यहां आकर बिगड़ गई सपा में समझौते की बात, अखिलेश उठा सकते हैं बड़ा कदम!

सूत्रों की मानें तो मंगलवार की शाम मुलायम सिंह के आवास पर अखिलेश और शिवपाल में सुलहनामे के लिए बैठक बुलाई गई थी

नासिर हुसैन
Updated: September 12, 2018, 10:53 AM IST
यहां आकर बिगड़ गई सपा में समझौते की बात, अखिलेश उठा सकते हैं बड़ा कदम!
शिवपाल यादव और अखिलेश यादव (फाइल फोटो)
नासिर हुसैन
नासिर हुसैन
Updated: September 12, 2018, 10:53 AM IST
समाजवादी पार्टी (सपा) में उठे सियासी बवाल पर अब कभी भी परदा गिर सकता है. शुक्रवार तक आरपार पर फैसला लिया जा सकता है. एक बार फिर से समझौते की बात कुर्सी की खींचतान पर ही आकर रुक गई है. अखिलेश यादव खेमा शिवपाल की शर्त को मान चुका है. लेकिन समझौते की इस आखिरी कोशिश में बात मुलायम सिंह यादव पर आकर अटक गई है. हालांकि बात न बनने की सूरत में अखिलेश यादव ने शिवपाल के खिलाफ बड़ा कदम उठाने का अल्टीमेटम भी दे दिया है.

सूत्रों की मानें तो मंगलवार की शाम मुलायम सिंह के आवास पर अखिलेश और शिवपाल में सुलहनामे के लिए बैठक बुलाई गई थी. बैठक की शुरुआत में तो सिर्फ परिवार के लोग ही शामिल थे. लेकिन बैठक शुरु होने के आधे घंटे बाद सपा के वरिष्ठ नेता आज़म खान और कोषाध्यक्ष संजय सेठ भी बैठक में पहुंच गए थे. गौरतलब रहे कि इस सुलहनामे की कमान ये दोनों नेता ही संभाले हुए हैं.

सूत्रों का कहना है कि सुलह के इस आखिरी कोशिश में शिवपाल यादव की शर्त मानकर उन्हें यूपी में सपा का प्रदेश अध्यक्ष बनाने की बात मान ली गई थी. जिस पर शिवपाल ने तर्क करते हुए कहा कि क्या गारंटी है कि आप लोग मुझे फिर नहीं निकालोगे? जिसके जवाब में शिवपाल ने एक और शर्त रखते हुए कहा कि पहले की तरह मुलायम सिंह को राष्ट्रीय अध्यक्ष बना दो. साथ ही मुझे प्रदेश अध्यक्ष बनाओ.
2022 में जीत मिलने पर हम मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को ही बनाएंगे.

लेकिन शिवपाल की इस शर्त को सिरे से ही खारिज कर दिया गया. सूत्रों का कहना है कि खुद मुलायम सिंह यादव ने राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने से इंकार कर दिया और कहा कि शिवपाल अब आपको जो भी फैसला लेना है वो शुक्रवार तक लेकर हमें बता दो.

वहीं सूत्रों का कहना है कि बैठक के बाद अखिलेश ने खुला अल्टीमेटम देते हुए कहा है कि अगर बात बन जाती है तो ठीक है. अगर ऐसा नहीं होता है तो पार्टी से निष्कासन का पत्र तैयार कराइए.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर