बंदरबांट में उलझी BJP सरकार से जनता को भी अब कोई उम्मीद नहीं- अखिलेश यादव

बंदरबांट में उलझी BJP सरकार से जनता को भी अब कोई उम्मीद नहीं (File photo)

इससे पहले अखिलेश (Akhilesh) ने कहा 'कोरोना संक्रमण की संख्या भले आंकड़ों में हेराफेरी से कम हो गई है, लेकिन अभी भी अस्पतालों और घरों में संक्रमित कम नहीं हैं.

  • Share this:
लखनऊ. समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) उत्तर प्रदेश की सत्ता गंवाने के बाद से ही योगी सरकार पर लगातार निशाना साधते आ रहे हैं. आज ही अखिलेश यादव ने ट्वीट कर कई मुद्दों पर बीजेपी सरकार पर हमला बोला है. उन्होंने लिखा है, "इधर बेकारी-बेरोज़गारी रिकार्ड तोड़ रही है, उधर महंगाई कमर तोड़ रही है. न मनरेगा में काम है, न स्किल मैपिंग का कहीं अता-पता है और न ही इंवेस्टमेंट मीट के निवेश का. व्यापार, कारोबार, दुकानदारी, कारीगरी सब ठप्प है. बंदरबाँट में उलझी भाजपा सरकार से जनता को कोई उम्मीद भी नहीं है."

इससे पहले अखिलेश ने कहा 'कोरोना संक्रमण की संख्या भले आंकड़ों में हेराफेरी से कम हो गई है, लेकिन अभी भी अस्पतालों और घरों में संक्रमित कम नहीं हैं. खुद पीजीआई की सर्वे रिपोर्ट से खुलासा हुआ है कि 80 प्रतिशत मरीजों के साइनस पर फंगस हमला कर रहा है. फंगस के समुचित इलाज की सुविधाएं अभी भी अपर्याप्त हैं. कोरोना संक्रमितों में अब दूसरी बीमारियों के लक्षण भी दिखाई पड़ने लगे हैं. मरीज तड़प रहे हैं. डॉक्टर अपने प्रशासनिक अधिकार छिने जाने से परेशान हैं, संविदा पर नियुक्त पैरामेडिकल स्टाफ शटल बने हुए है'.





पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने बीजेपी सरकार पर तंज कसते हुए कहा 'समाजवादी सरकार के समय प्रारंभ की गई स्वास्थ्य सुविधाएं भाजपा राज में सिर्फ द्वेषवश बर्बाद की गईं. यद्यपि जब कोरोना की आफत आई तो वही व्यवस्थाएं काम आईं. लखनऊ में कैंसर अस्पताल, अवध शिल्प ग्राम के अलावा उस समय बने मेडिकल कॉलेज और एम्बुलेंस सेवा से ही भाजपा सरकार को काम चलाना पड़ा'.
Published by:naveen lal suri
First published: