लखनऊ CAA हिंसा में पहली गिरफ्तारी पर अखिलेश यादव ने किया ये ट्वीट
Lucknow News in Hindi

लखनऊ CAA हिंसा में पहली गिरफ्तारी पर अखिलेश यादव ने किया ये ट्वीट
सपा प्रमुख अखिलेश यादव (फाइल फोटो)

सपा प्रमुख अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने ट्वीट किया है कि झोपड़पट्टी निवासी ठेला चालक को उप्र की सरकार ने रु 21.76 लाख की क्षतिपूर्ति न कर पाने की दशा में गिरफ़्तार कर लिया है. अमीरों की भाजपा सरकार ये जान ले कि ग़रीब के पास अगर इतना होता तो...

  • Share this:
लखनऊ. उत्तर प्रदेश की समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने मंगलवार को योगी सरकार (Yogi Government) पर गरीबों के उत्पीड़न का आरेप लगाया. अखिलेश ने ट्वीट कर कहा है कि झोपड़पट्टी में रहने वाले एक ठेला चालक को यूपी सरकार ने 21.76 लाख रुपए की क्षतिपूर्ति न करने के कारण गिरफ्तार कर लिया है. उन्होंने कहा कि अगर गरीब के पास इतना होता तो वो सरकार पर ही मुकदमा ठोक देता.

अखिलेश ने ट्वीट किया है, “झोपड़पट्टी निवासी ठेला चालक को उप्र की सरकार ने रु 21.76 लाख की क्षतिपूर्ति न कर पाने की दशा में गिरफ़्तार कर लिया है. अमीरों की भाजपा सरकार ये जान ले कि ग़रीब के पास अगर इतना होता तो वो आपके ‘झूठे मुक़दमों की सच्ची वसूली’ के ख़िलाफ़ उल्टा ‘ठोकू सत्ता’ पर ही मुक़दमा ठोक देता.” इस ट्वीट के साथ अखिलेश ने तस्वीर भी पोस्ट की है.

मोहम्मद कलीम की हुई पहली गिरफ्तारी 



दरअसल राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (NRC) और नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के विरुद्ध हुए हिंसक प्रदर्शनों की रिकवरी के संबंध में बाक़ीदर मोहम्मद कलीम पुत्र शमशुद्दीन की गिरफ्तारी हुई है. NRCऔर CAA के विरुद्ध हुए प्रदर्शन में की गई हिंसा के विरुद्ध अपर जिलाधिकारी ट्रांस गोमती के कोर्ट से जारी रिकवरी सर्टिफिकेट के क्रम में यह पहली गिरफ्तारी है. 21 लाख 76 हजार रुपये के बाकीदार मोहम्मद कलीम पुत्र शमशुद्दीन निवासी बिठौली चौराहा जानकीपुरम का है. तहसीलदार कार्यालय द्वारा गिरफ्तारी का अधिपत्र जारी किया गया था. आज उक्त बाकीदार को गिरफ्तार कर के जेल भेजा गया.
ये भी पढ़ें: NRC और CAA के विरोध के दौरान संपत्ति नुकसान की भरपाई के मुद्दे पर यूपी में पहली गिरफ्तारी

सीएम योगी ने उपद्रवियों से सख्ती से निबटने की बात कही थी

गौरतलब है कि सीएए के खिलाफ प्रदर्शन को लेकर उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में हुए हिंसक प्रदर्शन से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बेहद नाराज थे. वह लगातार पूरे घटनाक्रम पर नजर बनाए हुए थे. सीएम योगी आदित्यनाथ ने अपर मुख्य सचिव, गृह अवनीश अवस्थी और प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह को उपद्रवियों से सख्ती से निपटने का निर्देश दिया था. उन्होंने आम जन के जानमाल की सुरक्षा हर हाल में सुनिश्चित करने को कहा था. साथ ही उपद्रवियों को चिह्नित कर कड़ी कार्रवाई करने का आदेश दिया था.



ये भी पढ़ें: कानपुर एनकाउंटर जांच: STF का खुलासा, दरोगा को फोन पर बोला विकास दुबे- आज निपट लेंगे पुलिस से

उपद्रवियों की संपत्ति कुर्क कर की जाएगी भरपाई

सीएम योगी ने कहा था कि लखनऊ और संभल में बवाल किया गया. सीएम ने कहा था कि उपद्रवियों से सख्ती से निपटा जाए. प्रदर्शन के नाम पर हिंसा बर्दाश्त नहीं की जाएगी. लखनऊ में दर्जन भर वाहनों में आग लगाई गई. इस नुकसान की भरपाई उपद्रवियों की संपत्ति कुर्क कर की जाएगी. हिंसा में लिप्त लोगों की संपत्ति जब्त की जाएगी. सीएम ने कहा था कि लोकतंत्र में हिंसा के लिए जगह नहीं है. संभल में भी कई गाड़ियां जलाई गईं. सीएम के इस आदेश के बाद तब लखनऊ के कमिश्नर मुकेश मेश्राम ने बताया था कि उपद्रवियों को चिह्नित किया जा रहा है. सीसीटीवी और तमाम फुटेज खंगाले गए थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading