• Home
  • »
  • News
  • »
  • uttar-pradesh
  • »
  • मिलकर रहें सपा-बसपा के कार्यकर्ता, यही मेरा बर्थडे गिफ्ट: मायावती

मिलकर रहें सपा-बसपा के कार्यकर्ता, यही मेरा बर्थडे गिफ्ट: मायावती

बसपा प्रमुख मायावती

बसपा प्रमुख मायावती

बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि आजादी के बाद से इस देश में सबसे ज्यादा शासन कांग्रेस ने किया. लेकिन गरीब, पिछड़ों और अल्पसंख्यकों को उनका हिस्सा नहीं मिला. इसी वजह से हमें बसपा का गठन करना पड़ा.

  • Share this:
    बसपा सुप्रीमो मायावती ने अपने 63वें जन्मदिन पर सपा और बसपा कार्यकर्ताओं से दोनों पार्टियों के गठबंधन को सफल बनाने का आह्वान किया है. लखनऊ में मायावती ने कहा, "मैं सपा और बसपा के कार्यकर्ताओं से अनुरोध करती हूं कि वे सभी मतभेदों को भुलाकर देशहित में साथ मिलकर काम करें. साथ ही विपक्षी दलों की कुचक्रों से भी होशियार रहें. यही मेरा बर्थडे गिफ्ट होगा."

    मायावती ने कहा- इस चुनाव में कांग्रेस एंड कंपनी को सबक सिखाएंगे

    मायावती ने कहा, "इस बार मेरा जन्मदिन ऐसे वक्त आया है, जब देश में आम चुनाव होने वाले हैं. हमारी पार्टी ने इस बार लोकसभा चुनाव के लिए सपा के साथ गठबंधन किया है. इसकी वजह से बीजेपी और अन्य विपक्षी दलों की रातों की नींद उड़ गई है. यूपी ही यह तय करता है कि केंद्र में किसकी सरकार बनेगी और कौन प्रधानमंत्री बनेगा?"

    'कांग्रेस शासन में ही बसपा का गठन करना पड़ा'
    बसपा सुप्रीमो ने कहा, "आजादी के बाद से इस देश में सबसे ज्यादा शासन कांग्रेस ने किया. लेकिन गरीब, पिछड़ों और अल्पसंख्यकों को उनका हिस्सा नहीं मिला. इसी वजह से हमें बसपा का गठन करना पड़ा. हाल में पांच राज्यों में हुए विधानसभा चुनाव के नतीजे बीजेपी और कांग्रेस दोनों के लिए एक पाठ है." उन्होंने कहा कि तीन राज्यों में जहां कांग्रेस की सरकार बनी है, वहां किसानों की कर्जमाफी को लेकर उंगलियां उठ रही हैं.

    मायावती ने कहा कि जमीनी हकीकत यही है कि छोटे किसान आज भी प्राइवेट बैंक या महाजनों से लोन ले रहे हैं. किसानों की कर्जमाफी के लिए कोई नीति नहीं है. 70 फ़ीसदी किसान प्राइवेट बैंकों से लोन ले रहे हैं. सरकार को इन किसानों की कर्जमाफी के लिए कदम उठाना चाहिए. अगर सरकार किसानों की मदद करना चाहती है तो उसे स्वामीनाथन आयोग की संस्तुति को लागू करना चाहिए.

    बुलंदशहर हिंसा: जिला प्रशासन ने 3 आरोपियों पर लगाई NSA

    मायावती ने रक्षा सौदों पर भी सवाल खड़े करते हुए कहा कि इस मामले में विपक्ष को भी विश्वास में लेना चाहिए, ताकि भ्रष्टाचार से जुड़े मुद्दों का भी समाधान हो सके.

    मायावती ने कहा कि बीजेपी उन लोगों का समर्थन कर रही है जो समाज को जाति और भगवान के नाम पर बांट रहे हैं. मायावती ने कहा कि सरकार सरकारी मशीनरियों का भी दुरुपयोग कर रही है. वह सीबीआई का भी दुरुपयोग कर रही है, जैसा कि हाल ही में अखिलेश यादव के खिलाफ किया गया. साथ ही मुस्लिमों को उनके जुमे की नमाज से भी रोकने का प्रयास कर रही है.

    ‘मेरा सपना है कि बीएसपी प्रमुख मायावती प्रधानमंत्री बनें’

    सूबे की कानून व्यवस्था पर भी मायावती ने सवाल खड़े किए. उन्होंने कहा कि प्रदेश की कानून व्यवस्था बेपटरी हो गई है. बीजेपी ने जनता के साथ धोखा किया है. उसने किसानों, छात्रों, गरीबों को ठगा है. उनसे किया गया वादा पूरा नहीं हुआ है. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी अपनी रैलियों में बड़े-बड़े वादे कर रहे हैं लेकिन वे भी पहले की तरह कोरे ही साबित होंगे.

    ये 'ठगबंधन' है, पहले भी बीजेपी की गोद में बैठ चुकी हैं मायावती: शिवपाल यादव

    मायावती ने मुस्लिमों को साधने का भी प्रयास किया. उन्होंने कहा, "पहले सरकारी नौकरियों में मुस्लिमों की भागीदारी का औसत करीब 33 प्रतिशत था, जो अब घटकर 2 से 3 प्रतिशत ही रह गया है. मैं गरीबों, पिछड़ों और अल्पसंख्यकों से अनुरोध करती हूं कि वह लोकसभा चुनाव में बसपा और गठबंधन का समर्थन करें."

    एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsAppअपडेट्स

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज