लाइव टीवी

मस्ज़िद के लिए मिली 'ज़मीन' पर फैसले के लिए सुन्नी वक्फ बोर्ड ने बुलाई बैठक

Mohd Shabab | News18 Uttar Pradesh
Updated: February 14, 2020, 6:38 PM IST
मस्ज़िद के लिए मिली 'ज़मीन' पर फैसले के लिए सुन्नी वक्फ बोर्ड ने बुलाई बैठक
ज़मीन को लेकर बैर्ड बैठक में फैसला करेगा सुन्नी वक्फ बोर्ड

उत्तर प्रदेश सरकार ने सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड (Sunni Central Waqf Board) को मस्जिद के लिए 5 एकड़ जमीन देने की घोषणा कर दी है. अब सुन्नी वक्फ बोर्ड 24 फरवरी को बोर्ड की होने वाली बैठक में फैसला करेगा कि उसे जमीन लेनी है या नहीं.

  • Share this:
लखनऊ. यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार (UP Government) द्वारा मस्जिद के लिए ज़मीन देने की घोषणा के बाद ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड (All India Muslim Personal Law Board) इस मामले में क्यूरेटिव पेटीशन दाखिल करने का मन बना रहा है. इस बैठक में सरकार की ओर से मस्जिद के लिए मिली 5 एकड़ जमीन पर सुन्नी वक्फ बोर्ड सदस्यों से चर्चा के बाद निर्णय लेगा कि इस जमीन को कैसे प्रयोग में लाना है, इसके लिए बोर्ड ने 24 फरवरी को सुन्नी वक्फ बोर्ड के दफ्तर में सभी 8 सदस्यों की बैठक बुलाई है.

बैठक में तय होगा सुन्नी वक्फ बोर्ड का रुख
सुन्नी वक्फ बोर्ड की बैठक में तय होगा कि सरकार की ओर से मिली जमीन को लेना है या नहीं और अगर लेना है तो इसपर क्या बनाना है? इसको कैसे प्रयोग में लाना है? सरकार से मिली जमीन पर मस्जिद के साथ किन संस्थानों का निर्माण किया जाए, इस पर भी बैठक में चर्चा होने की संभावना है. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के तहत प्रदेश सरकार ने अयोध्या के रौनाही में सुन्नी वक्फ बोर्ड को 5 एकड़ जमीन दी है.

ज़मीन मिलने पर तय होगी आगे की रूपरेखा

उप्र सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड के चेयरमैन जुफर फारुकी ने अनौपचारिक बातचीत में कहा कि पहले पूर्ण रूप से जमीन हमे मिले तो उसके बाद हम आगे की रूपरेखा तय करेंगे. मिली जमीन पर क्या निर्माण किया जाएगा मस्जिद, हॉस्पिटल, या फिर स्कूल इसपर फैसला बैठक में लिया जाएगा. आपको बता दें कि अभी मौजूदा वक्त में बोर्ड के कुल 8 सदस्य हैं.

बैठक में 2 सदस्य कर सकते हैं विरोध
सुन्नी वक्फ बोर्ड में अध्यक्ष फारूकी समेत कुल 8 सदस्य हैं, जिनमें 2 सदस्य इमरान खान और अब्दुल रज्जाक खान बार काउंसिल से हैं. एक सदस्य मोहम्मद जुनैद सिद्दीकी सरकार की ओर से मनोनीत हैं. विधायक अबरार अहमद के अलावा अदनान फारुख शाह, जुनैद सिद्दीकी और सैयद अहमद अली बोर्ड में शामिल हैं. सूत्र बताते हैं कि बोर्ड के दो सदस्य इमरान खान और अब्दुल रज्जाक खान इस जमीन को लेने का विरोध करेंगे. वो कहते हैं कि शरियत मस्जिद के बदले मस्जिद लेने को मना करती है. हालांकि पिछली बार की तरह चेयरमैन जुफर फारुकी 5 एकड़ जमीन लेने के प्रपोजल को मीटिंग से पास करा ले जाएंगे.ये भी पढ़ें -
सपा सरकार के यश भारती पुरस्कार की जगह अब योगी सरकार देगी ये पुरस्कार
बुर्का वाला बयान देने वाले राज्यमंत्री रघुराज सिंह के बेटे सहित 8 पर दर्ज हुआ डकैती का केस

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लखनऊ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 14, 2020, 6:38 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर