'केंद्र के इस बजट में महिला, किसान और युवाओं के लिए कोई जगह नहीं'

संजय सिंह ने कहा कि सरकारी कर्मचारियों व सीनियर सिटीज़न को भी इस बजट में कोई जगह नहीं मिली.

News18 Uttar Pradesh
Updated: July 7, 2019, 8:59 PM IST
'केंद्र के इस बजट में महिला, किसान और युवाओं के लिए कोई जगह नहीं'
संजय सिंह, फाइल फोटो
News18 Uttar Pradesh
Updated: July 7, 2019, 8:59 PM IST
आम आदमी पार्टी (आप) के राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने रविवार को प्रेस वार्ता के दौरान केंद्र सरकार द्वारा पेश किए गए बजट पर जमकर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि यह बजट किसान, युवा, बेरोज़गार और महिला विरोधी है. उनकी माने तो इस बजट में इन लोगों के लिए कोई बात नहीं की गई है. साथ ही उन्होंने केंद्र सरकार के इस बजट को व्यापारी विरोधी भी बताया. उन्होंने कहा कि इस बजट में व्यपारियों के लिए टैक्स में कोई राहत नहीं दी गई है.

सरकारी कर्मचारियों को भी बजट में नहीं मिली कोई जगह
संजय सिंह ने कहा कि सरकारी कर्मचारियों व सीनियर सिटीज़न को भी बजट में कोई जगह नहीं मिली. इतना ही नहीं ख़ुद को राष्ट्रवादी कहने वाली सरकार ने सेना से रिटायर शारीरिक रूप से अक्षम व्यक्तियों के पेंशन पर भी टैक्स लगा दिया. उन्होने कहा कि यह बजट चंद लोगों को फ़ायदा पहुंचाने व बाक़ी अन्य लोगों को नरकीय जीवन में धकेलने जैसा है.

यूपी में शिक्षा, स्वास्थ्य और सड़कों की स्थिति जर्जर

वहीं, सांसद ने यूपी की कानून- व्यवस्था पर सवाल उठाते हुए कहा की आज़ मासूम बच्चियों के साथ रेप और बलात्कार जैसी घटनाएं लगातार सामने आ रही हैं. इस पर रोक लगाने की कोई भी कोशिश दिखाई नहीं पड़ रही है. यूपी में शिक्षा, स्वास्थ्य और सड़कों की स्थिति जर्जर हो गई हैं. साथ ही कानून व्यवस्था नाम की कोई चीज़ नहीं है.

मॉब लिंचिंग की घटनाओं पर लगे रोक
साथ ही देशभर में हो रही मॉब लिंचिंग की घटनाओं पर आप नेता ने कहा कि मॉब लिंचिंग जैसी घटनाएं समाज में अभिशाप हैं. इन घटनाओं में शामिल लोगों को सरकार और सत्ता का सरंक्षण प्राप्त है. ऐसी घटनाओं पर रोक लगनी चाहिए. किसी को राम के नाम पर पीटकर मारना कहां जायज है. ऐसी घटनाओं पर रोक लगाने के लिए हिन्दू समाज को आगे आना होगा.
Loading...

ये भी पढ़ें- 

BJP सांसद बोले- मुझे बचाने के लिए सुरक्षाकर्मी ने किया फायर

धोती वाले बुजुर्ग को ट्रेन से उतारा, रेलवे ने नहीं मानी गलती

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 7, 2019, 7:08 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...