Mission Paani: बारिश के पानी से मंदिरों के 'कुएं' को जिंदा करने में जुटे लखनऊ के रिद्धि

NAVEEN LAL SURI | News18Hindi
Updated: August 27, 2019, 12:20 PM IST
Mission Paani: बारिश के पानी से मंदिरों के 'कुएं' को जिंदा करने में जुटे लखनऊ के रिद्धि
बारिश के पानी से मंदिरों के 'कुओं' को जिंदा करने में जुटे लखनऊ के रिद्धि

दरअसल गोमती नदी की साफ -सफाई हो या उसमें गिरते गंदे नालों पर रोक की बात, लगातार सूख रहे कुओं का मुद्दा हो या फिर बेतरतीब खुद रहे बोरिंग पंप हो या समर्सिबल पंप. रिद्धि लगातार इसके लिए संघर्ष करते रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 27, 2019, 12:20 PM IST
  • Share this:
राजधानी लखनऊ में लगातार पेय जल संकट (Water Crisis) और धीरे-धीरे भू-गर्भ का गिरता स्तर. लेकिन कुछ लोग ऐसे भी हैं जो हमारे आपके भविष्य के लिए जल के लिए संघर्ष कर रहे हैं. लखनऊ के रहने वाले रिद्धि किशोर गौड़ उनमें से हैं जो हमारे आपकी आने वाली पीढ़ी को पानी मिल सके उसके लिए जद्दोजहद कर रहे है. सुकून की बात यह है कि यहां के रिद्धि किशोर गौड़ जलसंचय के माध्यम से कुओं और जलस्रोतों को जिंदा करने में लगे हैं.

जनता के श्रम और सहयोग से चलाया मिशन 

दरअसल गोमती नदी की साफ -सफाई हो या उसमें गिरते गंदे नालों पर रोक की बात, लगातार सूख रहे कुओं का मुद्दा हो या फिर बेतरतीब खुद रहे बोरिंग पंप हो या समर्सिबल पंप. रिद्धि लगातार इसके लिए संघर्ष करते रहे हैं. वह न किसी से चंदा लेते हैं, न ही प्रशासनिक मदद. बस, जनता के श्रम और सहयोग से मिशन को मुकाम तक पहुंचाने में जुटे हैं. न्यूज18 से बातचीत में रिद्धि गौड़ ने बताया कि पूरे लखनऊ के मंदिरों में कुएं और आसपास के हैंडपंप और बोरिंग फेल हो चुके हैं.

पिता राम किशोर गौड़ की प्रेरणा से जल व पर्यावरण संरक्षण से जुड़े
पिता राम किशोर गौड़ की प्रेरणा से जल व पर्यावरण संरक्षण से जुड़े


कुओं को रिचार्ज करने की विधि

मंदिर में स्थित कुओं रिचार्ज करने के लिए 3 फीट का गड्ढा खोदकर उसकी तली से एक पाइप कुएं के अंदर डाल दिया. कुएं के ऊपर एक जाली लगाई जाती है. उसमें कोयला, गिट्टी और मौरंग होती है. पानी उससे छनकर गड्ढे के अंदर जाता है. नलियों के निकास के आगे एक पत्थर लगा देते हैं, जिससे पानी बाहर न जा पाए. इस विधि से मंदिरों के कुएं रिचार्ज कराए जा रहा है. मंदिर के कुएं में जो नाली का पानी जाता है, वह दूषित नहीं होता है. ऐसे में वह कुआं दूषित नहीं माना जाता है.

इस विधि से मंदिरों के कुएं रिचार्ज कराए जा रहा है.
इस विधि से मंदिरों के कुएं रिचार्ज कराए जा रहा है.

Loading...

गोमती नदी के संरक्षण की मुहिम

रिद्धि बताते हैं कि वह अपने पिता राम किशोर गौड़ की प्रेरणा से जल व पर्यावरण संरक्षण से जुड़े. 30 वर्ष की आयु में साथियों के सहयोग से गोमती नदी के संरक्षण की मुहिम शुरू की. उन्होंने बताया कि बहुत तेजी से विकसित हो रही कलोनी में बहुमंजिला इमारतों की बाढ़ सी आ गई है. इसके चलते पेयजल आपूर्ति के लिए बड़ी संख्या में नलकूपों का निर्माण किया गया है. नलकूपों से हर दिन बड़ी मात्रा में भूजल का दोहन किया जा रहा है. रिद्धि आगे कहते हैं कि भूजल स्तर लगातार गिरता जा रहा है. वहीं सरकारी विभागों को वर्षा जल संचयन पर ठोस नीति बनाकर काम करना चाहिए.

ये भी पढ़ें:

यूपी के बाद अखिलेश यादव ने भंग की समाजवादी पार्टी की दिल्ली इकाई

बुलंदशहर हिंसा: आरोपियों के स्वागत पर बोले केशव प्रसाद मौर्य- राई का पहाड़ न बनाए विपक्ष

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 27, 2019, 12:20 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...