Home /News /uttar-pradesh /

उन्नाव रेप पीड़िता से संबंधित सभी केस दिल्ली ट्रांसफर, CBI को 7 दिन में जांच पूरी करने का आदेश

उन्नाव रेप पीड़िता से संबंधित सभी केस दिल्ली ट्रांसफर, CBI को 7 दिन में जांच पूरी करने का आदेश

जेल में बंद चाचा से मिलने जा रही पीड़िता और उसके परिजन रायबरेली में दुर्घटना के शिकार हो गए थे. अब सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में सख्‍त रुख अपना लिया है. (फाइल फोटो)

जेल में बंद चाचा से मिलने जा रही पीड़िता और उसके परिजन रायबरेली में दुर्घटना के शिकार हो गए थे. अब सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में सख्‍त रुख अपना लिया है. (फाइल फोटो)

सीजेआई रंजन गोगोई, जस्टिस दीपक गुप्ता और जस्टिस अनिरुद्ध बोस की पीठ ने सीबीआई से यह भी पूछा कि पीड़िता की हालत अब कैसी है? क्या उसे दिल्ली लाया जा सकता है? अगर हां तो हम तुरंत आदेश देते हैं कि उसे दिल्ली लाया जाए.

    सुप्रीम कोर्ट ने उन्नाव रेप पीड़िता एक्सीडेंट मामले में गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के दौरान यूपी सरकार को फटकार लगाते हुए कहा कि यह देश में हो क्या रहा है. चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की पीठ ने मामले से जुड़े सभी केस को दिल्ली ट्रांसफर करने और सीबीआई को मामले की जांच 7 दिन में पूरा करने का आदेश भी सुनाया. अब मामले में अगली सुनवाई 2 बजे होगी.

    इससे पहले चीफ जस्टिस ने मामले का संज्ञान लेते हुए सुबह 10.30 सुनवाई शुरू की. इस दौरान चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया (सीजेआई) रंजन गोगोई ने मामले में केंद्र सरकार के सॉलिसिटर जनरल से रिपोर्ट मांगी. इसके जवाब में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी गई है. इसके बाद कोर्ट ने 12 बजे सीबीआई को एक आधिकारी को पेश होने का निर्देश दिया. 12 बजे मामले की फिर सुनवाई शुरू हुई. सीबीआई ने कोर्ट को बताया कि मामले में अब तक चार आरोप पत्र दाखिल हुए हैं. इसके बाद कोर्ट ने रेप मामले से जुड़े सभी केस को दिल्ली ट्रांसफर करने का आदेश दिया. साथ ही सीबीआई से एक्सीडेंट मामले की जांच 7 दिन में पूरा करने को कहा.

    पीड़िता अगर दिल्ली लाने की स्थिति में है तो उसे तुरंत लाएं

    सीजेआई रंजन गोगोई, जस्टिस दीपक गुप्ता और जस्टिस अनिरुद्ध बोस की पीठ ने सीबीआई से यह भी पूछा कि पीड़िता की हालत अब कैसी है? क्या उसे दिल्ली लाया जा सकता है? अगर हां तो हम तुरंत आदेश देते हैं कि उसे दिल्ली लाया जाए. साथ ही हादसे में घायल वकील को भी उचित इलाज मुहैया कराने का आदेश दिया.

    इससे पहले चीफ जस्टिस गोगोई को उन्नाव रेप पीड़िता का लिखा पत्र मिलने में हुई देरी पर सुप्रीम कोर्ट ने नाराजगी जताई थी. सीजीआई की पीठ ने बुधवार को मामले का स्वत संज्ञान लेते हुए रजिस्ट्रार से पूछा था कि 12 जुलाई को लिखा ख़त मंगलवार तक उनके सामने क्यों पेश नहीं की गई.

     

    ये भी पढ़ें: 

    'रेप पीड़िता की तरह मेरा भी एक्सीडेंट करा दिया तो'

    रेप पीड़िता को न्याय के लिए एक दिन के उपवास पर कांग्रेसी

    Tags: Justice Ranjan Gogoi, Lucknow news, Supreme Court, Unnao Gangrape, Up news in hindi

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर