लाइव टीवी

राहुल के घर पर प्रियंका करेंगी कानपुर के कांग्रेस नेताओं के साथ अहम बैठक: सूत्र

News18 Uttar Pradesh
Updated: October 18, 2019, 11:59 AM IST
राहुल के घर पर प्रियंका करेंगी कानपुर के कांग्रेस नेताओं के साथ अहम बैठक: सूत्र
कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा शुक्रवार को कानपुर के कांग्रेस नेताओं से बैठक कर रही हैं.

सूत्रों के अनुसार शुक्रवार को कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) दिल्ली में तुगलक लेन स्थित राहुल गांधी (Rahul Gandhi) के घर पर अहम बैठक करने जा रही हैं. इस बैठक में प्रियंका गांधी कानपुर के कांग्रेस, नेताओं और कार्यकर्ताओं के साथ मुलाकात करेंगीं. दरअसल इस चर्चा को कानपुर जिला अध्यक्ष के चयन से जोड़कर देखा जा रहा है.

  • Share this:
लखनऊ. एक तरफ उत्तर प्रदेश में विधानसभा उपचुनाव (UP Assembly By-Elections) को लेकर सभी पार्टियों ने ताकत झोंक रखी है. वहीं कांग्रेस (Congress) उपचुनाव के साथ संगठन दुरुस्त करने के मोर्चे पर भी तेजी से काम कर रही है. पिछले दिनों कांग्रेस ने यूपी कांग्रेस के नए अध्यक्ष का ऐलान करने के साथ ही 51 जिलों के जिलाध्यक्ष की घोषणा कर दी है. बाकी जिलों को लेकर मंथन का दौर जारी है. सूत्रों के अनुसार इसी क्रम में शुक्रवार को कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी दिल्ली में तुगलक लेन स्थित राहुल गांधी के घर पर अहम बैठक करने जा रही हैं. पता चला है कि इस बैठक में प्रियंका गांधी कानपुर के कांग्रेस, नेताओं और कार्यकर्ताओं के साथ मुलाकात करेंगीं. दरअसल इस चर्चा को कानपुर जिला अध्यक्ष के चयन से जोड़कर देखा जा रहा है. बता दें कांग्रेस ने कानपुर से ऊषारानी कोरी को और कानपुर देहात से नरेश कटियार को जिला अध्यक्ष घोषित किया है.

'होमगार्ड की समस्या को सरकार सुने'

इधर शुक्रवार को ही प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर यूपी सरकार पर हमला किया. उन्होंने लिखा है, "त्यौहार में बच्चों के लिए मिठाइयां, कपड़े, उपहार लेकर माता-पिता पहुंचते हैं. उप्र के 25000 होमगार्ड अपनी परेशानी लेकर त्यौहार के दिन भी प्रदर्शन कर रहे हैं कि सरकार उनकी बात सुने और लिखित में दे कि उनको निकाला नहीं जायेगा. भाजपा सरकार ने इन प्रहरियों के सारे त्यौहार सूने कर दिए."

जिलाध्यक्षों की औसत उम्र 42 साल

बता दें पिछले दिनों यूपी कांग्रेस कमेटी ने उत्तर प्रदेश में जिला व शहर अध्यक्षों के नामों का मंगलवार को ऐलान कर दिया. कुल 51 अध्यक्षों की घोषणा हुई है, जिसमें 47 जिलाध्यक्ष व चार शहर अध्यक्ष हैं. पदाधिकारियों के चयन में सबसे ज्यादा तरजीह युवाओं को मिली है. इसके साथ ही जातीय समीकरण भी साधने की पूरी कोशिश की गई है. इसे कांग्रेस का मिशन 2022 के रूप में देखा जा रहा है. कांग्रेस ने जिला और शहर अध्यक्षों की उम्र में संतुलन बनाया है. एक तरफ नौजवानों को कमान मिली है तो दूसरी तरफ अनुभवशाली कार्यकर्ताओं को भी सम्मान मिला है. जिला और शहर अध्यक्षों की औसत आयु 42 साल है.

जातीय समीकरण पर भी रहा ध्यान
कांग्रेस ने इसके जरिए जातीय समीकरण को साधने की कोशिश की है. जिले और मंडल के जातीय समीकरण को देखते हुए जिला और शहर अध्यक्षों का चयन किया गया है. कुल 51 नामों का ऐलान किया गया, जिसमें 14 फीसदी दलित, 33 फीसदी पिछड़ी जातियों, 35 फीसदी सवर्ण और 18 फीसदी अल्पसंख्यक समुदाय को जिले की कमान सौंपी गयी है. अल्पसंख्यक समुदाय में ज्यादातर पासमांदा जातियों पर फोकस किया गया है. महिलाओं को भी प्रमुखता से जगह मिली है, उनकी भागीदारी लगभग 10 फीसदी है.
Loading...

इनपुट: राजीव तिवारी

ये भी पढ़ें:

CM योगी से मिलीं रायबरेली की कांग्रेस MLA अदिति सिंह, कयासों का बाजार गर्म

पति अजितेश के लिए साक्षी मिश्रा ने रखा पहला करवाचौथ, मां को याद कर हुई भावुक

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 18, 2019, 11:29 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...