लाइव टीवी

लखनऊ PGI में बनेगा मेडीटेक पार्क, होगा स्वदेशी आधुनिक मेडिकल उपकरणों का उत्पादन

News18 Uttar Pradesh
Updated: November 29, 2019, 5:30 PM IST
लखनऊ PGI में बनेगा मेडीटेक पार्क, होगा स्वदेशी आधुनिक मेडिकल उपकरणों का उत्पादन
STPI लखनऊ में अत्याधुनिक चिकित्सा उपकरणों का उत्पादन करने में मदद करेगा

इसके तहत स्टार्ट-अप्स स्वदेशी चिकित्सीय उपकरणों का निर्माण करेंगे जो वर्तमान में विदेशों से आयातित उपकरणों की तुलना में श्रेष्ठ गुणवत्ता के होंगे.

  • Share this:
लखनऊ. सॉफ्टवेर टेक्नोलॉजी पार्क ऑफ़ इंडिया (STPI) लखनऊ (Lucknow) के संजय गांधी स्नातकोत्तर संस्थान (SGPGI) में मेडिकल इलेक्ट्रॉनिक्स (Medical Electronics) और हेल्थ इन्फार्मेटिक्स (Health Informatics) के क्षेत्र में स्टार्ट-अप (Start Up) की मदद के लिए मेडीटेक पार्क की शुरुआत करने जा रहा है. इसके तहत स्टार्ट-अप्स स्वदेशी चिकित्सीय उपकरणों का निर्माण करेंगे जो वर्तमान में विदेशों से आयातित उपकरणों की तुलना में श्रेष्ठ गुणवत्ता के होंगे. इस मेडीटेक पार्क की शुरुआत 22 करोड़ की लगत से शुरू होगी जहां 50 स्टार्ट-आपस आने वाले पांच सालों में काम शुरू करेंगे. 18000 वर्ग फुट में बनने वाले इस मेडीटेक पार्क की शुरुआत 2020 के मध्य में होगी.

इसका मुख्य उद्देश्य एक ऐसे केंद्र की स्थापना करना है जो स्वदेशी होने के साथ-साथ ही श्रेष्ठ गुणवत्ता और सस्ती हो. इतना ही नहीं इस मेडीटेक पार्क की शुरुआत होने से विदेशी कंपनियों पर निर्भरता भी कम होगी. एसटीपीआई की यह पहल अत्याधुनिक बुनियादी ढांचा, विश्व स्तरीय प्रयोगशालाएं, परामर्श, विपणन, वित्त पोषण और बहुत कुछ प्रदान करके चिकित्सा इलेक्ट्रॉनिक्स और स्वास्थ्य सूचना विज्ञान के क्षेत्र में प्रौद्योगिकी आधारित स्टार्टअप्स की स्थापना और वृद्धि को प्रोत्साहित करेगी.

मेडिकल उपकरणों के उत्पादन के क्षेत्र में स्टार्ट-अप्स को मदद मिलेगी

एसटीपीआई के महानिदेशक डॉ ओंकार राय ने इस मुद्दे पर बात करते हुए कहा, ' लखनऊ में मीडियाटेक उभरती हुई तकनीकों को बढ़ावा देने के लिए एक मजबूत पारिस्थितिकी तंत्र का निर्माण करेगा, जो कि आरएंडडी, नवाचार और पोषण स्टार्टअप्स को चिकित्सा उपकरण / इलेक्ट्रॉनिक्स और स्वास्थ्य सेवा संबंधी सूचना विज्ञान के क्षेत्र में योगदान करने के लिए मजबूत करेगा. स्वास्थ्य सेवाओं के क्षेत्र में प्रौद्योगिकियों की सीमा को आगे बढ़ाते हुए मेक इन इंडिया और डिजिटल इंडिया जैसी सरकारी पहलों का नेतृत्व करना है."

उन्होंने कहा, “एसटीपीआई ने भारतीय आईटी उद्योग को वैश्विक सॉफ्टवेयर हब में बदलने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है. अब डिजिटल क्रांति के दौर में भारत को सॉफ्टवेयर उत्पादों पर ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता है. देश में तकनीकी स्टार्टअप आंदोलन में तेजी लाने के लिए एक अग्रणी पहल है, जबकि उभरती प्रौद्योगिकियों के क्षेत्रों में अनुसंधान और विकास, नवाचार और आईपीआर निर्माण पर ध्यान केंद्रित कर रहा है."

ये भी पढ़ें:

अयोध्या फैसले के बाद इस बार बाबरी विध्वंस के दिन VHP नहीं मनाएगी शौर्य दिवस
Loading...

विवाह पंचमी को हुआ था राम और सीता का विवाह, इस दिन निकलेगी बारात

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 29, 2019, 5:30 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...