कमलेश तिवारी की हत्या के बाद वसीम रिजवी को मिली थी जान से मारने की धमकी
Lucknow News in Hindi

कमलेश तिवारी की हत्या के बाद वसीम रिजवी को मिली थी जान से मारने की धमकी
कमलेश तिवारी की हत्या के बाद वसीम रिजवी को मिली थी जान से मारने की धमकी

पुलिस के अनुसार, गिरफ्तार हत्यारों में अशफाक ने कमलेश पर चाकू से ताबड़तोड़ वार कर बेरहमी से गला रेता था. अशफाक एक प्रतिष्ठित कंपनी में मेडिकल रिप्रेजेन्टेटिव था. गला रेतने के दौरान उसका भी हाथ जख्मी भी हुआ था.

  • Share this:
लखनऊ. हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी हत्याकांड (Kamlesh Tiwari Murder Case) में गिरफ्तार शेख अशफाक हुसैन और पठान मोइनुद्दीन अहमद के निशाने पर कुछ मुस्लिम चेहरे भी थे. कमलेश तिवारी की हत्या के बाद शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी को भी जान से मारने की धमकी मिली थी. शुक्रवार को वीडियो जारी करके वसीम ने बताया कि श्रीराम मंदिर की पैरवी, मदरसों में आतंकी शिक्षा का विरोध, राम जन्म भूमि पर बनाई गई फिल्म और मोहम्मद साहब की तीसरी पत्नी पर बनाई जा रही फिल्म को लेकर अपराध से जुड़ा मुस्लमान मेरा दुश्मन बन गया है.

कई बार मिली जान से मारने की धमकी 
उन्होंने बताया कि कमलेश तिवारी की हत्या के आधे घंटे बाद मुझे वॉट्सएप पर धमकियां दी गईं. उससे पहले मेरा सिर काटने का फतवा मुंबई के एक मुल्ला ने जारी किया. साथ ही कई बार धमकी भरे फोन भी आ चुके हैं. मैंने इन सभी की जानकारी लखनऊ पुलिस प्रशासन को दे दी थीं. शायद उसकी अभी तक जांच चल रही है.


दिल्ली में अपहरण की कोशिश



वसीम रिजवी कहते हैं कि 19 अक्टूबर यानी कमलेश तिवारी की हत्या के दूसरे दिन दिल्ली में मेरे अपहरण की कोशिश की गई. उसमें भी गुजरात का एक मुसलमान शामिल था. हमने सारी जानकारी जमा करके दिल्ली पुलिस कमिशनर को भेज दी. कट्टरपंथी मुसलमान किसी का गला काटने को इस्लाम की सजा समझते हैं. इसलिए हमेशा वह गला काटने की ही कोशिश करते हैं. उन्होंने कहा कि दुनिया में हैवानों की तरक्की तो देखिए इंसान न बन सके तो मुसलमान बन गए.




अशफाक ने रेता था कमलेश का गला

पुलिस के अनुसार, गिरफ्तार हत्यारों में अशफाक ने कमलेश पर चाकू से ताबड़तोड़ वार कर बेरहमी से गला रेता था. अशफाक एक प्रतिष्ठित कंपनी में मेडिकल रिप्रेजेन्टेटिव था. गला रेतने के दौरान उसका भी हाथ जख्मी भी हुआ था. वहीं, दूसरा आरोपी मोईनुद्दीन फूड डिलेवरी का काम करता था. उसने कमलेश को गोली मारी थी. गुजरात के सूरत से गिरफ्तार तीन साजिशकर्ता राशिद पठान, मौलाना मोहसिन और फैजान ने ही दोनों का ब्रेनवाश कर हत्या के लिए तैयार किया था. एटीएस के डीआईजी ने बताया कि दोनों ही हत्यारोपी तीनों साजिशकर्ताओं से पिछले डेढ़ साल से संपर्क में थे, लेकिन इन्होंने कभी फोन पर बात नहीं की.

अब तक 6 गिरफ्तार

गुजरात एटीएस के डीआईजी हिमांशु शुक्ला ने बताया कि कमलेश तिवारी की हत्या के पीछे पांच लोग शामिल थे, जिसमें से तीन साजिशकर्ताओं को गुजरात पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था. दोनों हत्यारोपियों को भी एटीएस ने गुजरात-राजस्थान बॉर्डर से गिरफ्तार कर लिया. एक अन्य आरोपी की गिरफ़्तारी नागपुर से हुई है, जिसे महाराष्ट्र एटीएस ने पकड़ा है.

रिपोर्ट- मोहम्मद शबाब

 

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading