वरिष्ठ पत्रकार और पूर्व राज्यसभा सांसद राजनाथ सिंह 'सूर्य' का निधन

राजनाथ सिंह ‘सूर्य’ का जन्म 03 मई 1937 को अयोध्या से के जनवौरा ग्राम में हुआ था. वे एक सामान्य किसान परिवार से थे.

News18 Uttar Pradesh
Updated: June 13, 2019, 12:18 PM IST
वरिष्ठ पत्रकार और पूर्व राज्यसभा सांसद राजनाथ सिंह 'सूर्य' का निधन
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समेत तमाम अन्य लोगों ने दी अंतिम विदाई
News18 Uttar Pradesh
Updated: June 13, 2019, 12:18 PM IST
वरिष्ठ पत्रकार और बीजेपी के पूर्व राज्यसभा सांसद राजनाथ सिंह सूर्य का गुरुवार को लंबी बीमारी के बाद लखनऊ स्थित उनके आवास पर निधन हो गया. वे 84 वर्ष के थे और शरीर में कंपन की बीमारी से ग्रसित थे. उनके निधन पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ ही डिप्टी सीएम डॉ दिनेश शर्मा, चिकित्सा शिक्षा मंत्री आशुतोष टंडन, लखनऊ की मेयर संयुक्ता भाटिया के साथ अन्य वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी और नेता उनके आवास पर पहुंचे और उनको अंतिम विदाई दी.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने वरिष्ठ पत्रकार राजनाथ सिंह 'सूर्य' के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया. उन्होंने कहा कि उनका जाना पत्रकारिता जगत के लिए एक अपूर्णीय क्षति है. दिवंगत के परिजनों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा कि राजनाथ सिंह 'सूर्य' ने हमेशा जन सरोकारों को प्राथमिकता दी.



अयोध्या के रहने वाले थे राजनाथ सिंह 'सूर्य'

राजनाथ सिंह ‘सूर्य’ का जन्म 03 मई 1937 को अयोध्या से के जनवौरा ग्राम में हुआ था. वे एक सामान्य किसान परिवार से थे. उनकी प्रारम्भिक शिक्षा आर्यसमाज के विद्यालय में हुई. गोरखपुर विश्वविद्यालय से 1960 में एमए किया. बचपन से ही आरएसएस के संपर्क में रहने की वजह से वह तत्कालीन प्रान्त प्रचारक भाउराव देवरस की प्रेरणा से संघ के प्रचारक बने.

राजनाथ सिंह सूर्य की फाइल फोटो


बीजेपी के प्रदेश महामंत्री भी रहे

राजनाथ सिंह 'सूर्य' बीजेपी के प्रदेश महामंत्री भी रहे. वह 1996 से 2002 तक राज्यसभा सांसद भी रहे. राजनाथ सिंह ‘सूर्य’ के दो बेटे और एक बेटी हैं. राजनाथ सिंह अपने लेखन के जरिए पत्रकारिता जगत में सक्रिय रहे. वह लगातार समसामयिक मुद्दों पर लेखन के जरिए अपने विचार व्यक्त करते रहे. राजनाथ सिंह सूर्य हिन्दुस्तान समाचार, बहुभाषी न्यूज एजेंसी लखनऊ से पत्रकारिता की शुरुआत की. कई वर्षों तक 'आज' समाचार पत्र के ब्यूरो प्रमुख रहे. 1988 में वह 'दैनिक जागरण' के सहायक सम्पादक बने और बाद में 'स्वतंत्र भारत' के सम्पादक भी रहे.
Loading...

ये भी पढ़ें: आगरा: यूपी बार काउंसिल की अध्यक्ष दरवेश यादव को साथी वकील ने मारी गोली, मौत

दरवेश यादव ने दो दिन पहले ही यूपी बार काउंसिल में रचा था इतिहास

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsAppअपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...