मिशन 2019 के लिए पीके की तरह अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी को मिला 'AK'!

ये किसी भी नेता, प्रवक्ता या पदाधिकारी को तलब करने का अधिकार रखते हैं. दिलचस्प बात ये है कि नेता को खुद इनसे मिलने या संपर्क करने की अनुमति नहीं है.

Ajayendra Rajan | News18 Uttar Pradesh
Updated: September 11, 2018, 12:20 PM IST
मिशन 2019 के लिए पीके की तरह अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी को मिला 'AK'!
हाल ही में सेवानिवृत सैन्यकर्मियों के साथ बैठक में सपा प्रमुख अखिलेश यादव. Photo: File
Ajayendra Rajan
Ajayendra Rajan | News18 Uttar Pradesh
Updated: September 11, 2018, 12:20 PM IST
उत्तर प्रदेश की समाजवादी पार्टी में इन दिनों मैनेजमेंट की क्लासेज चल रही हैं. पार्टी के नेताओं और प्रवक्ताओं को बताया जा रहा है कि क्या बोलें? और क्या न बोलें? बयानबाजियों के अलावा इन नेताओं को पावर प्वाइंट प्रेजेंटेशन के माध्यम से समझाया जा रहा है कि प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों में जातिगत समीकरण क्या हैं? किस तरह पार्टी को अपना वोट बैंक मजबूत करना है? बीजेपी किन-किन क्षेत्रों में अपना जनाधार बढ़ा रही है? जिसे रोकना है.

वैसे तो लोकसभा चुनाव को देखते हुए सभी पार्टियां कमोबेश इसी तरह की रणनीति में जुटती हैं, लेकिन समाजवादी पार्टी में ये कवायद खास है. कारण ये है कि पहली बार पार्टी में एक शख्स इन सभी कार्यशालाओं को आॅर्गनाइज कर रहा है. दिलचस्प बात ये है कि पार्टी के अधिकतर नेता इस शख्स के बारे में ज्यादा कुछ नहीं जानते. 'राय साहब' कहकर इन्हें पुकारा जाता है. जब हमने काफी कोशिश की तो पता चला कि इनका पूरा नाम एके राय पता चला. लेकिन ये कहां के हैं? इससे पहले क्या करते थे? आदि की जानकारी फिलहाल पार्टी में किसी के पास नहीं है.

पार्टी के नेताओं में चर्चा है कि इनका रसूख समाजवादी पार्टी में अखिलेश यादव के बाद नंबर टू की पोजीशन पर है. ये किसी भी नेता, प्रवक्ता या पदाधिकारी को तलब करने का अधिकार रखते हैं. दिलचस्प बात ये है कि नेता को खुद इनसे मिलने या संपर्क करने की अनुमति नहीं है. हालांकि पार्टी के प्रवक्ता उदयवीर सिंह दूसरी ही बात करते हैं.

उदयवीर सिंह कहते हैं कि ये राय साहब के बारे में उनसे कई लोग पूछ चुके हैं. पार्टी में इस तरह के कोई शख्स नहीं हैं. हां, जब सभी प्रवक्ताओं को लेकर बैठक हुई थी तो एक राय साहब आए थे, जिन्होंने प्रेजेंटेशन दिया था और अपनी बात रखी थी. उनका पूरा नाम क्या है, ये हमें नहीं पता. लेकिन इस तरह के लोग पार्टी में समय-समय पर आते रहते हैं.

ये भी पढ़ें: 

पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों के लिए कांग्रेस और बीजेपी बराबर की जिम्मेदार: मायावती

जिस मंच से विवेकानंद ने दिया था भाषण, 125 साल बाद वाराणसी के शख्स को मिला मौका
Loading...
यूपी पुलिस के शस्त्रागार में अब नहीं रहेगी दूसरे विश्व युद्ध की एनफील्ड राइफल
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर