3 साल में महज 71 दिन हुईं यूपी विधानसभा की बैठकें, हर बार भाग जाती है बीजेपी सरकार: सपा

समाजवादी पार्टी के नेता राम गोविंद चौधरी
समाजवादी पार्टी के नेता राम गोविंद चौधरी

नेता विरोधी दल राम गोविंद चौधरी ने कहा कि 19 दिसंबर को प्रदेश में शांतिपूर्वक समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) पर धरना दिया गया और कलेक्टर के माध्यम से ज्ञापन दिया गया. भारतीय जनता पार्टी के इशारे पर पुलिस ने दंगा-फसाद को बढ़ाया है.

  • Share this:
लखनऊ. साल के आखिरी दिन यूपी विधानसभा (UP Assembly) के एक दिवसीय विशेष सत्र के समापन के बाद बुधवार (1 जनवरी) को नेता विरोधी दल रामगोविंद चौधरी ने प्रेस कांफ्रेंस बुलाकर बीजेपी सरकार पर जमकर हमले किए. उन्होंने कहा कि बीजेपी सरकार में 2017 में 23 दिन, 2018 में 25 दिन और 2019 में 23 दिन सदन की बैठकें हुईं. तीन बार सरकार ने विशेष सत्र बुलाया लेकिन जनता का कोई कार्य नहीं हुआ. यही नहीं 2 अक्टूबर को गांधी जयंती पर विशेष सत्र बुलाया. 36 घंटे सदन चलाने का नाटक किया और उसके बाद गांधी जी के विचारों को रौंदने का कार्य किया. राम गोविंद चौधरी ने कहा नियमानुसार हर साल 3 अधिवेशन और 90 उपवेशन होने चाहिए, जिसमें दो महीने के अंतराल पर कम से कम 10 दिन के लिए विधानसभा का सत्र बुलाया जाना चाहिए.

उन्होंने कहा कि यूपी सरकार हर मुद्दे पर पूरी तरह से फेल है. उत्तर प्रदेश की कानून व्यवस्था पूरी तरह से ध्वस्त है. महंगाई चरम पर है. भारतीय जनता पार्टी अपनी नाकामयाबी छिपाने के लिए 80ए और एनआरसी को लाकर देश को बर्बाद करना चाहती है. सरकार परेशानी दूर नहीं कर पा रही है. सरकार महंगाई दूर नहीं कर पा रही है. धान और गेहूं की खरीद नहीं कर पा रही है इसलिए वह जनता को इन मुद्दों ध्यान हटाए रखना चाहती है.

'सीएए प्रदर्शन के दौरान बीजेपी के इशारे पर पुलिस बढ़ाया दंगा-फसाद'
राम गोविंद चौधरी ने कहा कि 19 दिसंबर को प्रदेश में शांतिपूर्वक समाजवादी पार्टी पर धरना दिया गया और कलेक्टर के माध्यम से ज्ञापन दिया गया. भारतीय जनता पार्टी के इशारे पर पुलिस ने दंगा फसाद को बढ़ाया है. भारतीय जनता पार्टी की सरकार विपक्ष के सवालों के जवाब देने में पूरी तरह से नाकामयाब है इसलिए जो भी सत्र बुलाती है, पहले ही बोरिया-बिस्तर समेटकर भाग जाती है. उन्होंने कहा कि पिछली बार जब अनुपूरक बजट आया था तो 4 दिन का सत्र था लेकिन 19 को ही सत्र खत्म कर दिया सिर्फ 3 दिन सत्र चलाया.
मुख्यमंत्री हमेशा विषय से हटकर बोलते हैं


प्रश्नकाल में बजट पास करा दिया, जो असंवैधानिक है. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री जी विषय से हटकर हमेशा बोलते हैं. विषय पर कभी नहीं बोलते. कल विशेष सत्र बुलाया गया था, जिस पर संसदीय कार्य मंत्री और मुख्यमंत्री उसको पढ़कर रख देते हैं लेकिन परंपरा को संसदीय कार्य मंत्री ने तोड़ा है. लंबा चौड़ा भाषण दिया. सरकार विपक्ष की बात नहीं सुनना चाहती है. सरकार ने एनआरसी और सीएए को लेकर जो दमन चलाया है, उसके मुद्दा जब हमने सदन में उठाया तो बोरिया बिस्तर समेट कर भाग गए.

सरकार पूरी तरह से नाकामयाब
इसी तरह 19 दिसंबर को जब मैंने इस मुद्दे को उठाया तो भी वह भाग कर चले गए. उन्होंने कहा कि यह सरकार पूरी तरह से नाकामयाब हो गई है. अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार ने एक रिपोर्ट जारी की है कि दुनिया में उत्तर प्रदेश में सबसे ज्यादा बलात्कार की घटनाएं बढ़ी हैं. माननीय सर्वोच्च न्यायालय ने भी टिप्पणी की है कि उत्तर प्रदेश में जंगलराज हो गया है. इस बात से हमें अंदाजा लगाना चाहिए कि उत्तर प्रदेश की कानून व्यवस्था क्या है? महंगाई रोज बढ़ रही है. 45 वर्ष के अंदर इतनी महंगाई कभी नहीं बढ़ी. पेट्रोल-डीजल, गैस के दाम लगातार बढ़ रहे हैं. रेलवे के टिकट के भी दाम बढ़ा दिए गए है. ऐसा लग रहा है कि सरकार जजिया कर वसूल रही है.

इनपुट: अलाउद्दीन

ये भी पढ़ें:

गृह मंत्रालय को मिली यूपी में PFI को बैन करने की योगी सरकार की सिफारिश: सूत्र

स्कूटी का चालान भरने के लिए लखनऊ में घूम-घूम लोगों से चंदा मांग रही कांग्रेस
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज