हार के बाद अखिलेश पर 'मुलायम' हुए पिता, बोले- चाचा शिवपाल की कराओ 'घर वापसी'

News18.com
Updated: June 2, 2019, 9:03 PM IST
हार के बाद अखिलेश पर 'मुलायम' हुए पिता, बोले- चाचा शिवपाल की कराओ 'घर वापसी'
मुलायम सिंह यादव और अखिलेश यादव (फाइल फोटो)

सपा की करारी हार पर पिछले तीन दिनों से लगातार मंथन चल रहा है. मुलायम और अखिलेश के बीच लगातार बैठक चल रही है.

  • News18.com
  • Last Updated: June 2, 2019, 9:03 PM IST
  • Share this:
लोकसभा चुनाव के नतीजों से समाजवादी पार्टी (सपा) को निराशा हाथ लगी है. बसपा से गठबंधन के बाद सपा को उत्‍तर प्रदेश में ज्यादा सीटें मिलने की उम्मीद थी, लेकिन ऐसा नहीं हो सका. सपा के लिए यह कठिन समय है. लगभग पौने दो साल से साइड लाइन चल रहे पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव ने अखिलेश यादव के नेतृत्‍व पर सवाल उठाए हैं.

सपा की करारी हार पर पिछले तीन दिनों से लगातार मंथन चल रहा है. मुलायम और अखिलेश के बीच लगातार बैठक चल रही है. जबकि मुलायम को भी यह महसूस हो चुका है कि सपा की सियासी जमीन पूरी तरह से खिसक चुकी है. कहीं न कहीं इस हार का ठीकरा अखिलेश यादव के सिर फोड़ा जा रहा है.

2014 लोकसभा चुनाव के वक्‍त अखिलेश यादव उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री थे, बावजूद इसके सपा के खाते में केवल पांच सीटें ही आई थीं. 2017 में जब अखिलेश यादव समाजवादी पार्टी के अध्‍यक्ष बने, उस वक्‍त विधानसभा चुनाव में पार्टी के खाते में 403 में से केवल 47 सीटें आईं. वहीं 2019 के लोकसभा चुनाव में बसपा के साथ गठबंधन करने के बावजूद सपा केवल पांच सीटों पर ही कब्‍जा कर सकी. जबकि मुलायम सिंह यादव ने अपने करियर के सबसे कम अंतर (95 हजार वोट) के साथ मैनपुरी से चुनाव जीता.

लोकसभा चुनाव में निराशा हाथ लगने के बाद अखिलेश यादव ने पार्टी के संरक्षक और अपने पिता की ओर रुख किया. अब सपा का सियासी किला पूरी तरह से ध्वस्त हो चुका है. मुलायम ने अखिलेश को सलाह दी कि गैर-यादव नेताओं को पार्टी से फिर जोड़ना शुरू करें साथ ही इस धारणा को खत्‍म करने की कोशिश करें कि सपा यादवों की पार्टी है.

अखिलेश यादव और मुलायम सिंह यादव के साथ विचार-विमर्श के लिए रेवती रमन सिंह, भगवती सिंह, ओम प्रकाश सिंह, मनोज पांडे, अरविंद सिंह गोप, नारद राय और राधेश्‍याम सिंह जैसे वरिष्‍ठ नेताओं को बुलाया जा रहा है.

ये भी पढ़ें: अरविंद केजरीवाल के लिए आसान नहीं है नए गृहमंत्री से तालमेल बैठाना

शिवपाल यादव नाराजगी छोड़कर सपा में हों शामिल
Loading...

मुलायम सिंह चाहते हैं कि पार्टी के वरिष्‍ठ नेता भी निर्णायक फैसला लेने में शामिल हो. साथ ही उन्‍होंने अखिलेश से कहा है कि पिछले दो सालों में जिन नेताओं ने पार्टी छोड़ दी थी, उनकी वापसी सुनिश्चित की जाए. सूत्रों के अनुसार, उन्‍होंने अपने बेटे से शिवपाल यादव की वापसी का रास्‍ता तैयार करने के लिए कहा है.

लगभग दो साल पहले अखिलेश यादव और शिवपाल यादव के बीच शुरू हुआ झगड़ा काफी लंबे समय तक चला. अंत में शिवपाल को अपना कुनबा लेकर सपा से अलग होना पड़ा और उन्‍होंने प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया (PSPL) की स्थापना की. हालांकि इस लोकसभा चुनाव में शिवपाल खुद भी चुनाव हार गए और पार्टी की उपस्थिति दर्ज कराने में भी असफल रहे.



शिवपाल यादव फिरोजाबाद से खुद चुनाव हार गए. साथ ही उनके सभी उम्‍मीदवार जीत से इतना दूर रहे कि कोई दूसरे स्‍थान पर भी नहीं रह सका. सूत्रों के अनुसार, अब शिवपाल ने भी अखिलेश यादव के प्रति अपना रुख नरम कर लिया है.

सपा के एक वरिष्‍ठ नेता ने कहा कि यह चुनाव अखिलेश के साथ-साथ शिवपाल यादव को भी एक सबब दे गया. उन्‍हें इसे महसूस करके कठोर कदम उठाना चाहिए. मुलायम चाहते हैं कि उनका बेटा और भाई फिर से एक साथ आएं.

ये भी पढ़ें: मंत्रालय का जिम्मा लेने से पहले मेनका गांधी से मिलीं स्मृति ईरानी, कही ये बात...

सूत्रों के अनुसार, अखिलेश यादव जल्‍द ही पार्टी कार्यकर्ताओं के लिए अपने दरवाजे खोलेंगे और बिना किसी अप्‍वाइमेंट के उनसे मुलाकात करेंगे. पिछले कुछ समय से सपा मुख्‍लालय सभी के लिए दुर्गम हो गया था.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 2, 2019, 5:48 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...