बीजेपी सरकारों के काम की सच्चाई पर चर्चा का समय: अखिलेश यादव

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि बीजेपी राज में देश-प्रदेश पांच साल पीछे चले गए हैं. मंहगाई पर रोक नहीं लगी है. जनता की गाढ़ी कमाई पूंजी घराने लूट रहे हैं.

News18Hindi
Updated: February 15, 2018, 7:45 PM IST
बीजेपी सरकारों के काम की सच्चाई पर चर्चा का समय: अखिलेश यादव
समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव
News18Hindi
Updated: February 15, 2018, 7:45 PM IST
समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने गुरुवार को कहा कि अब समय आ गया है कि सच्चाई पर चर्चा होनी चाहिए. चर्चा हो कि चार साल केंद्र में और एक वर्ष राज्य में सत्तारूढ़ बीजेपी सरकारों ने जनकल्याण के कौन से काम किए हैं? डबल इंजन की सरकारों ने इन 5 वर्षों में सिर्फ चाय पर चर्चा की है. अब चाय पर नही सच्चाई पर चर्चा होनी चाहिए कि देश की इतनी दुर्दशा कैसे हो गई?

अखिलेश ने कहा कि स्थिति यह है कि समाज का हर वर्ग पीड़ित और आक्रोशित है. कानून व्यवस्था की स्थिति बदतर है. किसान बदहाल है और आत्महत्याएं कर रहा है. महिलाओं और बच्चियों तक की इज्जत सुरक्षित नहीं है. व्यापारी, अधिवक्ता, शिक्षक सभी परेशान हैं. चुनाव के समय बीजेपी ने जो वादे किए थे उन्हें भुला दिया गया है? बीजेपी सरकार सच्चाई का सामना करने से कतराती है.

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि बीजेपी राज में देश-प्रदेश पांच साल पीछे चले गए हैं. मंहगाई पर रोक नहीं लगी है. जनता की गाढ़ी कमाई पूंजी घराने लूट रहे हैं. बीजेपी की नीतियां कारपोरेट घरानों के हित में है. देश के 1 प्रतिशत आबादी के के पास 73 फीसद संपत्ति है. भाजपा की नीतियों के फलस्वरूप आर्थिक-सामाजिक गैरबराबरी बढ़ी है.

उन्होंने कहा कि प्रदेश में तो समाजवादी सरकार की योजनाओं को ही अपना नाम देकर चलाया जा रहा है. समाजवादी सरकार में जिन योजनाओं का उद्घाटन किया गया, उनका ही फिर से उद्घाटन कर नेकनामी हासिल की जा रही है. इसलिए बीजेपी सरकार ने जनहित में जिन विषयों की अनदेखी की है. उनकी सच्चाई पर चर्चा होना बहुत जरूरी है. जनता को इससे पता चलेगा कि मन की बात की असली मंशा क्या है?
News18 Hindi पर Bihar Board Result और Rajasthan Board Result की ताज़ा खबरे पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें .
IBN Khabar, IBN7 और ETV News अब है News18 Hindi. सबसे सटीक और सबसे तेज़ Hindi News अपडेट्स. Uttar Pradesh News in Hindi यहां देखें.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर