उत्तर प्रदेश में सपा और बसपा गठबंधन की ओर, माया के बाद अखिलेश ने भी दिए संकेत

उत्तर प्रदेश में बीजेपी के खिलाफ समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी गठबधन की राह पर आगे बढ़ते दिख रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 15, 2017, 10:41 PM IST
  • Share this:
उत्तर प्रदेश में बीजेपी के खिलाफ समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी गठबधन की राह पर आगे बढ़ते दिख रहे हैं.



यह भी पढ़ें: मायावती बोलीं- बीजेपी के खिलाफ किसी के साथ भी गठजोड़ को तैयार 



अंबेडकर जयंती पर मायावती द्वारा बीजेपी के खिलाफ किसी के साथ भी हाथ मिलाने के बयान के बाद शनिवार को समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी कहा दिया कि बीजेपी के खिलाफ जो भी समाजवादी पार्टी के साथ आना चाहे, हम उसका स्वागत करेंगे.





सपा मुख्यालय में सदस्यता अभियान की शुरुआत करने के दौरान अखिलेश ने कहा कि उन्होंने तो विधानसभा चुनाव के परिणाम आने से पहले ही उन्होंने साफ कह दिया था कि समाजवादी पार्टी बीजेपी के खिलाफ आने वाली पार्टियों का स्वागत करेगी. उस समय ये बड़ी खबर बनी.
यह भी पढ़ें: देश की राजनीति में अब मुलायम की जगह लेने तैयारी में अखिलेश



पिछले दिनों अखिलेश द्वारा दिल्ली में कांग्रेस, जेडीयू और बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से मुलाकात को लेकर अखिलेश ने कहा कि देश के जितने भी नेता हैं, हम सभी से मिलेंगे. आने वाले समय में बीजेपी के खिलाफ जो भी गठबंधन बनेगा. समाजवादी पार्टी उसमें पूरा सहयोग देगी. वैसे असली चुनाव तो उत्तर प्रदेश में ही होगा क्योंकि यहीं 80 सीटे हैं.



इससे पहले अंबेडकर जयंती मायावती ने कहा था कि भाजपा के खिलाफ और ईवीएम के खिलाफ संघर्ष में यदि भाजपा विरोधी पार्टियां हमारे साथ आना चाहती हैं तो हमें उनके साथ हाथ मिलाने में संकोच नहीं है. मायावती के इस बयान को यूपी में सपा और बसपा के बीच गठबंधन होने को लेकर देखा जा रहा था.



यह भी पढ़ें: योगी सरकार ने रोकी समाजवादी पेंशन



मायावती द्वारा अपने भाई आनंद कुमार को बसपा का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाए जाने के सवाल पर अखिलेश ने कहा कि परिवारवाद तो बीजेपी में भी है. अगर ​बसपा परिवार का कोई सदस्य पार्टी में आता है, तो उन्हें इससे कोई दिक्कत नहीं है. हम समाजवादी हैं और संघर्ष करने वाले लोगों का सम्मान करते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज