लाइव टीवी

लखनऊ में एकल परिवर्तन महाकुंभ का आयोजन, जुटेंगे लाखों RSS कार्यकर्ता
Lucknow News in Hindi

News18 Uttar Pradesh
Updated: February 11, 2020, 8:01 PM IST
लखनऊ में एकल परिवर्तन महाकुंभ का आयोजन, जुटेंगे लाखों RSS कार्यकर्ता
उत्तर प्रदेश में ही संगठन के 22 हजार विद्यालय संचालित हैं (सांकेतिक तस्वीर)

एकल विद्यालय अभियान (Ekal Vidyalaya campaign) को एकल विद्यालय संगठन द्वारा ग्रामीण और जनजातीय भारत तथा नेपाल (Indo-Nepal) के एकीकृत और समग्र विकास के लिए शुरु किया गया है.

  • Share this:
लखनऊ. राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ (Rashtriya Swayamsevak Sangh) का समवैचारिक संगठन भारत लोक शिक्षा परिषद के एकल विद्यालय फाउंडेशन (Ekal Vidyalaya Foundation) द्वारा 16 फरवरी से 18 फरवरी तक लखनऊ में 'एकल परिवर्तन कुंभ' का आयोजन किया जा रहा है. तीन दिनों तक लखनऊ में एकल परिवर्तन कुंभ नाम से लगभग 2.5 लाख शिक्षा प्रेमियों का जमावड़ा राजधानी के रमाबाई मैदान में इकट्ठा होगा.

एकल विद्यालय
दरअसल एकल विद्यालय एक शिक्षक वाले वो विद्यालय हैं, जिनकी शुरुआत झारखण्ड से हुई थी. इस अभियान में कई वर्षो से उपेक्षित ग्रामीण क्षेत्रों और आदिवासी क्षेत्रों में ये विद्यालय संचालित किये जा रहे हैं. एकल विद्यालय संगठन द्वारा अब तक 1 लाख से अधिक एकल विद्यालय खोले जा चुके हैं. उत्तर प्रदेश में ही संगठन के 22 हजार विद्यालय संचालित हैं. एकल विद्यालय अभियान को एकल विद्यालय संगठन द्वारा ग्रामीण और जनजातीय भारत तथा नेपाल के एकीकृत और समग्र विकास के लिए शुरु किया गया है. कई ट्रस्ट और गैर-लाभकारी संगठनों की भागीदारी से यह अभियान भारत की मुख्य धारा से अलग गांवों में संचालित गैर-सरकारी शिक्षा के क्षेत्र में अब तक का सबसे बड़ा अभियान बन गया है. राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ के विचारक अशोक सिन्हा ने बताया कि वर्ष 1990 में गठित राममूर्ति समिति की रिपोर्ट ने एकल अभियान के लिये दिशा-निर्देश बनाने और स्थापित करने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई. एकल विद्यालय अभियान को वर्ष 2017 में गांधी शांति पुरस्कार से भी सम्मानित किया जा चुका है.

राममूर्ति समिति ने दिए थे सुझाव

वर्ष 1990 में भारत सरकार द्वारा राष्ट्रीय शिक्षा नीति में सुधार के लिये आचार्य राममूर्ति की अध्यक्षता में राममूर्ति समिति का गठन किया गया था. इस समिति ने शिक्षा के उद्देश्य, सामान्य स्कूल प्रणाली, कार्य हेतु व्यक्तियों का सशक्तीकरण,स्कूली विश्व व कार्य स्थल में संबंध स्थापित करना, परीक्षा सुधार, मातृभाषा को स्थान, स्त्रियों की शिक्षा, धार्मिक अंतरों को कम करना, शैक्षिक उपलब्धि, अवसरों आदि के संदर्भ में बुनियादी सुधार संबंधी सुझाव दिए थे.

ये भी पढ़ें- बरेली में 'झुमका' तिराहे पर शुरू हुई सियासत, बीजेपी MLA बोले- सांस्कृतिक रूप से दिवालियापन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 11, 2020, 8:01 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर