MLC Election 2021: समाजवादी पार्टी में किसकी लगेगी लॉटरी, रेस में मुलायम परिवार के करीबी

 अभी कुछ दिन पहले आशू मलिक (Ashu Malik) के साथ ही मुलायम सिंह यादव Mulayam Singh Yadav) खादी आश्रम में कपड़े खरीदने गये थे.

अभी कुछ दिन पहले आशू मलिक (Ashu Malik) के साथ ही मुलायम सिंह यादव Mulayam Singh Yadav) खादी आश्रम में कपड़े खरीदने गये थे.

अभी कुछ दिन पहले आशू मलिक (Ashu Malik) के साथ ही मुलायम सिंह यादव Mulayam Singh Yadav) खादी आश्रम में कपड़े खरीदने गये थे.

  • Share this:
लखनऊ. यूपी विधान परिषद (Legislative Council) के चुनाव के लिए इसी हफ्ते किसी दिन चुनाव आयोग (Election Commission) घोषणा कर सकता है. 30 जनवरी को 12 सीटें खाली हो रही है. इनमें से 10 सीटें तो बिना किसी लागलपेट के भाजपा की झोली में चली जायेंगी. एक सीट समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) की भी पक्की है और यहीं सपा के लिए सबसे बड़ी मुसीबत का सबब बन गयी है. 12 सीटों में से सपा सिर्फ 1 सीट पर ही अपने कैंडिडेट को जिता सकती है. ऐसे में सवाल उठता है कि कौन वो खुशनसीब होगा जो सपा से अगले 6 साल के लिए उच्च सदन का विधायक बनेगा. साथ ही ये भी गौर करने लायक बात होगी कि किसका पत्ता कटेगा.

जिन 12 सीटों पर चुनाव होने जा रहे हैं, उनमें से अभी 6 सीटें सपा के पास हैं. अब उसे केवल एक विधायक मिल सकता है. तो फिर जाहिर है कि बाकी पांच का पत्ता साफ होगा. कौन- कौन रेस में सपा के जिन 6 विधायकों का कार्यकाल खत्म हो रहा है उनमें से दो मुलायम परिवार के बेहद करीबी बताया जाता हैं. एक तो परिषद में विपक्ष के नेता ही हैं, अहमद हसन. दूसरे अहम व्यक्ति हैं आशू मलिक. अभी कुछ दिन पहले आशू मलिक के साथ ही मुलायम सिंह यादव खादी आश्रम में कपड़े खरीदने गये थे. इससे मलिक की मुलायम परिवार से नजदीकी का अंदाजा लगाया जा सकता है.

अब सवाल उठता है कि इन दोनों में से अखिलेश यादव किसे उच्च सदन में भेजने के लिए चुनते हैं. अहमद हसन और आशू मलिक, दोनों से ही न्यूज़ 18 ने बात की और दोनों का ही यही कहना है कि राष्ट्रीय अध्यक्ष जिसे चाहेंगे उसे चुनेंगे.

EXCLUSIVE: पंचायत चुनावों में आरक्षण तय होने में लगेगा अभी और समय, 15 फरवरी तक आ सकती है लिस्ट
6 साल के लिए विधायक बनने की चाह रखने वालों ने मुलायम परिवार की परिक्रमा तेज कर दी है. इनके नेताओं के इतर एक नाम तेजी से उपर आ रहा है. जिसके बारे में कहा जा रहा है कि शायद अखिलेश यादव इनके नाम पर मुहर लगा सकते हैं. राजेन्द्र चौधरी चौधरी भी मुलायम परिवार के बेहद करीबी रहे हैं. अखिलेश सरकार में मंत्री भी थे और अखिलेश यादव के साये की तरह हमेशा उनके साथ रहते हैं. संगठन में भी उनका बड़ा रोल रहा है. ऐसे में अहमद हसन और आशू मलिक के अलावा विधायकी के लिए ये तीसरी बड़ी दावेदारी मानी जा रही है.

फिलहाल अब ज्यादा दिन है. जल्द ही इस सीन से पर्दा उठेगा. बता दें कि जिन 12 विधायकों का कार्यकाल 30 जनवरी को खत्म हो रहा है उनमें से सपा के अहमद हसन, आशू मलिक, रमेश यादव, रामजतन राजभर, वीरेन्द्र सिंह और साहब सिंह सैनी शामिल हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज