लखनऊ: सीटों के बंटवारे पर समाजवादी पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में होगा मंथन

बैठक में पहुंचे अखिलेश यादव
बैठक में पहुंचे अखिलेश यादव

समाजवादी पार्टी अगला लोकसभा चुनाव बीएसपी के साथ मिल कर लड़ेगी. लेकिन क्या इस गठबंधन में कांग्रेस भी शामिल होगी ? अभी फैसला नहीं हुआ है.

  • Share this:
समाजवादी पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक शनिवार को लखनऊ में हो रही है. बताया जा रहा है कि बैठक में बीएसपी से सीटों के तालमेल पर मंथन होगा. किन सीटों पर पार्टी को 2019 लोकसभा का चुनाव लड़ना चाहिए इस पर बैठक में ही रिपोर्ट पेश की जाएगी. बता दें कि अखिलेश यादव पहले ही कन्नौज से और मुलायम सिंह यादव के मैनपुरी से चुनाव लड़ने का ऐलान कर चुके हैं.

यह भी पढ़ें: राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में अखिलेश लेंगे 'महागठबंधन' पर अंतिम फैसला

सपा प्रवक्ता सुनील सिंह साजन ने कहा, "राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में संगठन और बूथों को मजबूत करने की रणनिति पर विचार-विमर्श होगा. वहीं गठबंधन की सीटों के तालमेल को लेकर अंतिम फैसला लिया जाएगा".



यह भी पढ़ें: लोकसभा चुनाव 2019: राहुल गांधी नहीं, मायावती बनाम मोदी होने वाला है!
समाजवादी पार्टी अगला लोकसभा चुनाव बीएसपी के साथ मिल कर लड़ेगी. लेकिन क्या इस गठबंधन में कांग्रेस भी शामिल होगी ? अभी फैसला नहीं हुआ है. समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव कांग्रेस के बदले आरएलडी से चुनावी समझौते के पक्ष में हैं. लेकिन मायावती गठबंधन में कांग्रेस को भी साथ रखना चाहती हैं. यूपी में लोकसभा की 80 सीटें हैं. अब तक तो पिछले चुनाव में दूसरे नंबर पर रही पार्टी को उस सीट से टिकट देने का फ़ार्मूला चल रहा है. लेकिन इसमें कई पेंच हैं.

यह भी पढ़ें: यूपी में कांग्रेस अकेले लड़ेगी लोकसभा चुनाव, गठबंधन के लिए निभाएगी 'वोट कटवा' की भूमिका!

कुछ सीटें ऐसी हैं जहां एसपी पिछली बार दूसरे नंबर पर थी. लेकिन अगले चुनाव में पार्टी वहां से टिकट चाहती है. ऐसी ही कुछ सीटों पर बीएसपी की भी नजर है. जैसे मोहनलालगंज सुरक्षित लोकसभा सीट पर पिछली बार बीएसपी के आर के चौधरी दूसरे नंबर पर थे. अब वे एसपी में चले गए हैं. इसीलिए अखिलेश ये सीट उनके लिए चाहते हैं. कांग्रेस से पिछली बार सिर्फ सोनिया गांधी और राहुल गांधी ही जीत पाए थे. कांग्रेस को गठबंधन में कितनी सीटें मिल सकती हैं. समाजवादी पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में इस पर भी चर्चा हो सकती है.

(रिपोर्ट: नरेंद्र यादव)

यह भी पढ़ें: 

अखिलेश का BJP पर वार, कहा- जानबूझकर लोकतंत्र को कमजोर किया जा रहा है

योगी ने बनाया नया रिकॉर्ड, 16 महीने में किया सभी 75 जिलों का दौरा

मायावती की सोशल मीडिया से दूरी कहीं 2019 में भी न पड़ जाए भारी!
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज