शिवपाल सिंह यादव ने जारी की सेक्युलर मोर्चा के 9 प्रवक्ताओं की लिस्ट

लखनऊ में श्रीकृष्ण वाहिनी के कार्यक्रम में पहुंचे शिवपाल यादव ने महाभारत का जिक्र करते हुए इशारों ही इशारों में अखिलेश यादव की तुलना कौरवों से कर दी.

News18Hindi
Updated: September 12, 2018, 1:50 PM IST
शिवपाल सिंह यादव ने जारी की सेक्युलर मोर्चा के 9 प्रवक्ताओं की लिस्ट
शिवपाल यादव (फाइल फोटो)
News18Hindi
Updated: September 12, 2018, 1:50 PM IST
2019 लोकसभा चुनाव में सेक्युलर मोर्चा के रास्ते उतरने की तैयारी कर रहे शिवपाल सिंह यादव ने मोर्चा के प्रवक्ताओं की लिस्ट जारी कर दी है. 9 लोगों की इस लिस्ट में कई ऐसे नाम हैं, जिनके खिलाफ अखिलेश यादव ने सीधे कार्रवाई की थी. इस लिस्ट में सपा के पूर्व विधायक शारदा प्रताप शुक्ला का नाम नंबर एक पर है. शारदा प्रताप ​शुक्ला 2017 के विधानसभा चुनाव में टिकट कटने के बाद सपा के विरोध में उतरे थे, जिसके बाद उन्हें पार्टी से बाहर कर दिया गया था.

इनके अलावा लिस्ट में सैयद शादाब फा​तिमा, दीपक मिश्र, नवाब अली अकबर, सुधीर सिंह, प्रोफेसर दिलीप यादव, अभिषेक सिंह आशू, मोहम्मद फरहत रईस खान और अरविंद यादव के नाम शामिल हैं. बता दें समाजवादी सेक्युलर मोर्चा बनाने के बाद शिवपाल सिंह यादव ने मंगलवार को इसे धर्मयुद्ध करार देते हुए कहा है कि जीत सत्य की होती है. इस दौरान शिवपाल ने समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव पर तंज कसते हुए महाभारत और रामायण का भी जिक्र किया. जिसके बाद से समाजवादी पार्टी की रार और आगे बढ़ गई है.

 

ये है पूरी लिस्ट 





लखनऊ में श्रीकृष्ण वाहिनी के कार्यक्रम में पहुंचे शिवपाल यादव ने महाभारत का जिक्र करते हुए इशारों ही इशारों में अखिलेश यादव की तुलना कौरवों से कर दी. उन्होंने कहा कि पांडवों ने कौरवों से पांच गांव मांगा था. मैंने तो सिर्फ सम्मान मांगा था. इस दौरान शिवपाल का दर्द भी छलका. उन्होंने कहा कि वे समाजवादी सेक्युलर मोर्चा के साथ आगे बढ़ेंगे. लंबे इंतजार के बाद यह कदम उठाया. अब कदम पीछे नही खीचेंगे. शिवपाल यादव ने कहा कि उन्होंने नेता जी (मुलायम सिंह यादव) से पूछ कर समाजवादी सेक्युलर मोर्चा बनाया है. यह एक धर्मयुद्ध है, जिसमें जीत धर्म और सत्य की होती है. ये लड़ाई समाजिक परिवर्तन और न्याय की है. असली राजनीति का मतलब सेवा भाव है.

शिवपाल यादव ने कहा, "साथ वही हैं जिनको मैंने ज्यादा नहीं दिया. मैं आपस में नहीं लड़ना चाहता था. हमारे लोग मेरे विरोधी की मदद कर रहे थे.बहुत से लोग बेईमानी से ले गए. कुछ लोग गलत काम करना चाहते थे. जो द्वार पर आए उसे कुछ मिलना चाहिए. मैंने श्री कृष्ण की तरह दे दिया, लेकिन वे सुदामा नहीं निकले."
Loading...
शिवपाल ने कहा, "समाजिक परिवर्तन हो. आदमी दिमाग और शरीर से स्वस्थ होना चाहिए. सत्ता पाने से दंभ आता हैं. कंस को आया था. रावण को मद आया. क्या हुआ? विनाश हुआ. नेता जी के कहने पर राजनीति में आया. नहीं तो खेती करता. नौकरी करता. सालों साल साइकिल चलाता था. चुनाव में महीनों साइकिल चलाया. मैं पैदल स्कूल जाता था. नेता जी और अपने कपड़े धोता था. कभी पद नहीं मांग. 1980 में टिकट मिलता तो जीत जाता. टिकट 1996 में मिला जब नेता जी दिल्ली गए."

शिवपाल ने आगे कहा, "जो महान हुए हैं उन पर संकट पड़ा है. धर्म पर चलने वाले की कभी हार नही होती. अब तो कंस का नाम लेने से पता हो जाता है. आज भी कंस पैदा होते हैं. बहुत कंसहैं. रावण मारा गया और कंस भी मारा गया." बता दें श्रीकृष्ण वाहनी ने शिवपाल यादव का समर्थन किया है. शिवपाल यादव श्रीकृष्ण वाहनी समाजिक संस्था के संरक्षक हैं.

ये भी पढ़ें: 

जानिए किस तरह योगी हिंदुत्व तो केशव पिछड़ों को साधने में जुटे हैं

दिल्ली से सटे इस गांव में 19 दिन से नहीं आई बिजली, लोग पैसे देकर चार्ज कर रहे मोबाइल

बिजनौर: मोहित पेपर मिल का बॉयलर फटा, 6 लोगों की मौत, कई घायल
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर