अखिलेश बोले- हमें ईवीएम पर भरोसा नहीं, आगे जो भी चुनाव हों बैलेट पेपर पर ही हों

सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ईवीएम मुद्दे पर बोलते हुए.

सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ईवीएम मुद्दे पर बोलते हुए.

अखिलेश ने कहा कि ईवीएम के विषय में चुनाव आयोग को सफाई देनी चाहिए. हमें ईवीएम पर भरोसा नहीं है. समाजवादी पाटी की मांग है कि आगे जो भी चुनाव हों बैलेट पेपर पर ही हों.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 15, 2017, 3:00 PM IST
  • Share this:
यूपी विधानसभा चुनाव में करारी शिकस्त के बाद अब अखिलेश यादव ने पूरा जोर समाजवादी पार्टी को मजबूत लगाने पर दिया है. इसके लिए अखिलेश ने शनिवार को सपा के सदस्यता अभियान की शुरुआत की.



यह भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश में सपा और बसपा गठबंधन की ओर



इस दौरान अखिलेश ने कहा कि ईवीएम के विषय में चुनाव आयोग को सफाई देनी चाहिए. हमें ईवीएम पर भरोसा नहीं है. समाजवादी पाटी की मांग है कि आगे जो भी चुनाव हों, बैलेट पेपर पर ही हों.





पार्टी मुख्यालय पर आयोजित कार्यक्रम में अखिलेश ने बीजेपी पर चुनाव में जमकर धांधली करने के आरोप के साथ ही एंटी रोमियो स्क्वॉड, बिजली, एंबुलेंस सेवा और अवैध स्लॉटर हाउस जैसे मुद्दों पर अपनी राय रखी.
यह भी पढ़ें: मायावती बोलीं- बीजेपी के खिलाफ किसी के साथ भी गठजोड़ को तैयार 



अखिलेश ने कहा कि आज से पार्टी ने दो महीने तक सदस्यता अभियान की शुरुआत की है. इसमें बड़े पैमाने पर लोगों ने सदस्यता लेना शुरू भी कर दिया है. अपने अभियान में हम हर जगह पहुंचेगे. इस बहाने समाजवादी पार्टी के सिद्धांत, कार्यक्रम और सपा सरकार के काम की जानकारी भी लोगों को देंगे.



इस सदस्यता अभियान में हम पर्ची काटकर सदस्य बनाने के साथ ही मिस्ड कॉल और सोशल मीडिया के माध्यम से भी लोगों को जोड़ेंगे. उन्होंने कहा कि लक्ष्य कितने सदस्यों का है, इसकी संख्या बताना मुश्किल है लेकिन ये अभियान यूपी के साथ ही दूसरे प्रदेशों में भी चलेगा. इसके लिए तमाम प्रभारियों को जिम्मेदारी दे दी गई है.



यह भी पढ़ें: देश की राजनीति में अब मुलायम की जगह लेने तैयारी में अखिलेश



अखिलेश ने कहा कि हमने सपा के सभी प्रत्याशियों के साथ मिलकर समीक्षा की. इसका ​पूरा निष्कर्ष मैं यही बता सकता हूं कि जनता को लगा है कि प्रदेश में धोखा देकर सरकार बनाने का काम किया गया है. पूरा का पूरा चुनाव धर्म और जाति के आधार पर लाभ देने की बात कहके लड़ा गया और वोट हासिल किए गए.



ईवीएम मुद्दे पर अखिलेश ने कहा कि पहला मामला बहराइच में आया, जब बटन दबाते ही बीजेपी को वोट गया. मामले में मशीन बदली गई. यही नहीं पोलिंग बूथों पर एजेंट अंदर नहीं रहे. लोग अभी भी भरोसा नहीं कर पा रहे हैं कि उनका वोट बीजेपी को ​कैसे चला गया.



अखिलेश ने कहा कि हम केवल शिकायत कर रहे हैं. चुनाव आयोग चुनौती आदि दे रहा है. हम तो बस मांग कर रहे हैं. चुनाव आयोग को बताना चाहिए कि ऐसा क्यों हो रहा है. कैलिबरेशन में गलती हो रही है.



यह भी पढ़ें: तीन तलाक: योगी सरकार ने महिला मंत्रियों को दी ये जिम्मेदारी



इसी तरह ईवीएम है खराब हो जाता है. सॉफ्टवेयर कब खराब हो जाए पता नहीं. कैलिबरेशन बिगड़ सकता है. अटेर और राजस्थान में भी यही हुआ. हमारे यहां लोग राष्ट्रगान और राष्ट्रगीत में कंफ्यूज हो जाते हैं. हमें ईवीएम पर भरोसा नहीं है.



ये पता लगाना चाहिए कि ईवीएम में सॉफ्टवेयर कौन डाल रहा है. वो लोग कौन हैं. क्योकि यूपी में तो नाम बता दो, तो हम बता देते हैं कि ये वोट किसको दिए होंगे.

हमें बैलेट पेपर पर पूरा भरोसा है. समाजवादी पाटी की मांग है कि आगे जो भी चुनाव हों बैलेट पेपर पर ही हों.



यह भी पढ़ें: योगी सरकार ने रोकी समाजवादी पेंशन



बिजली के मुद्दे पर बोलते हुए पूर्व सीएम न कहा कि उन्हें खुशी है कि तमाम वो अधिकारी जिनसे उन्होंने खूब काम करवाए, वो अभी भी वहीं हैं. अभी तो ये समाजवादी ट्रांसफार्मर हैं, जिनसे बिजली पहुंच रही है. अभी तो सपा सरकार का बजट ही चल रहा है. आगे जब बदलाव होगा तो देखेंगे.



उन्होंने ऊर्जा मंत्री पीयूष गोयल की तस्वीर वाले बयान पर जवाब देते हुए कहा​ कि उन्होंने अधूरी बात क्यों बताई. हमारा झगड़ा तस्वीर का था. जिस योजना में पीएम की तस्वीर जा सकती है, उसमें सीएम की तस्वीर क्यों नहीं जाएगी? हो सकता है शायद ये सरकार अब तस्वीर लगा ले. और जहां तक बल्ब बांटने की बात है तो यूपी ने तो सबसे ज्यादा रिकॉर्ड एलईडी बल्ब बांटे.



उन्होंने कहा कि समाजवादी पेंशन बंद हो गई. हम तो लड़कर इसकी धनराशि बढ़ाकर 1000 रुपए करने वाले थे. इससे लाभान्वित होने वाले 55 लाख गरीबों ने मन बना लिया है कि अब सपा के साथ ही रहेंगे.



यह भी पढ़ें: यूपी चुनाव आयोग को अपने ही ईवीएम पर भरोसा नहीं, बैलेट से चुनाव की मांग



कानून-व्यवस्था पर बोलते हुए अखिलेश ने कहा कि जिंदा गाड़ी में जला दिया जा रहा है. सपा सरकार होती तो खूब आग बरस रही होती. सपा पर आरोप लगता था कि हम ​कानून व्यवस्थ में फिसड्डी थे. आज डॉयल 100 का सिर्फ रिकॉर्ड निकलवा लिया जाए तो पता चल जाएगा कि कितनी हत्याएं और अपराध रोज हो रहे हैं.



एंटी रोमियो स्क्वॉड पर अखिलेश बोले कि रोमियो के चक्कर में जाने कितने अपमानित हो रहे हैं. उन्होंने योगी सरकार के लिए कहा कि रोमियो की असली कहानी तो बता देते. उसने जहर खा लिया. चिट्ठी उसे समय पर नहीं मिली थी. प्रदेश में रोमियो स्क्वॉड के नाम पर घरों में घुस जा रहे हैं.



स्लॉटर हाऊस के मुद्दे पर अखिलेश बोले, लोगों को बताया कि स्लॉटर हाऊस बंद होंगे. ये नहीं बताया कि हैं कितने. कई हिंदू भई भी स्लॉटर हाऊस चलाते हैं. लेकिन उनसे मुलाकात की तस्वीर नहीं छपी. मुर्गे और मीट की दुकानें बंद हो गईं. सरकार को बताना चाहिए कि कितने जानवर कट रहे हैं.



गाय तो हमारे यहां भी पलती हैं. लेकिन बीजेपी वाले हमें हिंदू मानने को तैयार ही नहीं है. मैं तो सोचता हूं कि रोज सुबह मंदिर जाकर वहां से तस्वीर ट्वीट कर दिया करूं.



एंबुलेंस योजना को दो साल तक रोके जाने की बात पर अखिलेश ने कहा कि सिर्फ एंबुलेंस ही नहीं चलानी होती, तकनीकी स्टाफ और ड्राइवर की भर्ती भी उसके साथ की जाती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज