अपना शहर चुनें

States

SP नेता अनुराग भदौरिया ने POLO के लिए स्कूल को दान किए अर्जेंटीना के कीमती घोड़े

 POLO के लिए स्कूल को दान किए अर्जेंटीना के कीमती घोड़े
POLO के लिए स्कूल को दान किए अर्जेंटीना के कीमती घोड़े

सपा प्रवक्ता ने बताया कि लामार्टिनियर स्कूल (La Martiniere School) को दोबारा से पोलो खेल की शुरुआत करना था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 17, 2021, 10:12 PM IST
  • Share this:
लखनऊ. समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के प्रवक्ता डॉ. अनुराग भदौरिया (Anurag Bhadauria) ने बड़ी पहल की है. पोलो (POLO) के खिलाड़ी अनुराग भदौरिया ने राजधानी लखनऊ (Lucknow) के प्रतिष्ठित ला मार्टिनियर स्कूल (La Martiniere School) को पोलो खेल को बढ़ावा देने के लिए अर्जेंटीना के दो घोड़े दान किए है. बता दें कि पोलो को घोड़ों पर सवार होकर खेला जाता है. इस खेल में खिलाड़ी मैदान पर प्रतिद्वंद्वी टीम के विरुद्ध गोल करते हैं. ब्रिटिश काल से पोलो के खेल को काफी ख्याति मिली है.

न्यूज़ 18 से बातचीत में डॉ. अनुराग भदौरिया ने बताया कि मैं छात्र जीवन से ही पोलो खेलता रहा हूं. मेरे पास अर्जेंटीना से आए थारो ब्रीड के घोड़े हैं. उन्होंने बताया कि बचपन में मेरे दादा जी के पास गांव में घोड़े थे. उस वक्त मैं उन घोड़े की राइडिंग करता था. यूपी के इटावा जिले के मूल निवासी अनुराग आगे बताते हैं कि जब मैं दिल्ली पढ़ाई करने आया तो तो मैं रेस कोर्स जाकर पोलो खेलने लगा. उन्होंने बताया कि मेरे पास आज कई थारो ब्रीड के कीमती घोड़े मौजूद हैं.

सीएम योगी बोले- बुंदेलखंड में स्ट्रॉबेरी का उत्पादन एक चमत्कार, दिलाएगी नई पहचान



सपा के प्रवक्ता ने बताया कि ला मार्टिनियर स्कूल को दोबारा से पोलो खेल की शुरुआत करना था. इसलिए मैंने उन्होंने अच्छी नस्ल के घोड़े देने की पहल की. हमने अर्जेंटीना के दो महंगे घोड़े ला मार्टिनियर स्कूल को गिफ्ट दिया ताकि यहां पढ़ने वाले बच्चे पोलो खेल सकें. सपा सरकार में राज्य मंत्री रहे भदौरिया ने बताया कि यह दोनों घोड़े पूरी तरह से ट्रेंड है. ला मार्टिनियर स्कूल प्रशासन ने पोलो सेशन के लिए दो और घोड़ों की डिमांड की है. मैं भविष्य में इसके लिए प्रयास करुंगा. उन्होंने स्कूल को प्रशासन को भरोसा दिया कि समय-समय पर वो बच्चों को पोलो की ट्रेनिंग देने की भी कोशिश करते रहेंगे.
अर्जेंटीना से आए थारो ब्रीड के घोड़े
अर्जेंटीना से आए थारो ब्रीड के घोड़े


बता दें कि इस खेल में खिलाड़ी के साथ-साथ घोड़ों का भी अहम रोल होता है. यदि घोड़ा खिलाड़ी के इशारों को समझते हुए चलता है तो खिलाड़ी के लिए गोल करना आसान हो जाता है. वहीं इस खेल से घोड़ों को हटा दिया जाए तो यह महज स्टिक और गेंद का सामान्य खेल बन कर रह जाएगा. पोलो खेलने वाले सभी खिलाड़ी मानते हैं कि इस खेल में 80 फीसदी योगदान घोड़े का होता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज