Home /News /uttar-pradesh /

Russia-Ukraine War: यूक्रेन में फंसे कई जिलों के छात्र,परिजनों की पीएम मोदी से गुहार-बच्‍चों को कराएं एयरलिफ्ट

Russia-Ukraine War: यूक्रेन में फंसे कई जिलों के छात्र,परिजनों की पीएम मोदी से गुहार-बच्‍चों को कराएं एयरलिफ्ट

Russia-Ukraine War: यूक्रेन में यूपी के करीब 3000 छात्र पढ़ाई करते हैं.

Russia-Ukraine War: यूक्रेन में यूपी के करीब 3000 छात्र पढ़ाई करते हैं.

Russia-Ukraine War: यूक्रेन और रूस के युद्ध की वजह से यूपी के तमाम जिलों के लोगों की टेंशन बढ़ गयी है. दरअसल काफी संख्‍या में छात्र यूक्रेन में एमबीबीएस की पढ़ाई कर रहे हैं, लेकिन अब वह फंस गए हैं. वहीं, छात्रों के परिजनों ने पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) से गुहार लगाते हुए कहा कि प्‍लीज़ हमारे बच्‍चों को एयरलिफ्ट कराकर सुरक्षित वापस भारत ले आइए.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्‍ली/लखनऊ. यूक्रेन और रूस के युद्ध (Russia-Ukraine War) की वजह से यूपी के तमाम परिवारों की टेंशन बढ़ गयी है. दरअसल यूपी के तमाम छात्र वहां फंस गए हैं. इसके अलावा रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) द्वारा मिलिट्री ऑपरेशन का ऑर्डर दिए जाने के बाद यूक्रेन में पढ़ रहे यूपी के छात्रों के परिवारों में दहशत का माहौल है. यही नहीं, अब छात्रों के परिजन पीएम नरेंद्र मोदी से मदद की गुहार लगा रहे हैं.

यूक्रेन में इस वक्‍त आगरा, संभल, आजमगढ़, मुजफ्फरनगर, बुलंदशहर, कासगंज, एटा समेत तमाम जिलों के छात्र फंसे हुए हैं. जानकारी के मुताबिक, यूपी के करीब तीन हजार छात्र यूक्रेन से एमबीबीएस की पढ़ाई कर रहे हैं.

कासगंज के चार छात्र यूक्रेन में फंसे
यूपी के कासगंज के चार स्‍टूडेंट्स यूक्रेन में फंस गये हैं. वहीं, यूक्रेन और रूस के बीच युद्ध छिड़ जाने से उनके परिजनों को रो रो कर बुरा हाल है. कासगंज के जो स्‍टूडेंट्स वहां फंसे हैं उनके नाम शोभित माहेश्वरी, गर्विता माहेश्वरी, कोमल और प्रवीन बताए जा रहे हैं. यह सभी यूक्रेन के नेशनल पिरोगोव मेमोरियल मेडिकल यूनिवर्सिटी विनित्स्या में एमबीबीएस की पढ़ाई कर रहे थे.

आजमगढ़ के भी छात्र फंसे
यूक्रेन में आजमगढ़ के तीन छात्र फंस गए हैं. परिजनों का संपर्क छात्रों के साथ बना हुआ, लेकिन वहां की स्थित गंभीर होते देख वह काफी परेशान हैं. आजमगढ़ जिले के सगड़ी तहसील के खतीबपुर गांव निवासी डॉ. नरेन्द्र यादव पेशे से चिकित्सक हैं और उनकी पुत्री रेनू यादव चार वर्ष पूर्व यूक्रेन में एमबीबीएस की पढ़ाई करने के लिए गयी थी. उसका दाखिला ओडीएस नेशलन मेडिकल कालेज में हुआ है. रेनू के साथ ही जिले के दो एमबीबीएस के छात्र अमित यादव निवासी सोफीपुर, निजामाबाद और विनित विश्वकर्मा निवासी शहर कोतवाली भी यूक्रेन में फंसे हुए हैं. परिजनों ने सरकार से मांग की है कि उनके बच्चों को यूक्रेन से किसी तरह से एयरलिफ्ट कर देश वापस लाया जाए.

संभल के फंसे 13 छात्र
रूस के हमले से प्रभावित यूक्रेन में संभल के 13 छात्र फंसे हुए हैं, जो कि मेडिकल के छात्र हैं. वहीं, युद्ध शुरू होने के बाद उनके परिजन खासे आशंकित हैं. वहीं, यूक्रेन मे फंसे संभल के रहने वाले फैजान अशरफ के पिता ने कहा कि उनकी अपने पुत्र से फोन पर बात हो रही है और उसने यूनिवर्सिटी को युद्ध स्थल से काफी दूर बताया है. जबकि संभल के ही दूसरे छात्रों के परिजन यूक्रेन में जंग की वजह से खाने पीने के सामान की किल्लत की बात कह रहे हैं. सभी छात्रों के परिजनों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अपने बच्चों को यूक्रेन से भारत लाने की गुहार लगाई है.

मुजफ्फरनगर के छात्र भी फंसे
अगर हम बात उत्तर प्रदेश के जनपद मुजफ्फरनगर की करे तो यहां से भी कई छात्र यूक्रेन में फंस गए हैं. जिले के चरथावल थाना क्षेत्र के गांव नगला राई निवासी बुशरार मोहम्मद का बेटा अमन भी तकरीबन तीन महीने पहले यूक्रेन के लवीब शहर में एमबीबीएस की पढ़ाई करने के लिए गया था. वहीं, यूक्रेन के हालात को देखते हुए उसके परिजनों 60 हजार में भारत वापसी का 27 फरवरी का टिकट कराया था, लेकिन गुरुवार को अचानक रूस के द्वारा यूक्रेन पर की गई गोला बारी ने अब उसके परिवार को दहशत में डाल दिया है. दरअसल, अमन ने कुछ वीडियो भेजे हैं, जिसमें वहां के लोग या तो एटीएम मशीन से पैसे निकालने के साथ खाने पीने की चीजे इकठ्ठा करने में जुटे हुए हैं.

आगरा की युवती यूक्रेन में फंसी
यूपी के आगरा की छात्रा श्रेया सिंह भी फंस गयी है. वह वहां से एमबीबीएस पढ़ाई कर रही है. हालांकि इंडिया वापस आने के लिए उसकी आज ही यूक्रेन से फ्लाइट थी, लेकिन युद्ध छिड़ने के बाद सभी फ्लाइट कैंसिल हो गयी हैं. वहीं, श्रेया सिंह के परिजन सुबह से वीडियो कॉल के जरिए पल पल की खबर ले रहे हैं. वह, 2018 में यूक्रेन एमबीबीएस की पढ़ाई के लिए गई थी. जबकि वहआखिरी बार अगस्त 2020 में अपने घर आई थी.

बुलंदशहर के दो छात्रों के परिजन भी हैं परेशान
बुलंदशहर के अनुराग और शान भी वहां फंस गए हैं. अनुराग सैनी सिकंदराबाद और शान अली बुलंदशहर के रहने वाले हैं. दोनों छात्रों के परिजन उनकी वापसी का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं.

राजनाथ सिंह और सिंधिया ने कही ये बात
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि सरकार ने पहले भी एडवाइजरी जारी की थी. सरकार चिंतित है, प्रयास जारी हैं. हमारी पूरी कोशिश है कि हमारे जो बच्चे वहां हैं उन्हें निकाला जाए, वहां स्थिति विषम है. प्लेन भेजा गया था, लेकिन प्लेन वहां उतारा नहीं जा सका. भारत चाहता है कि शांति कायम होनी चाहिए. बातचीत से हल निकाला जाना चाहिए. युद्ध की स्थिति पैदा नहीं होनी चाहिए, यही भारत की सोच है. वहीं, केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि आज फ्लाइट्स यूक्रेन के लिए रवाना हुई थी लेकिन जब यूक्रेन में घटनाएं शुरू हुई तब हमें बताया गया कि एयर स्पेस पूर्ण रूप से बंद किया गया है और NOTAM (नोटिस टू एयर मिशन) जारी किया गया है. जिसके कारण फ्लाइट को वापस भारत आना पड़ा. विदेश मंत्री के साथ भी मेरी चर्चा हुई है और यूक्रेन की स्थिति पर हम नजर बनाए हुए हैं. जैसे ही वहां पर एयर स्पेस खोला जाएगा फ्लाइट्स फिर से शुरू की जाएंगी.

Tags: Pm narendra modi, Russia, Ukraine

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर