं.

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के​ लिए राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) ने 12 प्रत्याशियों की पांचवी सूची जारी कर दी है. अब तक पार्टी ने कुल 83 प्रत्याशी विधानसभा चुनाव के लिए घोषित किए हैं.

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के​ लिए राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) ने 12 प्रत्याशियों की पांचवी सूची जारी कर दी है. अब तक पार् ...अधिक पढ़ें

    उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के​ लिए राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) ने 12 प्रत्याशियों की पांचवी सूची जारी कर दी है. अब तक पार्टी ने कुल 83 प्रत्याशी विधानसभा चुनाव के लिए घोषित किए हैं.

    समाजवादी पार्टी व कांग्रेस के गठबंधन में जगह न पा सके रालोद ने स्थानीय दलों से जोड़-तोड़कर चौथा मोर्चा बनाने की कोशिशें तेज कर दी हैं. वह लगातार अपनी सूची में अन्य दलों के बागियों को तरजीह दे रहा है.

    रालोद की सूची में बसपा छोड़कर आए पूर्व मंत्री योगराज सिंह को मुजफ्फरनगर के बुढ़ाना क्षेत्र से उम्मीदवार घोषित किया गया है तो देवबंद में भाजपा से बगावत कर आए भूपेश्वर त्यागी भी टिकट पा गए.

    राष्ट्रीय महासचिव त्रिलोक त्यागी ने अन्य दलों से गठबंधन करके सभी 403 सीटों पर उम्मीदवार उतारने का फैसला किया है. जदयू, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी और महान दल जैसे आधा दर्जन दलों के साथ मिलकर चौथा मोर्चा बनाने की कोशिशें हो रही हैं. एक दो दिन में इसका एलान कर दिया जाएगा.

    सोमवार को सुबह पार्टी ने दस प्रत्याशियों की लिस्ट जारी की, इसके बाद बाद देर शाम 12 प्रत्याशियों की लिस्ट जारी कर दी. पहले दस प्रत्याशियों की सूची में खतौली से शाहनवाज राणा, सिवालखास से चौधरी चशवीर सिंह, मेरठ से संजीव पाल, अतरौली से मनोज कुमार, हाथरस से गेंदा लाल चौधरी, आगरा उत्तर से उमेश वर्मा, फतेहपुर सीकरी से बृजेश चाहर, टूंडला से जीपी पुष्कर, तिलहर से अब्दुल कादिर, जाफराबाद से राम आश्रय विश्वकर्मा को प्रत्याशी बनाया गया है.

    वहीं देर शाम जारी 12 प्रत्याशियो की सूची में सहारनपुर से अय्यूब हसन, शामली से बिजेंद्र सिंह किवाना, मेरठ से ज्ञानेंद्र शर्मा, गाजियाबाद से सुल्तान सिंह खारी, धौलाना से ठाकुर नगेंद्र सिंह तोमर, नोएडा से बृजेश यादव, आगरा दक्षिण से बशीर चौधरी, खेरागढ़ से रामेंद्र सिंह परमार, बाह से सुधीर दुबे, करहल से कौशल यादव, पीलीभीत से भूपराम गंगवार और पूरनपुर से सपना को प्रत्याशी बनाया है.

    उत्तर प्रदेश में 11 फरवरी से 8 मार्च के बीच सात चरणों में विधानसभा चुनाव हो रहे हैं. कांग्रेस और समाजवादी पार्टी के अखिलेश धड़े के बीच गठबंधन के बावजूद बहुकोणीय मुकाबला देखने को मिलेगा.

    केंद्र में पूर्ण बहुमत की सरकार बनाने के बाद जिस तरह से बीजेपी को दिल्ली और बिहार में करारी शिकस्त का सामना करना पड़ा है, वैसे में उत्तर प्रदेश का चुनाव प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के लिए किसी चुनौती से कम नहीं है. मुख्यमंत्री चेहरे को सामने न लाकर एक बार फिर बीजेपी ने पीएम मोदी के चेहरे पर दांव खेला है. इसका कितना फायदा उसे इन चुनावों में मिलेगा वह 11 मार्च को सामने आ ही जाएगा.

    इस बार उत्तर प्रदेश चुनावों में समाजवादी पार्टी में मचे घमासान के अलावा प्रदेश की कानून व्यवस्था, सर्जिकल स्ट्राइक, नोटबंदी और विकास का मुद्दा प्रमुख रहने वाला है. जहां एक ओर बीजेपी और बसपा प्रदेश की कानून व्यवस्था को लेकर अखिलेश सरकार को घेर रही हैं, वहीँ विपक्ष नोटबंदी के फैसले को भी चुनावी मुद्दा बना रहा है.

    यूपी विधानसभा में कुल 403 सीटें हैं. 2012 के विधानसभा चुनावों में समाजवादी पार्टी ने 224 सीट जीतकर पूर्ण बहुमत की सरकार बनाई थी. पिछले चुनावों में बसपा को 80, बीजेपी को 47, कांग्रेस को 28, रालोद को 9 और अन्य को 24 सीटें मिलीं थीं.

    आपके शहर से (लखनऊ)

    Tags: Ajit singh, Rld, लखनऊ

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें