हार्दिक पर दर्ज हो सकता देशद्रोह का केस!: हाईकोर्ट ने कहा- क्रांति रैली के भाषण की हो जांच

पाटीदार समाज के लिए आरक्षण की लड़ाई लड़ने वाले हार्दिक पटेल की मुश्किलें बढ़ सकती है. गुजरात हाईकोर्ट ने पुलिस को आदेश दिया है कि वह क्रांति रैली के दौरान हार्दिक पटेल की भाषण की जांच करें. अगर पहली नजर में ऐसा कोई मामला बनता है तो उनके खिलाफ देशद्रोह का मामला दर्ज किया जाए.

पाटीदार समाज के लिए आरक्षण की लड़ाई लड़ने वाले हार्दिक पटेल की मुश्किलें बढ़ सकती है. गुजरात हाईकोर्ट ने पुलिस को आदेश दिया है कि वह क्रांति रैली के दौरान हार्दिक पटेल की भाषण की जांच करें. अगर पहली नजर में ऐसा कोई मामला बनता है तो उनके खिलाफ देशद्रोह का मामला दर्ज किया जाए.

पाटीदार समाज के लिए आरक्षण की लड़ाई लड़ने वाले हार्दिक पटेल की मुश्किलें बढ़ सकती है. गुजरात हाईकोर्ट ने पुलिस को आदेश दिया है कि वह 'क्रांति रैली' के दौरान हार्दिक पटेल की भाषण की जांच करें. अगर पहली नजर में ऐसा कोई मामला बनता है तो उनके खिलाफ देशद्रोह का मामला दर्ज किया जाए.

  • News18
  • Last Updated: September 30, 2015, 10:42 AM IST
  • Share this:

पाटीदार समाज के लिए आरक्षण की लड़ाई लड़ने वाले हार्दिक पटेल की मुश्किलें बढ़ सकती है. गुजरात हाईकोर्ट ने पुलिस को आदेश दिया है कि वह 'क्रांति रैली' के दौरान हार्दिक पटेल की भाषण की जांच करें. अगर पहली नजर में ऐसा कोई मामला बनता है तो उनके खिलाफ देशद्रोह का मामला दर्ज किया जाए.

वहीं पाटीदार नेता हार्दिक पटेल के वकील को चेतावनी देते हुए गुजरात हाईकोर्ट ने आरोप-प्रत्यारोप की राजनीति से बाज आने को कहा है. मंगलवार को बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका पर सुनवाई करते हुए न्यायमूर्ति आरएम शाह एवं केजे ठाकर ने हार्दिक के वकील से कहा कि आगे से इस तरह का आरोप मत लगाओ, जिससे स्थिति बिगड़ने की आशंका हो. कुछ दिन पहले हार्दिक के लापता होने के बाद उनके वकील बीएम मांगुकिया ने रात में हाईकोर्ट में बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका दायर की थी.

अदालत ने आठ अक्टूबर को अगली सुनवाई से पहले उनसे संक्षिप्त शपथ पत्र दायर करने को कहा है. दूसरी तरफ, राज्य सरकार की ओर से पेश महाधिवक्ता कमल त्रिवेदी ने याचिकाकर्ता पर अदालत को गंभीरता से नहीं लेने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा कि एक भी पुलिस अफसर के खिलाफ आरोप सही पाया गया, तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी.



मंगलवार की सुनवाई से पहले पुलिस ने हाईकोर्ट में सुरक्षा के विशेष इंतजाम किए. गुजरात पुलिस के जवानों ने कोर्ट परिसर को चारों ओर से घेर लिया. मुख्य द्वार पर भी अर्धसैनिक बलों को तैनात किया गया है. अदालत की कार्रवाई समाप्त होने के बाद हार्दिक पटेल मेहसाणा के ऊंझा में उमिया माता धाम मंदिर पहुंचे. यहां माता के दर्शन के बाद पाटीदारों में लॉलीपॉप बांटकर सरकार के विशेष आर्थिक पैकेज का विरोध जताया.
आपको बता दें कि बीते 25 अगस्त को हार्दिक पटेल ने पाटीदार आरक्षण की मांग को लेकर अहमदाबाद में 'क्रांति रैली' की थी. इस रैली के बाद गुजरात में कई जगहों पर हिंसा भड़क उठी थी. प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच झड़प में कई लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी थी.

 

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज