25 सूत्रीय मांगों को लेकर सपा का प्रदेशव्यापी धरना-प्रदर्शन, लखनऊ में पुलिस ने भांजी लाठियां

अखिलेश यादव के निर्देश पर सपा नेता व कार्यकर्ता बड़ी संख्या में कलेक्ट्रेट के मुख्य भवन गेट पर धरना प्रदर्शन कर रहे थे. इस बीच सपाइयों ने बेरिकेडिंग को तोड़कर परिसर में घुसने का प्रयास किया. जिसके बाद पुलिस ने उनपर जमकर लाठियां भांजी.

News18 Uttar Pradesh
Updated: August 9, 2019, 1:53 PM IST
25 सूत्रीय मांगों को लेकर सपा का प्रदेशव्यापी धरना-प्रदर्शन, लखनऊ में पुलिस ने भांजी लाठियां
समाजवादी पार्टी का धरना प्रदर्शन जारी
News18 Uttar Pradesh
Updated: August 9, 2019, 1:53 PM IST
राज्य की कानून व्यवस्था और अन्य मुद्दों को लेकर समाजवादी पार्टी का प्रदेशव्यापी धरना प्रदर्शन जारी है. इस दौरान लखनऊ के कलेक्ट्रेट में घुसने की कोशिश कर रहे सपा कार्यकर्ताओं पर पालिक एने जमकर लाठियां भांजी है. इस लाठी चार्ज में कई सपाई घायल हुए हैं. अखिलेश यादव के निर्देश पर सपा नेता व कार्यकर्ता बड़ी संख्या में कलेक्ट्रेट के मुख्य भवन गेट पर धरना प्रदर्शन कर रहे थे. इस बीच सपाइयों ने बेरिकेडिंग को तोड़कर परिसर में घुसने का प्रयास किया. जिसके बाद पुलिस ने उनपर जमकर लाठियां भांजी.

इस बीच पुलिस की लाठीचार्ज को सपाइयों ने बर्बरतापूर्ण कार्रवाई बताया. उन्होंने कहा कि वे शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे थे, लेकिन पुलिस ने जबरन लाठीचार्ज किया. गोरखपुर में भी सपा कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज की खबर है.

प्रदर्शन से नदारद हैं अखिलेश

हालांकि सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने अगस्त क्रांति दिवस के दिन राज्यव्यापी धरना-प्रदर्शन का निर्देश दिया है, लेकिन वे खुद पिक्चर से गायब है. उनका निर्देश था कि धरना कार्यक्रम में पार्टी के सांसदों, विधायकों और कार्यकर्ताओं सहित समाजवादी पार्टी के सभी युवा संगठन, महिला सभा तथा अन्य प्रकोष्ठों के पदाधिकारी एवं कार्यकर्ता भी हिस्सा लेंगे और राज्यपाल को सम्बोधित ज्ञापन जिलाधिकारी के माध्यम से सौंपेंगे. अब बिना अखिलेश के ही सपा कार्यकर्ता संघर्ष करते नजर आ रहे हैं.

sp president akhilesh yadav
सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव


इन  मुद्दों को लेकर हो रहा प्रदर्शन

जिन 25 मांगों को लेकर प्रदर्शन किया जा रहा है, उनमें उन्नाव बलात्कार पीड़िता के साथ न्याय और इस प्रकरण में आरोपी भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को उत्तर प्रदेश के बाहर किसी जेल में स्थानान्तरित करने, सोनभद्र जिले के उम्भा गांव में पिछले महीने सामूहिक कत्लेआम का कारण बनी जमीन को आदिवासियों को आवंटित कर राजस्व अभिलेख में उनका नाम स्थायी रूप से दर्ज करने और सोनभद्र के उम्भा गांव के नरसंहार की घटना की उच्च स्तरीय जांच कराकर दोषी व्यक्तियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलाने, अपराधियों को तत्काल गिरफ्तार कर फास्ट ट्रेक अदालत के जरिए अविलम्ब सजा दिलाने की मांगें प्रमुख हैं.
Loading...

इसके अलावा रामपुर के जौहर विश्वविद्यालय में राज्य सरकार द्वारा किया जा रहा ‘‘अत्याचार'' तत्काल बन्द करने, सांसद आजम खां के खिलाफ दर्ज ‘‘फर्जी मुकदमे'' समाप्त करने, विधायक अब्दुल्ला आजम खां का ‘‘उत्पीड़न एवं अवैध कार्रवाई'' पर रोक लगाने, इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीनों के बजाय मतपत्रों से चुनाव की व्यवस्था कराने की मांगें भी शामिल हैं.

ये भी पढ़ें-अब दुनिया में भदोही के साथ बजेगा कश्‍मीर का डंका, मोदी सरकार ने दूरी की सबसे बड़ी बाधा

गोरखपुर का 'जनता फ्रिज' बन सकता है देश के लिए नज़ीर, ये है वजह

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 9, 2019, 1:07 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...